सोमवार, 9 दिसंबर 2013

शैलेन्द्र चौहान का व्यंग्य - हम चुनाव जीत गया हूँ...

 

     मेरे देश के लोगों और लुगाइयों यानि माताओं-पिताओं, भाइयों-भौजाइयों, बहनों-बहनोइयों आदि-आदि - हम आप सब लोगन का बहुत बहुत आभारी हूँ। आप सब लोगन को यह जानकर बहुत खुशी होगी कि  हम चुनाव जीत ही गया हूँ। किस्सा यूं रहा कि पहले हम सड़क पर पनवाड़ी चूनामल चौरसिया की "थड़ी" (पटरी पर रखी छोटी बक्सेनुमा दुकान) के सामने खड़ा होता था। फिर जब चूनामल ने उधार में पान खिलाना बन्द कर दिया और रोज पैसों के लिए झिक-झिक करने लगा तो हमें कोई उपाय नहीं सूझा और हम अपने शहर के जाने-माने नेता लूटाराम के यहाँ जाकर खड़ा हो गया । लूटाराम ने पूछा "भाया तू यहाँ क्यूँ खड़ा है ?"


      तो हमें झटपट कोई उत्तर नहीं सूझा, हम बोल पड़ा "बस खड़े होने को थोड़ी जगह चाहिए थी सो यहाँ खड़ा हो गया ।"
       लूटाराम बोला "भाया खड़ा ही होना है तो रेलवे स्टेशन पर टिकिट खिड़की के सामने खड़ा होओ, राशन की दुकान पर खड़ा होओ, कोई भी छोटा-मोटा काम किसी सरकारी दफ्तर में निकल रहा होवे तो वहाँ दिनभर खड़ा रहो ।"
      "लेकिन हमें तो वहाँ ऐसा कोई काम नहीं है, पहले से ही हम सालों वहाँ खड़ा रह-रह कर जब कभी कोई काम नहीं करवा सका तो अब काम की बात सोचूं भी कैसे? अब सोचना ही बन्द कर दिया है ।"


       लूटाराम बोला "बहुत बढ़िया! फिर तू इलेक्शन में खड़ा हो जा ।"
      "इलेक्शन में ! लेकिन हम इलेक्शन में कैसे खड़ा हो सकता हूँ, हमरे पास तो पनवाड़ी का उधार चुकाने लायक भी पैसे नहीं हैं ।"
      "तभी तो, तभी तो" लूटाराम चहका पूछा "तेरी क्वालीफिकेशन क्या है ? क्वालीफिकेशन यानि पढ़ाई-लिखाई ।"
       "तो जी मैट्रिक पास हूँ तीन साल में थर्ड डिवीजन से, इन्टर तो चार साल में भी नहीं कर पाया।"


       "फिट, एकदम फिट, आगे बोल ।"
       "आगे क्या बोलूँ, और तो हम पढ़ ही नहीं सका।"
       "अरे पढ़ाई को मार गोली, और क्या-क्या एक्सपीरियंस है ?"
      "एक्सपीरियंस ! कुछ खास नहीं, एक ठेकेदार के यहाँ काम किया था, एक दिन मजदूरों की मजदूरी से थोड़ी सी पी ली सो निकाल दिया गया। बजाज के यहाँ नौकरी की, एक पैंट पीस और एक शर्ट पीस पसन्द आ गई, अपने लिए सिलवा ली, उसने भी निकाल दिया। और दो एक जगह छुट-पुट काम-आम किया, लड़ाई-झगड़ा हुआ, निकाला गया ।"


      "वैरी गुड, वैरी गुड, लड़ाई-झगड़ा में कभी जेल-वेल गया?"


     "हाँ दो बार गया, एक-एक महीने के लिए। एक बार मोहल्ले का पंसारी उधार के पैसे माँगने घर आ गया और भला बुरा कहने लगा, बात बरदास्त के बाहर हो गई तो उसके सर पर डंडा मार दिया! उसका स्साले का सर ही खुल गया। दूसरे केस में सरकारी डॉक्टर ने बिना पैसे लिए अम्मा को घर पर देखने से मना कर दिया तो उसका हाथ तोड़ दिया। दोनों केस में पुलिस ने सुलह-समझौता कराने और केस रफा-दफा करने के लिए पैसे माँगे। अब मेरे पास पैसे होते तो क्या था, कुछ ढ़ंग का काम न करता, सो हवालात भेज दिया गया। कोई गवाही देने को ही तैयार नहीं हुआ मेरे खिलाफ, पनवाड़ी चूनामल ने मेरी जमानत कराई दोनों दफे, अब केस खारिज हो गए हैं ।"


"बहुत बढ़िया, बहुत बढ़िया !" लूटाराम ने पूछा "भाया तू ये सब सच बोल रहा है न?"
     "जी झूठ बोलने से फायदा ही क्या है ? फिर आजकल तो ऐसी बहादुरी वाली चीजें प्रेस्टिज बढ़ाती हैं ।"


लूटाराम उठा उसने मुझे गले लगा लिया, बोला "तुम तो बहुत काम के आदमी हो । अब इतनी देर खड़े भी मत रहो कि पैर ही दुखने लगें। आओ बैठो, पान-वान खाओ, फिर चुनाव की रणनीति तय करते हैं।"


       "चुनाव की रणनीति !"
       "हाँ, क्या तुम्हें पता नहीं कि विधान सभा चुनाव होने वाले हैं ?"
"वो तो पता है, क्या हमें आप के लिए प्रचार करना होगा ?" मैंने पूछा ।
लूटाराम बोला "नहीं, मेरे प्रचार के लिए तो बहुत से कार्यकर्ता हैं। मैंने एक नई क्षेत्रीय पार्टी बनाई है "लूटाराम धंधा पार्टी "यानि "एल.डी.पी.", राजनीति से अच्छा धंधा इस देश में कोई दूसरा है ही नहीं। समझ गए न! हमारा चुनाव चिन्ह है "चाकू", जिसके खौफ से सब भोटर डरेंगे। वैसे हमने माँगा तो था पिस्तौल पर चुनाव आयोग ने दिया ही नहीं। तुम सदर क्षेत्र से एल डी पार्टी के उम्मीदवार होओगे।"


हम तो बड़ा खुश हुआ जी यह सुनकर। कहाँ तो पनवाड़ी ने भी अपनी दुकान के आगे खड़े होने से मना कर दिया था, कहाँ मान्यवर लूटाराम जी ने हमें अपनी पार्टी से चुनाव का टिकिट दे दिया। तो भाईयो-बहनो अब मैं चुनाव में खड़ा हो गया हूँ ।


     लगे हाथ आपको बता दूं कि हमारी पार्टी में पूरा लोकतंत्र है। मान्यवर लूटाराम जी इस पार्टी के एकमात्र आजीवन अध्यक्ष हैं। सभी उम्मीदवारों की उनमें घनघोर आस्था है। उनके पास दस हजार लूट सैनिक हैं। हमारा मात्र एक उद्देश्य है "लूटो और मस्त रहो"। जैसे अंग्रेजों का था 'बांटो और राज करो' बाद में काले अंग्रेजों ने भी यही तो किया। यही हमारा एजेन्डा, यही हमारा घोषणा पत्र है। हम झूठे वायदे नहीं करते, हम झूठे नारे, घोषणाएं और सपने नहीं दिखाते। हम जो कहते हैं, वही करते हैं। न हम देश की भलाई की बात करते हैं, न जनता की। हम मात्र अपनी भलाई की बात करते हैं। जबकि जो लोग देश की भलाई की बात करते हैं, वे झूठ बोलते हैं, वे करते हैं वही हैं जो हम कह रहे हैं। हम स्थिरता की बात नहीं करते क्योंकि हमें पता है कि जो स्थिरता की बात करते हैं वे स्थिरता की आड़ में ज्यादा दिनों तक जनता को लूटना चाहते हैं। हम धर्मनिर्पेक्षता की बात नहीं करते क्योंकि हम जानते हैं

धर्मनिर्पेक्षता का मतलब, धार्मिक भावनाओं को भड़का कर वोट लेने से होता है। वैसे इन लोगों का असल धर्म यही होता है। हम मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे की बात नहीं करते क्योंकि ऐसी पवित्रता में हमारी कोई आस्था नहीं है जिसकी आड़ में सब कुछ अपवित्र हो। ये बस लक्मी पूजा में विश्वास रखते हैं। हम अपराध मिटाने की बात नहीं करते क्योंकि जो अपराध मिटाने की बातें करते हैं वे ही अपराधियों को धड़ल्ले से टिकिट देते हैं। उनकी कमाई अपराधियों से ही होती है। हम भ्रष्टाचार मिटाने की  भी बात नहीं करते, इससे अच्छा तो दुनिया में कोई कर्म ही नहीं। जो भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे हैं वे ही ऐसी बातें करतें हैं। इसलिए हे जनता- जनार्दन सुनो!  मेरी कर-खुली प्रार्थना है कि जो लोग कदम-कदम पर झूठ बोलते हैं, छल करते हैं, काले को सफेद और सफेद को काला कहते हैं, यदि उन्हें आप लोग वोट दे सकते हैं तो हम जो सच बोलते हैं, सफेद को सफेद और काले को काला कहते हैं, उन्हें आप वोट क्यों नहीं देंगे ? तो अब जब आपने हमें जिताया है तो हम जी जान से देश सेवा करेंगे आखिर हम सच्चे देश प्रेमी जो हैं। अब देखिये कितना फायदा वाला बात हुआ बताते हैं कि हैंग असिम्बली हो गया। अब हम पक्का मंत्री बनूँगा और आप लोगन का पूरा बंटाधार करूंगा। जय जनता, जय नेता


संपर्क : सं -'धरती', पी-1703, जयपुरिया सनराइज ग्रीन्स, प्लाट न. 12 ए, अहिंसा खंड, इंदिरापुरम, गाज़ियाबाद - 201014 (उ.प्र.), , Email : shailendrachauhan@hotmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------