रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

देवेन्द्र पाठक 'महरूम' के दोहत्थड़ दोहे

बारिश, बिजली, बाढ़ भूकंपन  -भूस्खलन.
किया प्रकृति ने कोप अब नर्क हुआ जीवन.(1)

कुदरत के इस क़हर मेँ राजनीति का खेल.
पदलिप्सा को कब तलक देश सकेगा झेल. (2)

पुण्य- धर्म औ मोक्ष का दकियानूसी मोह.
घर का दीप बुझा गया आया हाथ विछोह.(3)

हुआ बहुत निर्लज्ज अब सत्ता का बर्ताव.
जन मन को है दे रहा नित्य घाव पर घाव.(4)

सेवा मेँ भी चाहती राजनीति अब श्रेय.
पद ,सत्ता- सुख रह गया एक मात्र अब ध्येय (5) 

नदियोँ ने अब छोड़ दी है अपनी मरजाद.
उनका मुक्त प्रवाह हम रहे असीमित बाँध (6) 

हम ही करते प्रकृति से रहे खूब खिलवाड़.
दुष्फल है अतिवृष्टि, भूक्षरण,  विनाशक बाढ़.(7) 

देवभूमि  मेँ जो किया मानव ने दुष्कर्म.
उसका ही प्रतिफल मिला  आहत है हर मर्म.(8)

भूमि नदी, पर्वत, हवा, जल, वन  पेड़, प्रकाश. जी
व जगत के देव ये इनसे प्रगति-विकास. (9)

सुविधाभोगी  हो गया  जब से है इंसान.
तब से ही होने लगी यह धरती श्मशान.(10)

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget