अनिंद्या तोगड़े की चार कविताएं

"...तेरे मेरे वजूद के दरमियां

मुद्दतों का झीना सा पर्दा है

जब उस पर प्रेम लिखा, तो वो आसमां हो गया

जब उस पर लाज लिखा, तो लिहाज़ के तागों से सिल गया

जब उस पर परंपरा लिखा, तो ढ्योड़ी के आगे की लकीर बन गया

जब उस पर सम्भावना लिखा, तो वज़ूद के भीतर की आखरी परत हो गया..."

image

 

अनिंद्या तोगड़े की चार कविताएं

एक

ओढ़ी हुई संपूर्णता

तुम्हारी ही फितरत की तरह
ये शाम घुल रही है
घुल कर .... धुल रही है
एक गीत आकर ले रहा है
गुम होती सिंदूरी लकीरों में, साँस ले रहा है
मैं आँखें मूंदें, किसी उर्दू अदब सा
सिंदूरी साँसों का गीत, संगीत की प्याली में चख रही हूँ
ये गीत मैं, यहीं छोड़ रही हूँ
कुछ किस्सों के अर्ध्य पर
मन के गान को स्वाहा कर रही हूँ
किस्सों को पूर्ण होना है
मन का गीत अधूरा रहना है
अधूरेपन को स्वभाव में समेटे
संपूर्ण हो रही हूँ
दिन के उजास की आखरी नमाज़ सुन रही हूँ
अधूरा घूँट पी रही हूँ
तुम्हारी फ़ितरत की तरह ही
शांत शाम से ढलकर स्याह रात हो रही हूँ
कल के उजाले का स्वप्न आंजे
संपूर्णता के भ्रम में सो रही हूँ
मन के गान का तकियाँ लगा
बाहर के किस्सों की रस्म निभा
गुम होती सिंदूरी लकीरों को ढूंढ़ रही हूँ
तुम्हारी ही फितरत की तरह
शाम की तरह घुल रही हूँ, धुल रही हूँ
ये गीत यूँ ही अधूरा रख रही हूँ
किस्सों के अर्ध्य पर, ओढ़ी हुई संपूर्णता जी रही हूँ ...!!

-----++------

दो

इससे उससे, पता नहीं किससे
उधार माँग कर
पहन लिए थे पंख

चार दिन की मोहलत लेकर
उड़ आई थी, सुदूर आसमान में
इन्द्रधनुष के, थोड़े से रंग लेकर
खोल दी थी मुट्ठी
बिखरा दिए थे रंग, नीले आकाश में
(हमेशा ही चाहती थी ना , रंग-बिरंगा आसमान
घड़ी भर को ही, रंगा था, पर रंगा था )

अब
गुज़र जाने वाले वक्त को आवाज़ दे रही हूँ
और आसमान भी लौट रहा है
नितान्त नीले व्यक्तित्व में
जैसा की मुझसे पहले था, जैसा की मेरे बाद में होगा

अब जबकि , मोहलत खत्म हो रही है, नीलापन भी मेहरबान है
तब मैं खुद को ही मुनासीब नहीं !!

नहीं लौटना चाहती मैं जमीनी हकीक़तों में
उधर के पंख जकड़ लिए है
रंगों की मुट्टी भींच ली है
स्वाभाविक कुछ भी नहीं बचा

सुदूर आकाश में, बादलों से आसमान होने के दंभ में
नीलेपन की बौद्दिकता में, अकेली हूँ

इससे उससे, पता नहीं किससे
उधार माँग कर
पहन लिए थे पंख

मोहलत अब ख़त्म हो रही है !!!

--

तीन

तुम और मैं

--------

तुम और मैं

जैसे की किसी ने

मौन को रंग ओढ़ा दिए हो

और

आखें मींचे मौन

लगातार उन रंगों को जी रहा हो

रंगों की जीवटता को पी रहा हो

अब

ये रंगीन जीवटता

शब्दों की ज़मीन पर

उतर रही है

इस तरह जैसे

पाखी आता हो दूर गगन से

पोखर तक, कतरे की प्यास लेकर

अक्षर मैं सींच रही हूँ,  परवाज़ तुम दे रहे हो

मैं पोखर हो रही हूँ, तुम पाखी बन रहे हो  

असीम तुम, सीमित मैं को चुन रहे हो

सीमित मैं, असीम तुम की संभावनाए बुन रही हूँ

तुम और मैं

पाखी और प्यास हो रहे है

रंग और मौन हो रहे है

तुम और मैं

एक दूजे से, बिल्कुल अलग

एक दूजे से बहुत दूर

एक हो रहे है

तुम और मैं

लगातार

हम हो रहे है

---------------------

चार

तेरे मेरे वजूद के दरमियां

----------

तेरे मेरे वजूद के दरमियां

मुद्दतों का झीना सा पर्दा है

जब उस पर प्रेम लिखा, तो वो आसमां हो गया

जब उस पर लाज लिखा, तो लिहाज़ के तागों से सिल गया

जब उस पर परंपरा लिखा, तो ढ्योड़ी के आगे की लकीर बन गया

जब उस पर सम्भावना लिखा, तो वज़ूद के भीतर की आखरी परत हो गया

इक दफ़े

पर्दे के पार झाँका

दो से चार आँखें जुड़ी

मौन मौन वर्तनी में

खुशबू की भाषा लिखी

फिर यूँ हुआ

आसमां ने सम्भावना के लिहाज़ सिल दिए

रिवायती ढ्योड़ी से पार पाने को पंख दे दिए

दो से चार आँखों में, अनगिनत मुद्दतों को पंख मिल गए

वज़ूद, आसमानी होकर खुशबू हो गए

! ! ! !

 

ईमेल anindhyaa@gmail.com

टिप्पणियाँ

  1. उत्तर
    1. Dhanyawaad Sushma Ji :))

      हटाएं
    2. behtreen....sch me lajwab.
      bilkul naye parteek pryog kiye hain..

      हटाएं
  2. सभी रचनाएँ एक से बढ़ कर एक

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पूनम जी, बहुत बहुत धन्यवाद्

      हटाएं
  3. Heartiest congratulations Anindhyaa. This is not a surprise as it was supposed to be happening, now or later. :)
    A very well composed poems, as usual. :)

    ~Mohit Verma

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Thank you Mohit. You were always there to read me... :))

      हटाएं
  4. akhilesh Chandra Srivastava7:52 am

    Achcha prayas hai. Aasheerwad avm badhaee

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामी1:32 am

    all poems are very nice but "Tere mere vajood k darmiyan" is awesome
    wish ur very good luk for ur bright future

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bahut Bahut DHanyawad Krishna Ji... Benami :)))

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.