गुरुवार, 14 नवंबर 2013

गोवर्धन यादव की कहानी - ये रात फिर न आएगी

clip_image002 ये रात फ़िर न आएगी. clip_image004

( एक लोककथा पर आधारित)

शरद पुर्णिमा का दिन था. चांद अपने पूरे यौवन के साथ आकाश पटल पर चमचमा रहा था. मौसम बडा सुहाना हो गया था. रात के बारह बजे सारा जंगल आराम से सो रहा था. चारों ओर शांति का साम्राज्य था. पॆड की एक डाल पर बन्दर और बन्दरिया बैठे जाग रहे थे और दूसरी डाल पर तोता और मैना बैठे हुए थे. यह वह समय था जब पशु-पक्षी एक दूसरे की भाषा समझते थे.

तोता बोला:-“मैना, रात नहीं कट रही है. कोई ऎसी बात सुनाओ कि वक्त भी कट जाए और मनोरंजन भी हो.” मैना मुस्कुराई और बोली:-“ क्या कहूँ आप बीती या जगबीती. आप बीती में भेद खुलते हैं और जगबीती में भेद मिलते हैं”. तोता होशियार था, बोला-“ तुम तो जगबीती सुनाओ”. मैना ने कहा:-“ आज की रात एक चमत्कारी रात है. आज ही के दिन चन्द्रमा से अमृत बरसेगा. अमृत की कुछ बूंदे कमलताल में भी गिरेगी, जिससे इसका पानी चमत्कारी गुणॊं से युक्त हो जाएगा. यदि कोई प्राणी आधी रात को इस कमलताल में कूद जाए तो आदमी बन जाएगा.”. तोता बोला, क्या सचमुच में ऎसा हो सकता है”. मैना ने कहा:”जो प्रेम करते हैं, वे सवाल नहीं पूछते, भरोसा करते हैं”.तोते ने मैना से कहा “ तो फ़िर देर किस बात की. चलो हम दोनो तालाब में कूद पडते हैं और आदमी बन जाते हैं”. मैना ने कहा,” अरे तोता, हम पंछी ही भले. अभी तू आदमी के फ़ेर में नहीं पडा है, इसलिए चहक रहा है. हम अपनी ही जात में बहुत खुश हैं”

तोता-मैना की बातें बन्दर और बन्दरिया ने सुनी तो चौंक पडॆ. अधीर होकर बन्दरिया ने बन्दर से कहा-“साथी आओ..कूद पडॆं.” बन्दर ने अंगडाई लेते हुए कहा-“अरे छॊड रे सखी, हम ऎसे ही खुश हैं. एक डाल से दूसरी और दूसरी से तीसरी पर छलांग मारते रहते हैं. पेडॊं पर लगे मीठे-मीठे फ़ल खाकर अपना गुजर-बसर करते हैं. न घर बनाने की झंझट और न ही किसी बात की चिन्ता. हमें क्या दुख है. अपने दिमाक से आदमी बनने का ख्याल निकाल दे”. बन्दरिया आह भर कर बोली-“ ये जीवन भी कोई जीवन है? मैं तो तंग आ गई हूँ इस जीवन से. मुझे यह सब करना अच्छा नहीं लगता. आदमी की योनि में जन्म लेकर मैं दुनियां के सारे सुख उठाना चाहती हूँ . देखो, मैंने अपना मन बना लिया है और मैं अब तालाब में कूदने जा रही हूँ. यदि तुम मुझसे सच्चा प्यार करते हो तो मेरा साथ देना होगा. मैना की बताई घडी बीतने वाली है, सोच क्या रहे हो, आओ पकडॊ मेरा हाथ और कूद पडॊ”. बन्दरिया की बात सुनकर बन्दर हिचकचाने लगा. बोला-“ तुम भी मैना की बातों में आ गयी. पानी में तो कूद पडेंगे, लेकिन किसी जहरीले सांप ने काट लिया तो मुफ़्त में जान चली जाएगी”. बन्दरिया समझ गयी कि बन्दर साथ न देगा. घडी बीतने ही वाली थी. बन्दरिया चमत्कार देखने के लिए उत्सुक थी, झम्म से कमलताल में कूद पडी. आश्चर्य, बन्दरिया की जगह वह सोलह साल की युवती बन गई थी.

