रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

जसबीर चावला की कविता - हाउस ऑफ़ स्लेव्स

हाउस आफ स्लेव्स

---------------------------------.

-जसबीर चावला

clip_image001

'हाउस आफ स्लेव्स'

गुलामों का घर

अर्थ यही है अंग्रेजी का

सेनेगल

ओबामा गये जहां

पत्नि मिशेल/बच्चीयां साशा/आलिया संग

अफ्रीकी दौरे में

**

भावुक हो गये

याद कर

उन अत्याचारों को

युरोपियनों/गोरों ने

कभी ढहाये थे

कालों/अश्वेतों पर

**

सत्रहसौ छियत्तर निर्मित

सेनेगल गुलामघर

गुलामो का भण्डार गृह

समन्दर किनारे

गोरी आईसलेंड पर

हालेंड नें रचा

व्यंग देखिये

अश्वेत सेनेगल/अश्वेत गुलाम

आईसलेंड 'गोरी'

**

clip_image003

पुर्तगाल/हालेंड/इंग्लेंड/फ्रांस/स्पेन

सबके गुलामघर

मन्डियां/बाजार

अफ्रीकी देशों में

पकड़े/रखे/खरीदे जाते

अश्वेत/गुलाम

गोरे यूरोप/ अमेरिका

निर्यात के लिये

ताउम्र गुलामी के लिये

मर कर भी

न लौटने के लिये

**

clip_image004

ओबामा ने देखा होगा

आठ गुणा आठ फुट का कमरा

ठूंसे जाते

बीस बीस गुलाम

पीछे हाथ बांध

बाजू/गला बांधने की चेन

बच्चों/ठूंसी औरतों

जवान लड़कियों के

अलग अलग कमरे

जुदा जुदा

परिवार से

**

clip_image006

दासता से मुक्त होती/पीछे छोड़ी जाती

जवान/अश्वेत लड़कियां

चमत्कार से

हो जाती जो गर्भवती

गोरों के बलात्कार से

**

कम वजनी गुलामों

का कमरा

जहां

फिट/मोटे/हो सकें

वे

खा कर

स्टार्च युक्त खाना

जैसे ब्रायलर चिकन/बिजींग डक

को खिलाया/ठूंसा जाता हैं

दाना

वजन बढ़ाने को

आज भी

**

clip_image007

समुद्र की जेट्टी देखी

जहाजों पर चढते गुलाम

मां/बाप/बच्चे

अलग अलग

देशों के लिये

'डोअर आफ नो रिटर्न'देखा

पार कर जिसे कोई लौट नहीं पाया

आंकडे़ देखे/सुने/समझे

डेढ/दो करोड़

असभ्य(?)गुलाम

भेजे गये

सभ्य(?)गोरों के देश

बंधे हाथ

तीन शताब्दियों में

**

जीवन से

मुक्त होते

वे गुलाम

जो कूद पड़ते

डूब जाते/गोली खाते/निवाला बनते

किसी खूंखार शार्क का

जो समन्दर में फेंके बीमार/घायलों को

खाने दौड़ी आती

**

याद आया होगा

ओबामा को

अपना

अश्वेत केन्याई मूल/अतीत

उपन्यास'अंकल टाम्स केबिन'

टाम काका की कुटिया

मार्टिन लूथर किंग

गोलियों से मरे जो

अश्वेत अधिकारों के लिये

**

दिल/आंख भर आई होंगी

बहुत काम बाकी है

करने को

अमेरिका में

अब भी

मानवाधिकारों का हनन

कम नहीं होता

**

मेरे यहां भी

गांव/शहर/देश/आस पास/समाज

मन/व्यवहार में

मौजूद हैं

गुलामघर

**

जाति/वर्ण

लिंग/ऊंच/नीच

नफरत/साम्प्रदायिक

व्यवस्था के गुलामघर

बंधुआ मानसिकता

व्यवस्था

अतीत के खंडहर

ये गुलामघर

****

(जसबीर चावला - chawla.jasbir@gmail.com )

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget