सोमवार, 23 दिसंबर 2013

बच्चों का कोना - गोवर्धन यादव का आलेख - रफ़्तार घड़ी की

रफ़्तार घड़ी की.

 

समय कभी किसी के लिए नहीं रुकता. वह चलता रहता है निरन्तर. हालांकि मावन ने प्रागैतिहासिक युग से ही उसकी नाक में नकेल डालने की कोशिशें शुरु कर दी थी. दिन-रात की अजीब गुत्थी जब उसके मस्तिष्क में प्रश्न लेकर खड़ी हुई तो उसने सूर्य-चंद्रमा और तारों से दोस्ती की. समय की यात्रा को नापने के लिए उसने अकल दौडाई, साथ ही मौसम, महीनों और वर्षों को पढ़ने की कोशिश की. पहले सूर्य की परछाईं से दिनों को दो भागों में बांट कर समय को पढ़ने की पहल की. फ़िर 3500 ईसा पूर्व दिन को दोपहर व शाम से नापा जाने लगा. इसमें सूर्यचक्र घड़ियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. 100 से 500 ईसवीं तक पानी की घड़ियों का विकास हुआ, जो कुछ हद तक समय को ठीक –ठीक पढ़ने में सक्षम थीं. 1088 ईसवीं में “क्लाक टावर” घड़ियां देखी गईं, जो पानी की घड़ी और मशीनरी का मिला जुला रुप थी, पर अभी भी समय को सही-सही पढ़ना बाकी था. जैसे-जैसे विकास होता गया मनुष्य भी मौसम, साल ,महीने, दिन, और समय के एक-एक पल को अलग करता गया. समय को नियंत्रित करने की इसी चाहत ने घड़ी के आविष्कार को जन्म दिया.

16 वीं शताब्दी से पहले घड़ियों को एक से दूसरी जगह ले जाना समस्या थी,क्योंकि वे बहुत भारी होती थीं. कहा जाता है कि पहली जेब घड़ी ( पाकेट वाच) 1510 ईसवीं के आसपास बनाई गई थी, जो ड्रम की तरह थी. उसके बाद 1448 में जर्मन और फ़्रेंच मूल की घड़ियों के बारे में पता चलता है. वहीं स्विस और अंग्रेज निर्माताओं की घड़ियों के बारे में 1575 से पहले तक कोई जिक्र नहीं है. यह समय नए-नए परिवर्तन और विकास का था, लेकिन इस समय तक घड़ी सिर्फ़ एक कांटॆ की होती थी और घंटॆ बताती थी. स्पाइरल फ़ीट मेन स्प्रिंग का प्रयोग इसी दौर में शुरु हुआ, लेकिन इसमें एक परेशानी थी. स्पाइरल स्प्रिंग की मदद से घड़ी नियमित नहीं चल पा रही थी. अंततः एक जर्मन आविष्कारक स्टेकफ़्रीड ने इस परेशानी पर काबू पा लिया. 16 वीं सदी के अंत तक अंतरिक्ष आंकडॆ और तारीखें भी घड़ियों में बताए जाने लगे, लेकिन घड़ी की गुणवत्ता अच्छी नहीं थी ,फ़िर भी नया दौर शुरु हो गया था.

घड़ी का उपयोग कब कैसे और किस के द्वारा किया गया,इसकी जानकारी लेते चलें.

500-1300 ई.पू. –पहली बात मिस्र में सूर्य घड़ी का उपयोग किया गया.

400 ई.पू. ग्रीक के लोग समय का पता पानी की घड़ी से लगाते थे.

980 ई.पू. महान राजा एल्फ़्रेड जलती हुई मोमबत्ती से समय का निर्धारण करते थे

1583 ईसवीं गैलीलियो ने महसूस किया कि पेंडुलम के हिलने की आवृत्ति उसकी लंबाई पर निर्भर करती है.

1657 ईसवीं क्रिस्टिएन हाइगंस ने पहली पेन्डुलम घड़ी बनाई.

1838 ईसवीं लुइस आडीमार्स ने पेंचदार घड़ी और उसकी यांत्रिकी की खोज की.

1868 ईसवीं पैटेक फ़िलिपी ने पहली रिस्टवच का आविष्कार किया.

1888 ईसवीं कार्टियर ने पहली लेडीज रिस्टवाच बनाई.

1902 में पहली ओमेगा रिस्टवाच बनी. इस दौरान जर्मनी में करीब 93000 हजार घड़ियां बिकी

1914 में पहली अलार्म रिस्टवाच एटरना द्वारा अविष्कार की गई.

1923 में पहली आटोमेटिक रिस्टवाच जान हार्डवुड द्वारा अविष्कार की गई.

1925 में पैटेक फ़िलिपी ने पहली ऎसी रिस्टवाच बनाई,जिसमें कैलेंडर था.

1927 में पहली वाटर रैसिसटैंट घड़ी का निर्माण रोलैक्स ओएस्टर ने किया.

1930 में महिलाओं के लिए सबसे छोटे आकार की घडियां बनाई.

1945 में रोलेक्स डेट ने ऎसी पहली घड़ी बनाई, जिसमें तारीख भी थी.

1946 में आडीमार्स पिग्वेट ने दुनिया की सबसे पतली घड़ी बनाई.

1953 में लिप्स ने पहली बार बैटरी से चलने वाली घड़ी का निर्माण किया.

1957 में हैमिल्टन ने पहली बार इलेक्ट्रानिक घड़ी का निर्माण किया.

(दुनिया की सबसे पुरानी और अभी भी समय बताने वली घड़ी इंग्लैंड में है. ऎसा माना जाता है कि यह घड़ी 1386 या उससे भी पहले बनाई गई थी. यह घड़ी लोहे की बनी हुई है. शुरुआत में यह वर्ज ऎस्केपमैंट और फ़ालियट बैलेंस से चलाई जाती थी, काफ़ी समय बाद इसमें पेंडुलम का इस्तेमाल किया गया. इस घड़ी में कांटॆ नहीं है, यह सिर्फ़ हर घंटॆ में घंटा बजा देती है.)

1 blogger-facebook:

  1. बच्चों का कोना - गोवर्धन यादव का आलेख - रफ़्तार घड़ी की

    बहुत ही सुंदर और रोचक लेख लगा |

    बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------