उसके रुप से चांदनी रात जगमगा उठी. डाल पर बैठे बन्दर ने जब उसका अद्भुत रूप देखा तो पागल हो उठा. उसने तत्काल फ़ैसला लिया कि वह भी कमलताल में कूदकर आदमी बन जाएगा. उसने डाल से छलांग लगाया और तालाब में कूद पडा, लेकिन वह शुभ घडी कभी की बीत चुकी थी. वह बन्दर का बन्दर ही बना रहा. दिन निकला. थर-थर कांपती युवती, सूरज की गुनगुनी धूप में अपना बदन गर्माने लगी थी. तभी संयोग से एक राजकुमार उधर से आ निकला. उसने उस रुपवती युवती को देखा तो बस देखता ही रह गया. उसने अपने जीवन में इतनी खूबसूरत युवती इसके पहले कभी नहीं देखा थी. देर तक अपलक देखते रहने के बाद, वह उसके पास पहुँचा और अपना उत्तरीय उतारकर उसके कंधो पर डाल दिया. फ़िर अपना परिचय देते हुए कहा :-हे सुमुखी...सुलोचनी..मैं इस राज्य का राजकुमार हूँ और शिकार खेलने के लिए इस जंगल में आया हूँ. इससे पहले मैंने तुम्हें यहाँ कभी नहीं देखा. तुम्हें देखकर यह नहीं लगता की तुम इस लोक की वासी हो. हे ! त्रिलोकसुन्दरी बतलाओ, तुम किस लोक से इस धरती पर अवतरित हुई हो और तुम्हारा क्या नाम है ?”.

एक अजनबी और बांके युवक को सामने पाकर वह शर्म से छुईमुई सी हुई जा रही थी. शरीर में रोमांच हो आया था. सोचने –समझने की बुद्धि कुंठित सी हो गई थी. वह यह तय नहीं कर पा रही थी कि प्रत्युत्तर में क्या कहे.? क्या उसे यह बतलाए कि कुछ समय पूर्व तक वह बन्दरिया थी और अर्धरात्रि में इस कमलताल में कूदने के बाद, एक सुन्दर-सुगढ युवती बन गई है? देर तक नजरें नीचे झुकाए वह मौन ओढे खडी रही थी.

राजकुमार ने दोनों के बीच पसरे मौन को तोडते हुए कहा:-“ मैं भी कितना मुर्ख हूँ, जो ऎसे-वैसे सवाल पूछ बैठा. मुझे यह सब नहीं पूछना चाहिए था. देवी माफ़ करें. मेरी एक छॊटी सी विनती है, उसे सुन लीजिए. तुम्हारी यह कमनीय काया जंगल में रहने योग्य नहीं है. तुम्हारे ये नाजुक पैर उबड-खाबड और कठोर धरती पर रखने लायक नहीं है. फ़िर जंगल के हिंसक पशु तुम्हें देखते ही चट कर जाएंगे. मैं नहीं चाहता कि तुम उनका शिकार बनो. तुम्हें तो किसी राजमहल में रहना चाहिए. तुम कब तक इस बियाबान जंगल में यहाँ-वहाँ भटकती रहोगी. मेरा कहा मानो और मेरे साथ राजमहल में चली चलो. मैं दुनिया के सारे वैभव, सुख-सुविधाएँ तुम्हारे कदमों में बिछा दूँगा. तुम्हें अपनी रानी बनाकर रखूँगा. पूरे राजमहल में तुम्हारा ही हुक्म चलेगा. देर न करो और चली चलो मेरे साथ”.

