प्रमोद यादव के कंप्यूटर-चित्र

 

clip_image002

clip_image004

clip_image006

clip_image008

clip_image010

clip_image012

अपने खींचे फोटो को कंप्यूटर द्वारा पेंटिंग में बदले हैं.प्रयोग है.आशा है, लोग पसंद करेंगे.ऐसे ही पचास चित्रों की मैंने नेहरु आर्ट गैलरी, भिलाई में एक प्रदर्शनी भी लगाई थी

ओरिजनल फोटो ‘इनसेट’ में दिखाया गया है.

टिप्पणियाँ

  1. उत्तर

    1. धन्यवाद्,ओंकारजी.-प्रमोद यादव

      हटाएं
  2. ओंकारजी,धन्यवाद.-प्रमोद यादव

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रमोद जी अत्यंत ही प्रभावशाली चित्र हैं और कंप्यूटर जनित चित्र ओर भी गहरा असर डालते हैं,विशेष कर पहला दूसरा चित्र दिलकश है.पूर्व प्रकाशित रेखा चित्र भी अच्छे लगे.संकलन करने योग्य चित्र/रेखाकंन है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. धन्यवाद चावलाजी, आभारी हूँ आपका.-प्रमोद यादव

      हटाएं
  4. pahla chitra computer effact nahi na ho paya hai....

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.