गुरुवार, 30 मई 2013

प्रमोद भार्गव का आलेख - खतरनाक है बोतलबंद पानी पर बढ़ती निर्भरता

खतरनाक है बोतलबंद पानी पर बढ़ती निर्भरता प्रमोद भार्गव अब तक बोतलबंद पानी को पेयजल स्‍त्रोतों से सीधे पीने की तुलना में सेहत के लिए ज्‍यादा...

ईबुक - लघुपत्रिका प्राची

लघुपत्रिकाओं में सर्वश्रेष्ठ मानी जाने वाली पत्रिका प्राची का नवीनतम अंक पढ़ें नीचे दिए गए विंडो में एक्सपांड/ओपन बटन पर क्लिक कर. या फिर आप...

राजीव आनंद की कहानी - एक फरिश्‍ते से मुलाकात

एक फरिश्‍ते से मुलाकात दोनों किडनी तुम्‍हारी फेल हो चुकी है, अब किडनी बदलवाना ही एकमात्र उपाय है, डाक्‍टर साहब ने बिरजू माली को कहा. बिरजू ...

महावीर सरन जैन का आलेख - पालि भाषाः व्युत्पत्ति, भाषा-क्षेत्र एवं भाषिक प्रवृत्तियाँ

पालि भाषाः व्युत्पत्ति, भाषा-क्षेत्र एवं भाषिक प्रवृत्तियाँ प्रोफेसर महावीर सरन जैन   कुछ विद्वान संस्कृत से पालि-प्राकृत की उत्पत्ति मा...

श्याम गुप्त की लघुकथा - जो सहि दुःख पर छिद्र दुरावा

जो सहि दुःख पर छिद्र दुरावा ...लघु कथा     ( डा श्याम गुप्त ) गुरुवासरीय काव्य गोष्ठी में वर्मा जी ने सुन्दर कविता पाठ के अनन्तर कवितांश....

बुधवार, 29 मई 2013

राकेश भ्रमर की कहानी - कितनी देर तक

कहानी कितनी देर तक राकेश भ्रमर चिता में आग लगने के बाद एक-एक करके लोग जाने लगे थे. अंत में केवल मैं ही चिता के पास रह गया था. कुछ दूरी पर ए...

रविवार, 26 मई 2013

कुबेर की हास्य व्यंग्य कविता - भाया! बहुत गड़बड़ है

  कुबेर भाया! बहुत गड़बड़ है   बहुत गड़बड़ है, भाया! बहुत गड़बड़ है। इधर कई दिनों से दिन के भरपूर उजाले में भी लोगों को कुछ दिख नहीं रह...

नूतन प्रसाद शर्मा की कहानी - मैनेजर लीला

नूतन प्रसाद शर्मा  कहानी मैनेजर लीला हमारे गांव वाले कम श्रद्धालू नहीं हैं. उस साल जब अच्छी फसल हुई तो ईश्वर ने कृपा की,ऐसा सोच रामलीला मं...

नूतन प्रसाद शर्मा की कहानी – भ्रम निवारण

नूतन प्रसाद शर्मा  कहानी  भ्रम निवारण अष्टावक्र के जीवन की रेल अटक - अटक कर चल रही थी. जिस दिन उसे भिक्षा मिल जाती,वह दीवाली मना लेता कुछ...

नूतन प्रसाद शर्मा की कहानी - कर्तव्य परायण

नूतन प्रसाद शर्मा  कहानी कर्तव्य परायण लक्ष्मण अचेत पड़े थे. राम ने हनुमान से कहा - लक्ष्मण अंतिम सांसें गिन रहा है. उसका उपचार होना जरुरी...

सुरेश सर्वेद की कहानी - यंत्रणा

कहानी यंत्रणा सुरेश सर्वेद मेरे खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज होते ही मैं निकृष्ट जीवन व्यतीत करने लगा. मुझ पर विद्युत कर्मचारी से मारपीट करने...

सुरेश सर्वेद की कहानी - खोल न्याय का बंद कपाट

  खोल न्याय का बंद कपाट सुरेश सर्वेद की कहानी नीलमणी भवन के सामने जीप चरमरा कर रुक गयी. वह भवन वनक्षेत्र पाल हिमांशु का था. जीप से आर्थिक ...

सुरेश सर्वेद की कहानी - दया मृत्यु

दया मृत्यु सुरेश सर्वेद तुलसीपुर, राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) स्कड प्रक्षेपास्त्रों को आकाश में ही नष्ट करने पैट्रियड का अविष्कार हो चुका हैं प...

कुमार गौरव अजीतेन्दु की कुण्डलियाँ

*************************************** कुण्डलिया - बंजर पड़ी जमीन है *************************************** १. बंजर पड़ी जमीन है, धधक ...

रवि प्रकाश की कविताएँ

             रवि की मधुशाला बड़ी घृणा से उस को देखा जिसके हाथों में प्याला, जिसकी आँखों में प्यास मिली जिसके अधरों पर हाला। लेकिन जब ख़ुद पी...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------