“शायद सच कह रहे हैं राजकुमार, अब यह कमनीय काया जंगल में रहने लायक नहीं रह गई है. उसे यह भी नहीं भूलना चाहिए कि अब वह बन्दरिया नहीं, एक नारी बन गई है और एक नारी को अपना तन ढकने के लिए कपडॆ चाहिए, फ़िर तन सजाने के लिए आभूषण चाहिए. अब वह पॆड पर नहीं रह सकती. उसे रहने को घर चाहिए और भी वह सब कुछ चाहिए,जिसकी सुखद कल्पना एक नारी करती है. यह ठीक है कि उसका मन अब भी अपने प्रिय में रम रहा है, लेकिन वह उसकी आवश्यक्ताऒं की पूर्ति नहीं कर सकता. उसे तो अब चुपचाप राजकुमार का कहा मानकर उसके साथ हो लेना चाहिए इसी में उसकी भलाई है”. यह सोचते हुए उसने राजकुमार के साथ चलने की हामी भर दी थी. घोडॆ पर सवार होने के पहले उसने अपने प्रिय को अश्रुपुरित नेत्रों से देखा और हाथ हिलाकर बिदा मांगी.

बन्दर ने देखा कि उसकी प्राणप्रिया राजकुमार के साथ जा रही है, तो उसने उन दोनो का पीछा किया. कहाँ घोडॆ की रफ़तार और कहाँ बन्दर की दुडकी चाल. भागता भी तो बेचारा कितना भागता.? दम फ़ूलने लगा था. आँखों के सामने अन्धकार नाचने लगा और अब मुँह से फ़ेस भी गिरने लगा था आखिरकार वह बेहोश होकर गिर पडा.

संयोग से उधर से एक महात्मा निकल रहे थे. वे सर्वज्ञानी थे. बन्दर को देखते ही सारा माजरा समझ गए. उन्होंने अपने कमण्डल से पानी लेकर उसके मुँह पर छींटॆ मारे. बन्दर को होश आ गया. होश में आते ही बन्दर फ़बक कर रो पडा और उसने महात्माजी से अपना दुखडा कह सुनाया. महात्मा ने उसे धीरज बधांते हुए कहा कि तुम्हें अपने साथी पर भरोसा करना चाहिए था. यदि तुम भरोसा करते तो ये दिन न देखने पडते. खैर जो होना था, सो हो चुका. अब तुम किसी मदारी के साथ हो लो. कुछ दिन बाद तुम्हें तुम्हारी प्रियतमा मिल जाएगी.

संयोग से उधर से एक मदारी आ निकला. उसने बन्दर को पकड लिया. अब वह गाँव-गाँव, शहर-शहर करतबें दिखलाता घूमने लगा. एक दिन वह उस राज्य में जा पहुँचा. नियमानुसार उसे राजमहल जाकर अपनी कला का प्रदर्शन करना था. रस्सी से बंधे अपने प्रेमी को देखते ही वह खुशी से उछल पडी. उसने मदारी को पास बुलाया और मुँहमांगी कीमत देकर खरीद लिया. अब वह दिन भर उसके साथ बना रहता. वह जहाँ-भी जाती, उसे अपने साथ ले जाती. रसीले मीठे-मीठे फ़ल खिलाती. खूब बतियाती. उसे खिला-खिला देखकर राजकुमार की आशा बलवती होने लगी थी कि साल बीतते ही वह उसके साथ शादी रचा लेगी. देखते ही देखते पूरा साल कब बीत गया किसी को पता ही नहीं चल पाया.

पूनम की वह अनोखी रात का दिन भी आ गया. चांद अपने पूरे यौवन के साथ आकाश पटल पर चमचमा रहा था. उस समय कमलिनी अपने प्रेमी बन्दर के साथ अटारी पर बैठी हुई थी. दोनो प्रेमी गले में हाथ डाले उस अद्भुत रात का आनन्द उठा रहे थे. संयोग से तोता-मैना कहीं से उडते हुए आए और राजमहल की अटारी पर बैठ गए. तोते ने मैना से कहा:-कितनी सुहानी रात है. ऎसी रात में भला किसे नींद आती है. तुम कोई बात सुनाओ, जिससे समय भी कट जाए और मनोरंजन भी हो”.. मैना बोली:-“ आप सुनाऊँ या जगबीती. आप सुनाने में भेद खुलते है और जगबीती सुनाने में भेद मिलते है” तोता होशियार था बोला:-“तुम तो जगबीती ही सुनाओ”.

