शुक्रवार, 20 सितंबर 2013

विकास सोनी की लघुकथा - चंदा

clip_image002

 

लघुकथा - चंदा 

मीना आंटी जो मकान मालिक हैं और ऊपर के मकान में रहती हैं , उन्होंने नीचे का कमरा किराए से दे रखा हे, अभी  किरायेदार की पत्नी नीलम के साथ बातें करने में व्यस्त हैं ।

दरवाजे पर दस्तक हुई ।  नीलम ने दरवाजा खोला ।

" गणेश स्थापना का चंदा दीजिए " एक साथ आए करीब पंद्रह लड़कों में से एक ने कहा ।

नीलम ने उन्हें 21 रुपये दिए ।

"ऊपर कहाँ जा रहे हो ?" मीना आंटी की चिल्लाने की आवाज़ उन लड़कों के कानों में गूँज गई ।

"चंदा लेने" एक लड़के की तरफ से जवाब मिला ।

"अरे दोनों घर एक ही हें , उपर का चंदा भी इसी में आ गया है  । "

और फिर दरवाजा बंद हो गया ।

..........

- विकास सोनी

रायपुर , छत्तीसगढ़

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------