जसबीर चावला की तीन चित्रमय कविताएँ

 

वे सब कहां गईं

image     

वह तोड़ती पत्थर
इलाहाबाद के पथ पर
कहां है वह
निराला की
कालजयी रचना की
'रचना'
उसे मिलते हैं कम
पत्थर
तोड़ता है अब क्रशर
हर गंाव/शहर
*
अब बबूल की दातुन नहीं बेचती
ख्वाजा अहमद अब्बास की नायिका
हम गर्व से कहते हैं
दातुन नहीं बच्चे भी पेस्ट करते हैं
{पूछता बच्चा दातुन किसे कहते हैं}
*
रेणू/कृश्न चंदर की नायिकाएं
बांसचटाई/सूपड़ा/टोकरी/झाड़ू/डलियाएं
नहीं बनाती/बेचती
प्लास्टिक ने उन्हें बाहर कर दिया
वन से बंास नहीं मिलते
हम भी नहीं खरीदते
{बच्चे नहीं जानते}
*
कभी कदा दिख जाती है
गारोड़िया लुहारन/बंजारन
लोहा कूटती
धोंकनी धौंकती
चूल्हा फूंकती
सड़क किनारे
बिना पते की गाड़ी/घर
के साथ
न जाने किस
महाराणा की आन बान
की रक्षा में
बिता रही
सतत निर्वासन
नहीं जानती
उसके औजार
अब
टाटा बनाता है
यही किसान को भाता है
*
कहां है/किस हाल है
पत्तल/दोने वाली
धुनकी से तुन्न तुन्न कर
रूई पींजने वाली
रशीदा पिंजारन
*
कहां गईं
कहां सबके घरवाले
लगाकर ताले
प्रेमचन्द का होरी
हीरामन/शेलेन्द्र की
'चलत मुसाफिर मोह लिया रे
पिंजरे वाली मुनिया'
गोदान की धनिया
*
लील गया सबको
विकास का बनिया
***



खबर है कि कोई खबर नहीं

image           

केलिफोर्निया/बाली के जंगलो मे भीषण आग
चीन की कोयला खदानों में िवस्फोट
बंगलादेश में भयंकर बाढ़/नौकाओं का डूबना/जलप्लावन
सैकड़ों/हजारों का मरना/लाखों बे घरबार
जापान में भूकंप
हिंद महा सागर में सोमाली डाकूओं द्वारा जहाजों पर हमला
नाविक बंधक/सौदेबाजी/लाखों डालर में रिहाई
घर वालों के आरोप/सरकार की ढिलाई
पेशावर/करांची/बगदाद/ गाजा पट्टी
बसों /स्कूलों /मस्जिदों में/बमों के आत्मघाती हमले
शिया/सुन्नी/अहमदिये/कादियानी मसले
फ्लोरिडा/ ओखलाहोमा में हरिकेन/चक्रवात/तूफान
न्यूयार्क/शिकागो में कई फुट गहरी बर्फ की चादर
खबर क्या है/सबको पता है
रोज की सुर्खियां हैं
अखबारी पन्नो की
बेमन से उड़ती निगाह वाली सुर्खियां
छोड़ो/वहां/यहां/ऐसा ही होता है
होना ही है
कोई संवेदना/स्फुरण/स्पंदन नहीं
सिहरन/उत्सुकता/सहानुभूति नहीं
न मन तनिक रुकता/अटकता/सोचता है
न ही चाय के प्याले में तूफान आता है
**
मेरे देश के हर शहर/गांव मे
हत्या/लूट/बलात्कार/चोरी
डकेती/आगजनी/सीनाजोरी
भारतीय दंड विधान की हर धारा
घट रही हर पल/क्षण
टेक्सचोरी/जांचे/छापे
जांच आयोग
किस किस को नापें
हर वाहन/रेल/टकरानें/ उलटनें के लिये
लू से/शीत लहर/बाढ़/आग से
मरने के लिये
हम अभिशप्त हैं
हर त्रासदी के लिये
**
दिन प्रतिदिन/हर माह/ हर साल
खबरें नहीं
अखबारी कर्मकांड
गढी हुई
प्रायोजित पेड खबरें
एक ही शब्दावली
बेरंग/बेरस खबरें
कब नहीं घटी ये घटनाएं
कल भी/आज भी/कल भी घटेगी
चौंकना कैसा
**
किस किस को याद कीजिये
किस किस को रोईये
आराम बड़ी चीज है
अखबार ढक के सोईये
...?

image

खैंच रे राम्या खैंच



''''''''''''''''''''''''


तलाव चौक
कस्बा खरगोन
खुरदरी/पथरीली नगीं जमीन
देख रहे तमाशबीन
निम्न मध्यमवर्गीय युवक
निर्ममता से खींच/पीट रहा
जमीन पर अधलेटी
महिला के बाल पकड़
घसीट रहा
चीख रही महिला प्रतिरोध में
नहीं जाऊंगी/रहूंगी
तेरे घर
मर जाऊंगी
*
हाथ से आंचल ढंाकती/साड़ी संभालती
लोलुप निगाहों से बचने की
असफल कोशिश करती
बेबस/कातर निगाहों से
ताकती
मदद की अपेक्षा करती
*
अधेड़ वय का एक व्यक्ति
चिल्ला रहा बार बार
मैं ससुर हूं लड़की का
खैंच रे राम्या खैंच
राम्या खैंच
उसे घसीट/खींच
*
किसी एक ने की हिम्मत
उसे रोका/टोका
छोड़ दे उस महिला को
मत मार
तल्खी से बोला अधेड़
आप मत बोलो बाबूजी
बीच में
यह उसकी बीबी है
घर नहीं जा रही/घर छोड़ आई
मरद है यह उसका
हक है उसका
*
चाहे पीटे/मारे/काटे
मरद लुगाई का मामला है
आपका कोई हक नहीं
खैंच राम्या खैंच
खैंच राम्या खैंच
*
बीत गये/कमोबेश
साढे पांच दशक
क्या बदला
'मैं'
तुम/हम/आज भी
चश्मदीद हैं
उस घटना/घटनाओं के
तमाशबीन हैं
चुप हैं
आज भी
ताक रही कातर/सूनी निगाहें
आ रही आवाजें
दांए से बांए से
समाज के हर वर्ग से
हर दिशा से
खैंच रे राम्या खैंच
खैंच.......!


****


टिप्पणियाँ

  1. कविताएँ सभी भावपूर्ण है और मर्म को छूती हैं .
    खासकर अंतिम कविता.बहुत उम्दा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bahut khoob

    * चाहे पीटे/मारे/काटे मरद लुगाई का मामला है आपका कोई हक नह खच राया खच खच राया खच

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अल्पनाजी समाज में पूरी तरह संवेदन शीलता का अभाव है.कम ही लोग पीड़ित या वंचितों के पक्ष में खड़े
    होते हैं. कविताओं ने आपके मर्मज्ञ मन को छुआ,धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.