मैना बोली:-“ तुम्हें याद है अथवा नहीं, यह तो मैं नहीं जानती. बात पिछले साल की है. ऎसी ही चमत्कारी रात थी. उस दिन एक पेड की डाल पर बन्दर और बन्दरिया जाग रहे थे. मनुष्य़ तन पाने के लिए बन्दरिया पानी में कूद पडी और देखते ही देखते एक सुन्दर युवती में बदल गयी थी. बन्दर ने जब यह चमत्कार देखा तो वह भी पानी में कूद पडा था,लेकिन वह अद्भुत घडी बीत चुकी थी. वह बन्दर का बन्दर ही बना रहा. संयोग से युवती बनी बन्दरिया को उसका पुराना प्रेमी मिल तो गया है लेकिन अलग-अलग योनियों में जन्म लेने से उनका मिलन संभव नहीं हो सका. आज की रात भी अद्भुत रात है. ऎसी अनोखी रात फ़िर कभी नहीं आएगी. यदि कोई आधी रात के समय कमलताल में कूद पडॆं, तो मनचाही योनि प्राप्त कर सकते हैं.” इतना कहकर दोनों उड गए.

तोता और मैना की बातें सुनकर बन्दर बहुत खुश हुआ. उसका अपना मनोरथ शीघ्र ही पूरा होगा, यह सोचकर वह खुशी के मारे वह उछल-उछलकर नाचने लगा. उसे उछलता-कूदता देख कमलिनी को बेहद आश्चर्य हो रहा था. उसने पूछा कि आखिर क्या बात है जो इतना उछल-कूद कर रहे हो. बन्दर ने चहकते हुए कहा:- “सुना तुमने, मैना क्या कह रही थी”.

“क्या कह रही थी मैं भी तो सुनूं?” कमलिनी ने पूछा.

´” कह रही थी कि यदि कोई इस कमलताल में कूद पडॆ तो मन चाही योनि प्राप्त कर सकता है. मैं चाहता हूँ कि तुम कमलताल में कूद पडॊ और फ़िर से बन्दरिया बन जाओ. इस तरह हमारा फ़िर से मिलन हो सकता है.” बन्दर ने अति उत्साहित होते हुए कहा.

उसकी बात सुनते ही वह खिलखिलाकर हंस पडी और तब तक हंसते रही थी, जब तक बेदम नहीं हो गयी थी. बन्दर समझ नहीं पा रहा था कि उसके हंसने के पीछे क्या कारण हो सकता है. उसने अधीर होकर उसका कारण जानना चाहा.

“तुम्हारी बेवकूफ़ी भरी बातों को सुनकर केवल हंसा जा सकता है और मैंने वही किया है. सच कहा है कि किसी ने बन्दर होते ही बेवकूफ़ हैं. उनमें अकल केवल इतनी सी होती है...इतनी सी. उसने अपनी तर्जनी के पोर पर अपना अंगूठा रखते हुए कहा था. तुम मुझे सलाह देने वाले कौन होते हो कि मैं कमलताल में जाकर कूद जाऊँ और बन्दरिया बन जाऊँ और पेट की भट्टी की आग को बुझाने के लिए तुम्हारे साथ जंगल-दर-जंगल भटकती रहूँ. आज मेरे पास क्या नहीं है. धन है, दौलत है, राजमहल है, नौकर-चाकर हैं और इससे भी बढकर मुझ पर अपनी जान छिडकने वाला वाला राजकुमार है, जो आज नही तो कल इस राज्य का राजा बन जाएगा और मैं महारानी. अरे बुद्धु....मानव तन बडी मुश्किल से मिलता है. मैं इतनी बेवकूफ़ नहीं कि तुम्हारे खातिर, फ़िर उसी योनि में चली जाऊँ.? जरा ठंडॆ दिमाक से सोचो, तुम और मैं साथ-साथ तो है, भले ही तुम बन्दर की योनि में हो, इससे क्या फ़र्क पडता है अतः मेरी मानो मेरे साथ बने रहो, अच्छा खाओ-पियो और ऎश करो और एक कोने में पडॆ रहो.”कमलिनी ने कहा.

