रविवार, 4 अगस्त 2013

सुशील यादव का व्यंग्य : फेंकू किस्म के लोग

फेंकू किस्म के लोग

जब से ‘नमो’ को, दिग्गी काका ने फेंकू कहा है तब से हमने अपने आस-पास के फेकुओं की खबर लेने की सोची।

आम बोलचाल की डिक्शनरी में फेंकू का मतलब वह, जो बात –बेबात लंबी –लंबी डींगे मारता हो। फेंकने का मतलब ये कि ‘हवाई –फायर’ टाइप कुछ कह दो,कहीं न लगे तो बहुत अच्छा ,वरना मिस-फायर का भी अपना एक धौंस होता है ?

मुझे किसी के फेंके हुए किसी चीज में कभी दिलचस्पी नहीं रही। अगले के बेकाम का रहा होगा ,फेंक दिया। उधर क्या देखना ?फिर उसके फेंके का हमारे यहाँ क्या काम ?हम फेंके को कभी उठाने की सोचते भी नहीं।

हमने एक बार एक महंत से,जिन्हें लोग सिद्ध –पुरुष माफिक मानते थे अचानक बिना सन्दर्भ के एक सवाल पूछ लिया ,बाबा आपकी नजर में, जो बिना बात के बात को बढा-चढा कर बताते हैं उन्हें आप क्या कहेंगे ?

बाबा ने सोचा ,हमने जरुर कोई गम्भीर धार्मिक विषय को छेडा है,वे तनिक बाबानुमा हरकत में आए और अपना प्रवचन प्रारंभ किया ,बोले संसार में सभी प्राणियों को बोलने का हक है। जब से ये दुनिया बनी है तब से ही प्राणी सवाक-वाचाल हो गया है। केवल मनुष्य मात्र को ये वरदान है कि वो बोलकर अपनी भावना को दूसरों तक पहुंचा सकता है। अगर तुम्हारे मन में अच्छे विचार हैं तो अच्छी बातें सामने आएगी। सच कहने वाला बड़बोला नहीं होता। केवल कम शब्दों में काम निकल जाता है|

मगर जहाँ असत्य जैसा कुछ है तो उसे सम्प्रेषित करने के लिए तर्कों पर निर्भर होना पड़ता है। ये तो आप सब जानते ही हैं कि, जहाँ तर्को की गुन्जाइश आरंभ हो जाती है वहाँ आपको, बातों की बेल को चढाने के लिए एक से बढ़ के एक सहारे की जरूरत होती है। इस सहारे को आप बिना बात के बात बोल लेते हैं, ये अच्छी बात नइ है।

हमारी ये आदत है कि बाबाओं को जब तक वे निरुत्तर न हो जाए नहीं छोडते| उनको , उनकी ही बातों में लोचा देख के लपेट लेते हैं|

हमने पूछा ,बाबाजी मनुष्य को ये वरदान किस प्रभु ने दिया है, कि वो बोलकर अपनी बात दूसरों तक पहुचा सकता है?

बाबा निरूत्तर थे बोले ;वत्स अगले सत्संग में तुम्हारे प्रश्न को उठाएंगे। वे अपना बाक़ी चौमासा मौन-व्रत में निकाल दिए।

मुझे मेरे प्रश्न का उत्तर मिले जैसा नहीं लगा। मैंने आपने प्रोफेसर मित्र से घटना का जिक्र किया।

वे अपनी राय तुरंत दे डाले। पांच –छह बार ‘फेंकू’ शब्द को जानी लीवर,राजकुमार स्टाइल में दुहराते रहे। फेंकू .....?फेंकू ..... फेंकू यानी .....

क्या बताया? लोकल मीनिंग क्या बताया था ,जो बात –बेबात लंबी डींगे हाकता हो ?

