सोमवार, 4 नवंबर 2013

शकुन्तला यादव की दीप-पर्व की कविताएँ



(1) पग-पग दीप जलाये हैं
                  पग-पग  दीप  जलाये  हैं
                  फिर भी ठोकर खा ही जाती हूँ
                  ये पैंजन सारे की सारे भेद
                  पल भर में खोल जाते  हैं
                                          कहा  कई है बार नटवर से
                                          कि   इतनी   रात    बीते
                                          न  छेडा  कर  तान   अपनी
                               कि मैं हो  जाऊँ अधीर बावली    
   
                  कालिंदी   के  तट     पर
                  न   जा   किस झुरमुट में
                  छिपकर करते आँख मिचौनी    
                  मालुम कितनी व्याकुल होती हूँ मैं            
                  और भर  आते नयना पलभर में
                                       
                                          फिर चुपके - चुपके  आकर
                                          मुझको वे बांहो  में भर लेते
                                          सहमी-सहमी सी रह जाती मैं
                                          सारा  की  सारा गुस्सा पीकर

                  बाँहों  के  बंधन   का  सुख
                  कितना प्यारा-प्यारा तू क्या जाने
                  पहरे  बीत  जाती पल  में
                  और मन ही  मन  रह  जातीं
                  कितनी   ही सारी   बातें
               
                              सखी-य़े दीपावलियाँ  कितनी  प्यारी-प्यारी
                              न जाने  कितना  तम  हर लेती हैं
                              ऎसे ही उस नटवर की मधुर स्मृति
                              कितने अलौकिक स्वपन दिखा जाती है
                              फिर समझ नहीं मुझको ये पडता है
                              ये जग मुझे क्यों बावरी-बावरी कहता है
         

(2) जल जल दीप जलाए सारी रात
           
               जल  जल  दीप   जलाये सारी  रात
                   हर गलियाँ सूनी सूनी
                   हर छोर अटाटूप अंधेरा
                                  भटक न जाये पथ  में
                                  आने वाला हमराही मेरा

                          झुलस- झुलस   दीप जलाये  सारी  रात
                                  घटायें जब घिर-घिर आती
                                  मेरा  मन  है   घबराता
                                  हा-दिखता नहीं कोई सहारा
                                        क्षित्तिज मे   आँख लगाये
                                  हर क्षण तेरी इन्तजारी में

                           सिसक-सिसक   दीप   जलाये सारी   रात

                                   आशाओ की पी पीकर खाली प्याली
                                   ये  जग  जीवन  रीता   है
                                   ये जीवन बोझ कटीला  है
                                   राहों के शूल  कटीले   है
                                   तिस पर यह चलता दम भरत्ता है

                            तडफ़  तडफ़्र    दीप  जलाये  सारी  रात

                                    लौ ही दीपक का जीवन
                                    स्नेह में ही स्थिर जीवन
                                    बुझने को होती है रह रह
                                    तिस पर आँधी शोर मचाती
                                    एक दरस को अखिंयां अकुलाती
                       
                          जल  जल  दीप  जलाये   सारी    रात
     

(३) दीप गीत

                                             
                  सखी री.........
                  एक दीप बारना तुम
                  उस दीप के नाम
                  जिस दीप के सहारे
                  हम सारे दीप जले हैं
                                    सखी री........
                  सखी री..
                  दूजो दीप बारियो तुम
                  उस दीप के नाम
                  जिस दीप के सहारे
                  हम जग देखती हैं
                                    सखी री........

                  सखी री.....
                  तीजॊ दीप बारियो तुम
                  उस माटी के नाम
                  जिस माटी से
                  बनो है ये दींप
                                    सखी री.......
               
                  सखी री.....
                  चौथो दीप बारियो तुम
                  उन दीपों के नाम
                  जो तूफ़ानों से टकरा गये थे
                  और बुझकर भी
                  भर गये जग में
                  अनगिनत दीपों का उजयारा
                                    सखी री........(श्रीमती शकुन्तला यादव)
---
103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-246651,9424356400

1 blogger-facebook:

  1. आदरणीया
    समकालीन साहित्य के युग में भक्तिकाल अथवा छायावाद की रचनाएँ अच्छी नहीं लगती।
    कुबेर

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------