रविवार, 7 जुलाई 2013

श्याम गुप्त के पांच पद

image


ब्रज की भूमि भई है निहाल ।

सुर  गन्धर्व  अप्सरा  गावें नाचें  दे दे  ताल ।

जसुमति द्वारे बजे बधायो, ढफ ढफली खडताल ।

पुरजन परिजन हर्ष मनावें जनम लियो नंदलाल ।

आशिष देंय विष्णु शिव् ब्रह्मा,  मुसुकावैं गोपाल ।

बाजहिं  ढोल  मृदंग मंजीरा  नाचहिं ब्रज के बाल ।

गोप  गोपिका करें  आरती,  झूमि  बजावैं  थाल ।

आनंद-कन्द प्रकट भये ब्रज में विरज भये ब्रज-ग्वाल ।

सुर दुर्लभ छवि निरखे लखि-छकि श्याम’ हू भये निहाल ।।

 

जनमु लियो वृषभानु लली ।

आदि-शक्ति प्रकटी बरसाने, सुरभित सुरभि चली ।

जलज-चक्र रवि-तनया विलसति, सुलसित लसति भली ।

पंकज-दल सम खिलि-खिलि सोहे, कुसुमित कंज अली ।

पलकन पुट-पट मुंदे श्याम’ लखि मैया नेह छली ।

विहंसनि लागि गोद कीरति दा, दमकति कुंद कली ।

नित नित चंद्रकला सम बाढ़हि, कोमल अंग् ढली ।

बरसाने की  लाड  लड़ैती, लाड़न लाड़   पली ।।

 

 

कन्हैया उझकि उझकि निरखै ।

स्वर्ण खचित पलना चित-चितवत केहि विधि प्रिय दरसै ।

जहँ पौढ़ी वृषभानु लली, प्रभु दरसन कौं तरसै ।

पलक पांवड़े मुंदे सखी के, नैन कमल थरकैं ।

कलिका सम्पुट बंध्यो भ्रमर ज्यों, फर फर फर फरकै ।

तीन  लोक  दरसन कौं तरसें,  सो दरसन तरसै ।

ये तो नैना बंद किये हैं, कान्हा  बैननि  परखै ।

अचरज एक भयो  ताही छिन,  बरसानौ  सरसै ।

खोलि दिए दृग भानुलली, मिलि नैन, नैन हरखै।

दृष्टिहीन माया, लखि दृष्टा, दृष्टि खोलि निरखै ।

बिन दृष्टा के दर्श श्याम, कब जगत दीठ बरसै ।।

 

 

कान्हा तेरी वंसी मन तरसाए ।

कण कण ज्ञान का अमृत बरसे, तन मन सरसाये ।

ज्योति दीप मन होय प्रकाशित, तन जगमग कर जाए ।

तीन लोक में गूंजे यह ध्वनि,  देव दनुज मुसकाये ।

पत्ता-पत्ता, कलि-कलि झूमे, पुष्प-पुष्प खिल जाए ।

नर-नारी की बात कहूँ क्या, सागर उफना जाए ।

बैरन छेड़े तान अजानी , मोहनि  मन्त्र चलाये ।

राखहु श्याम’ मोरी मर्यादा, मुरली मन भरमाये ।।

 

 

प्रेम है जग जीवन का सार ।

कहें श्याम सुन सखा, प्रेम ही संसृत का आधार ।

प्रीतिभाव-रत गोप-गोपिका, करें नित्य व्यापार ।

मम वियोग विरहानल तन-मन, दीन्हे कर्म बिसार ।

अज्ञानी जन ब्रज रज जनमे, डूबे प्रेम अपार ।

सखा जाहु गोकुल नगरी कों, अति आभार तुम्हार ।

निर्गुण ब्रह्म ज्ञान कौ ऊधो, दीजो तत्व-विचार ।

विरह-वेदना तन-मन छूटे, भूलें राग, विकार ।

निर्गुण-ब्रह्म को भजें त्याग गुन, श्याम’ प्रीति-व्यवहार ।।

 

  ऊधो ! ब्रह्म ब्रह्म क्या गावै ।

जो हम तुम सब एक ब्रह्म को काकौं योग बतावै ।

ब्रह्म, ब्रहम को क्या उपदेशे काकौं ज्ञान सिखावै ।

ये कान्हा की प्रेम नगरिया प्रेम ही ब्रह्म कहावै ।

योग-गठरिया विरह-अगन ते ऊधो खसकि न जावै।

संदेसौ तुम ज्ञान कौ लाये मन कौ भरम न जावै ।

निरगुन निरगुन कहत फिरौ पर ज्ञान कौ गुन भावै।

श्याम’ प्रेम ही ब्रह्म,ज्ञान,सत,निरगुन,सगुन कहावै ।।

---

डॉ. श्याम गुप्त

drgupta04@gmail.com

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------