नहीं यार मेरे विचार से ऐसा कुछ नहीं है। वे दार्शनिक मुद्रा में आ गए। प्रोफेसर मित्र की यही खासियत है वे प्रचलित चीज को जैसी वो है वैसे नहीं लेते। वे तुरंत दार्शनिकता की तरफ बढ़ लेते हैं ,इससे उनकी छाप सुनने वाले पर पड़ती है।

वे हट के काम करने में विश्वास रखते हैं, ऐसा उनका मानना है।

मुझे असहज बिलकुल नहीं लगा जब वे ‘फेंकू-प्रजाति’ के प्राणियों का वर्गीकरण अपने हिसाब से करने में उतारू हो गए।

उन्होंने कहा देखो भाई अगर कोई आदमी अमेरिका में रह के आवे और अमेरिका का गुण गाने लगे, उसकी अच्छाइयों का डिंडोरा पीटने लगे तो तुम्हें लगेगा वो फेंक रहा है।

नहीं ,गलत।

सचाई का सपाट बयान जब फेंकने जैसा महसूस होने लगे तो इसमे फेंकने वाले से ज्यादा कसूर, उठाने से इनकार करने वाले पर है।

है कि नहीं बोलो ?

प्रोफेसर के नए तर्क ने हमारी बोलती भले बंद कर दी, मगर फेंकुओं पर से नजरिया नहीं बदला।

हम पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं समझो।

हमें फेंकुओ का विश्वास न करना विरासत में मिला है।

बजाय इसके कि फेंकुओ की बातों में दस –पचास परसेंट घटा कर विश्वास कर लेते, हम समूचे बयान को झूठा समझ लेते हैं।

अखबारों में रोज बयान छपता है ,एक रुपये में ,पांच रुपये में ,बारह रुपये में खाना।

हम फ्लेश-बेक में चले जाते हैं। पचास-साठ का दशक, आपके पास एक रुपया हो तो तोडने वाला नहीं होता था|मजे से छकते तक खाओ, एक का नोट दिखाओ होटल मालिक विनम्रता से कह देता ,कल ले लेंगे जी आप ही का होटल है। वो एक रुपय्या आपको होटल का मालिकाना हक भी दे जाता था। आज तो हजार का नोट एक हज्जाम-धोबी, अपनी दूकान में खड़े-खड़े तोड़ देता है।

सत्तर के दशक में पांच रूपए में दो लोग जीम लेते थे। अस्सी-पचासी तक बारह रूपए हुए तो चिकन-मुर्ग-मुस्सल्लम की तरफ देखा जा सकता था। होटल वाला आपकी हैसियत के माफिक अपना बिल एडजेस्ट कर लेता था। वो एक-आध बोटी भले कम कर ले, अपना ग्राहक नहीं छोड़ता था।

आज कोई भूले से कोई कह दे कि इतने पैसों में कोई खा सकता है तो उन अमीरों के जैसा बयान लगता है कि, खाने को जिन्हें रोटी नहीं वे ब्रेड क्यों नहीं खा लेते ??

हमारे-उनके दादाजी/दादीजी वाला किस्सा, हर दो-तीन फेमली मेंबर के मिलने पर चालू हो जाता है।

हमारे दादाजी अंग्रजों के जमाने में लोहे के चने चबा लिया करते थे| अरे ये तो कुछ नहीं, हमारे दादाजी जिसमें वे बंधे रहते थे पूरे सांकल ही चबा डालते थे। बोलने वाले को शायद दादा के खुरापाती इतिहास का पता नहीं होता, कि किस कारण उनको सांकल में बाँध के रखना पड़ता था ? वे तो बस एक हिस्से को आगे बढ़ाते रहते हैं।

हमारी दादीजी बटुए में चवन्नी ले के जाती थी और बैल गाड़ियों में उस जमाने में सब्जी ले आती थी।

उस ज़माने का उनका फेमली फोटोग्राफ मेरा देखा हुआ है| सब के सब मरियल टी.बी पेशेंट माफिक लगते हैं ,अगर सही पोषण होता तो चार- छह पैक वाले भी एक-आध तो दिखते ?

ये लोग सुनी –सुनाई बातों को पीढ़ी-दर-पीढ़ी फेंकते हुए कभी थकेंगे या नहीं ? पता नहीं ?

---

सुशील यादव

श्रिम सृष्टि ,सन फार्मा रोड

अटलादरा,वडोदरा ३९००१२

mob:09426764552

1 blogger-facebook:


  1. बहुत मजा आया पढके कि आजकल तो हजार रूपये का नोट हज्जाम-धोबी खड़े-खड़े तोड़ देता है..बधाई..-प्रमोद यादव

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------