कमलिनी की बातें सुनकर उसका माथा चकराने लगा था. उसने सपने में भी नहीं सोचा था कि वह इस तरह से उसके प्यार को ठुकरा देगी. उसे गुस्सा भी बहुत आ रहा था, लेकिन वह जानता था कि गुस्सा करने से विवेक बोथरा हो जाता है और फ़िर बनता काम भी नहीं बन पाता. यह सच है कि वह अब भी उससे उतना ही प्यार करता है, जितना की वह पहले भी करता आया था और हर हाल में उसका साथ छोडना नहीं चाहता था. अब वह अपने खोए हुए प्यार को पुनः प्राप्त करना चाहता था. अब उसका दिमाक काफ़ी तेजी के साथ उस ओर सोचने पर मजबूर हो गया था,जिससे वह कमलिनी को पा सकता है.

काफ़ी सोचने और विचार करने के बाद उसके दिमाक में एक योजना आयी,जिसके बल पर वह सफ़ल हो सकता था.

वह राजकुमार के पास जा पहुँचा और निवेदन करते हुए कहने लगा:-“राजकुमारजी, मैं जानता हूँ कि आप कमलिनी से बेहद प्यार करते हैं और उससे शादी भी करना चाहते हैं. वह भी कुछ ऎसा ही चाहती है,लेकिन उसे आपकी यह सूरत अच्छी नहीं लगती, इसलिए उसने आपसे एक साल बाद विवाह करने की बात कह कर, आपके प्रस्ताव को टाल दिया था. मैं एक ऎसा उपाय जानता हूँ,जिससे आप अपना चेहरा सुन्दर बना सकते हैं.” इतना कहकर वह चुप हो गया था और इस बात का इंतजार करने लगा था कि उसकी बातॊं ने राजकुमार पर कितना असर डाला है.

राजकुमार को लगा कि बन्दर शायद ठीक ही कह रहा है. उसने अधीर होकर बन्दर से उस उपाय के बारे में विस्तार से जानना चाहा. बन्दर ने एक सांस में सारी योजना कह सुनाई.

दोनो मध्य रात्रि में पहाड की उस चोटी पर जा पहुँचे ,जहाँ से उन्हे कमलताल में छलांग लगानी थी. अब बन्दर ने राजकुमार से कहा:-“ आप अपनी आँखें बंद कर लीजिए और हाथ जोडकर प्रार्थना करते हुए उन वाक्यों को दुहराते जाएं जैसा कि मैं कहता जाऊँ”.

राजकुमार ने अपनी आँखें बंद कर ली और प्रार्थना की मुद्रा में अपने हाथ जोड लिए. बन्दर ने कहना शुरु किया:-“ हे प्रभु ! आपने नारद मुनि को हरि का रुप दिया था, कृपया वही रुप मुझे देने की कृपा करें”.बन्दर के कहे वाक्यों को दुहराते हुए राजकुमार ने ताल में छलांग लगा दिया. अब बन्दर की बारी थी. उसने कमलताल में कूदने से पहले कहा कि वह राजकुमार बनना चाहता है,कहकर कूद पडा. आश्चर्य राजकुमार बन्दर बन गया था और वह राजकुमार.

राजकुमार ने जब अपना बदला रुप देखा तो फ़ूट-फ़ूटकर रोने लगा. बन्दर से राजकुमार बने युवक ने कहा:-“ अब रोने धोने से कुछ होने वाला नहीं है. आपने जो रुप मांगा था, वह आपको मिल गया है. अब केवल एक ही उपाय शेष है कि या तो आप मेरे साथ राजमहल चला चलें अथवा जंगल की ओर निकल जाएं.

--

103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-246651,9424356400

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------