शुक्रवार, 15 नवंबर 2013

सुशील यादव का व्यंग्य - गंगाराम की समझ में न आए...

 

गंगाराम की समझ में न आये

बीसवीं सदी के आदमी की समझ वैसे भी कम होती थी ,उस पर आदमी का नाम अगर गंगाराम से जुड़ जाए तो ‘करले’ और ‘नीम’ के मिले-जुले स्वाद को आप स्वयं जान सकते हैं।

गंगाराम इकलौते आदमी नहीं जिन्होंने ४७ का ज़माना ,ए.के ४७ के साथ न देखा हो। अपनी जमात के लोगों के साथ वे अक्सर ४७ में गम में गम हो जाते हैं।

बीरबल तुम्हें याद है....? ये बोल के बीरबल को पुराने दिनों की तरफ घसीट लेते हैं।

एक बार जब उन दोनों के बीच ४७ कि चल गई, तो वे रोके न रुकते थे। उनकी पैदाइश ३० के आस-पास की होने की वजह से दोनों हमउम्र लंगोटिए एक ही स्कूल –कालिज में पढ़ते थे।

पड़ोस की, एक ही ‘बानो’ को जानते थे। हरबक्श चचा के पास उर्दू शायरी सीखने के बहाने जाया करते। शायरी का शौक क्या था ,बहाना था। बानो की झलक पाने की उनमें बेताबी रहा करती थी। यूँ दोनों ने कभी हिम्मत नहीं जुटाई कि उससे कायदे से ,अल्फाजे दुआ-सलाम भी कबूल फरमा ले !

उन दिनों, लड़कियों को ज्यादा दिन टिकाये रखने का ज़माना नहीं था,सो हरबक्श मिया ने भी निकाह पढ़वा कर अपने अब्बा होने के फर्ज से जल्दी फारिग हो गए। गंगाराम और बीरबल के पास ‘शायरी और इश्क’ के नाम से मात्र इतनी सी जमा पूंजी है।

बानो की बिदाई के बाद उनके जीवन का अल्पकालीन पतझड़ शुरू हुआ और शीघ्र ही उस जमाने के, सस्ते दाल-आटे के बरसाती इन्तिजाम में उम्र की बीसवीं छतरी खोल लिए।

बड़े से बड़े सदमों को वे एक- दूसरे के सहारे, या अक्सर ‘बानो’ पर लिखी शुरूआती शायरी के लय में, मजाक उड़ाते हुए हा-हा ,हो-हो कर लेते। उनके घर वालों को कभी ये राज नहीं खुला कि वे हंसते किस बात पे रहे ?

बीरबल ने गंगाराम से कहा ,यार अब पहले सा मजा नहीं रहा।

उसकी मायूसी गैर-वाजिब नहीं थी। गंगाराम को बीरबल के मायूस होने का सबब, आप ही आप पता चल जाता था। उसकी हाँ में हाँ मिलाते कहता ,अरे तब और अब में फरक ही फरक, हम मीलों चल के कालिज जाते थे मजाल कि कभी पैरों ने थकान की शिकायत की हो।

शहर में दूर-दूर चार थियेटर थे सब की परिक्रमा चार-धाम माफिक लगता था ,रोज चक्कर लगा आते थे। वहाँ साठ पावर के दो-चार बल्ब की, जगमगाती रोशनी आज की दीवाली से ज्यादा खुशनुमा एहसास दे जाती थी। फ़िल्म के पोस्टर हीरो –हिरोइन के अंदाज ,विलेन का खंखार सा सहारा ,कामिडियन का छोटा सा कवरेज मन में पिक्चर की काल्पनिक स्टोरी खींच देता था ,ये अलग बात थी कि फ़िल्म देखने पर कुछ जुदा ही मिलता था। टाकीज की दीवाल में आने वाली फ़िल्म मय हीरो हिरोइन विलन संगीतकार ,गीतकार के पढकर एक इंतिजार का माहौल बन जाता था, याद करो तो आज भी शहर में रहने का फर्क लगता है।

