सोमवार, 20 जनवरी 2014

रीता राम की कविताएँ

image

सपने

सपने तसल्ली देते हैं

जी लेने की महीन सी

हकीकत से परे

कुछ रह जाता हैं

अटका सा हमेशा

स्वप्न और हालात का सामना

अक्सर होता हैं ख्वाब के तुरंत बाद

कुढ़ता हैं वर्तमान

भूतकाल लालायित हैं

भविष्य की दराज में आते हैं

दिवा स्वप्न की किश्तें

अपने आप डिजालव हो जाने की शक्ति लिये

हकीकत को ख्वाब की बताते हुये कमियाँ

फिर भी घिसटता हैं अदना सा दिल

जीवन की सड़कों पर

अपने मौत की

परछाई लिये ।

.............रीता राम ..............

 

मेरे पापा

लोगों ने देखी

पापा के आँखों में

हम चार बहनों और एक भाई की चिंता,

हमें सहेजने से

सिलवटें जो हाथों में पड़ी,

रोज दौड़ता थकता शरीर

उनका दुख उनकी तकलीफ

मैंने देखा उनकी आँखों में

हमारा वर्तमान

हम भाई बहनों की अच्छी परवरिश

हम बच्चों का स्वस्थ जीवन,

उनके भौहों के बीच

पड़ी सिलवटों में

हमारा खुशहाल भविष्य

जिससे बढ़ता रहा हमारा

आत्म विश्वास दुगुना चौगुना

नहीं हारने देती

कठिनाइयों में भी

मुझे देखती

आगे बढ्ने को प्रेरित करती

उनकी खामोश निगाहें

खोजती जैसे

कोई उन्नति हमारी

जो स्फूर्ति देगी

उनके तिरासी वर्षीय

साँसों की गति को ।

............रीता राम ...........

 

ब्रम्हांड

यूँ ही तो नहीं घूमती पृथ्वी

जाने क्यूँ जलता हैं सूरज

शीतल हैं इतना चंदा क्यूँ

कारवां सितारों का क्यूँ चलता हैं

हैं गमगीन सा निशब्द ब्रम्हांड

गति से केवल सबक़ों धर पकड़ा हैं

क्या हैं ये ?....किसी के अस्तित्व की पहचान

या धराशायी उल्का पिंडों का समूह

एक पहेली हैं घूमती चारों ओर

जैसे भविष्य की गर्भ में खोजना

शतरंज की बिसात पर मरता प्यादा

और जिंदा रहने की ख़्वाहिश में

समस्त को ताकती इकलौती हमारी पृथ्वी ।

...........रीता राम ......

 

भाव

पायल के तीन घुंघरू

से आती मधुर ध्वनि

मुझे भाव की खनक लगते

ऊँचाई से आते प्रकाश पुंज

अपनी परिधि में

घूमते गोल गोल

मन की गहराइयों में उतरते

भाव भी होते इसी तरह गूढ़ार्थ

दिखाई देते गरीब की आँखों में

खो जाते जिव्हा तक आते आते

उसकी बेबसी में होते हुये गुम

अंतकरण में रखते हुये

वक्त की द्वंद्व ।

..........रीता राम ............

3 blogger-facebook:

  1. Ramnaresh10:45 pm

    दिल को छूती तथा प्रेरणादायी कविताएँ॥

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद नरेश जी

      हटाएं
    2. धन्यवाद नरेश जी

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------