बीरबल एक मुर्गा अकेले सूत लेता था ,मुर्गे उन दिनों देशी हुआ करते थे। आज के मुर्गे की तरह नहीं जो मुंह में कैबरे करते हैं। चबाये नहीं चबते ,चुइंगम की तरह इधर से उधर डुलाते रहो। गुटक न लो तो डाइनिंग टेबल में, एक डिनर का औसत वक्त मेहमानों के साथ दूसरी-तीसरी बार, मौसम के अलावा कोई अलग टापिक नहीं छोडता। बीरबल का मुर्गा-प्रेम उसे सभी होटल –बासा के स्वाद के साथ अब भी याद है। सुंदर होटल ,पंजाबी बासा ,बस स्टेंड वाला न्यू पंजाबी मांसाहारी होटल ,उसी के हमनाम बीरबल चिकन सेंटर,ऐसा कोई होटल उसने नहीं छोड़ा जहाँ तंदूर में चिकन-मटन की खुशबू न उडी हो। अगर उसकी आँख में पट्टी बाँध कर किसी होटल के सामने खड़ा कर दो तो वो बता सकता था कि फला होटल है। बीरबल को गंगाराम का वेजीटेबलीय साथ मिलता,बीरबल ने कितनी बार आग्रह किया कि कम से कम ‘तरी’ तो ले-ले मगर गंगाराम कह देता,होटल में वेज भी तेरी खातिर खा लेता हूँ वरना...... ? वैसे ,उनकी दोस्ती में वेज-नानवेज वाला फर्क कभी भारी नहीं पड़ा।

गंगाराम के पास लोक-लिहाज वाली अकल थी मगर अंग्रेजी और हिसाब के मामले में जरा पैदल हुआ करते थे। बीरबल का बीस होना उन दोनों ने कभी न फील दिया न होने दिया। दोस्ती इसी बीएड सेक्टर के फील होनेके बावजूद , फील न होने देने का नाम है, जिसकी मिसाल वे तिरासिवें पड़ाव तक दिए जा रहे हैं।

उन्होंने जिन्दगी के कई बदलाव साथ –साथ देखे रेडियो,टेप-रिकार्डर, -टेलीविजन ,कम्प्यूटर, ऐ. के.47,बम्बब्लास्ट भजन-कीर्तनवाले साधू-संतों के बीच मवाली किस्म के । उनको जहाँ अच्छे बदलाव के साक्षी होने का गुमान है वही वे , बम- बन्दूक के नापाक इस्तेमाल से दुखी रहते हैं। भरा-पूरा परिवार ,चैन की रोटी उनकी सहेजी हुई पूंजी है।

गंगाराम जिन्दगी के इंच-इंच को फूंक कर चलते रहा, मगर वो आज तक ये न जान सका कि उसके साथ जिन्दगी का सबसे बड़ा धोका कैसे हो गया ?

जिसे संत समझ परलोक सुधारने की लालच में गुरु बनाया , वो बलात्कारी,कपटी धूर्त निकला। आस्था की धुरी हिला के रख दी।

आदमी की परख में इतनी भयानक गलती कैसे हो गई ?ये गंगाराम की समझ में आखिरी सांस तक शायद ही आये !

सुशील यादव

न्यू आदर्श नगर

दुर्ग (छत्तीसगढ़)

3 blogger-facebook:

  1. प्रभावी व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bhai sushil ji,Bharat k 90 % log ese hi apna vakt barbad kar rahe hai.Boode maa-bap ko roti k liye bhi n poochhe par babao ki seva jaroor karenge.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर्व श्री ओंकार जी एवं डा. पाठक जी ,रचना ने प्रभावित किया ,मै आप दोनों को अपनी कृतज्ञता से अवगत कराता हूँ |धन्यवाद .......

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------