गुरुवार, 9 जनवरी 2014

सुशील यादव का व्यंग्य - लूट सके तो लूट

clip_image002

लूट सके तो लूट .....

राम नाम की लूट है ,लूट सके तो लूट

अंत काल पछताइहे ,प्राण जाइहे छूट

राम नाम को लूटने की परंपरा का विगत बीस पच्चीस सालों से ह्रास हो गया है। जिन मंदिरों में ले जाकर , दादा-दादी बच्चों को राम-नाम का इंजेक्शन दिया करते थे,वहाँ बच्चों का जाना कम हो गया। प्ले –ग्रुप ,के. जी.स्कूल से लेकर मास्टर डिग्री तक बच्चों को पढाई के बोझ से फुर्सत नहीं। दादा-दादी बच्चों को अगर मंदिर ले जाने के लिए तैयार करते हैं, तो ऍन चलते वक्त माँ-बाप बच्चों को आंखें दिखा देते हैं ,राहुल ,होमवर्क हो गया ? पिंकी प्रोजेक्ट का काम फिनिश कर लेते बेटा, फिर मंदिर की सोचना ? मंदिर जो राम-नाम की पाठशाला हुआ करती थी, बच्चों के बचे हुए समय में भी समा नहीं रहा।

बच्चे , स्कूल–होमवर्क के बाद टी.व्ही.,चेट,एस.एम.एस ,आई.पी.एल.और नेट में बीजी श्येड्यूल बनाए बैठे हैं।

राम के नाम को लूटने की परवाह ही नहीं?

व्यस्तता इतनी कि ट्यूशन आते-जाते भी दर्जनों मंदिर आ जाते जिन्हें वे जानते भी नहीं।

हमारे समय में, हम लोग एक पत्थर को हाथ भी जोड़ के मन ही मन कई बातें बुदबुदा लेते थे। किसी पेड़ को प्रणाम कर लेना ,सूरज को अर्ध्य देना ,सुबह उठ कर, धरती मैय्या को, आस्था के साथ स्पर्श करना, अपने-आप हो जाता था|

हम लोग सही मायने में राम-नाम को, ‘राम-नाम सत्य’ हो जाने तक तन-मन से जपते थे।

आजकल राम-नाम पर, एक पार्टी का एकाधिकार हो गया है। पार्टीवाले रामनामी पिटारे को हर पांचवे साल इस उम्मीद से खोलते हैं, कि ‘दो’ से ‘दो-सौ’ सांसद वाला, चमत्कार अयोध्यावासी के हाथों में अब भी है।

वे राम-नाम को लूटने कि बजाय वोटरों को लूटने की तरफ चल देते हैं। “मन्दिर वहीं बनायेगे”..... का जबरदस्त नारा उछालते हैं| जनता बेचारी जान ही नहीं पाती कि, वहीं बनाना था तो तोड़ा क्यों?बेचारे राम ,कुटिया-नुमा गुम्बद के नीचे सुरक्षित तो थे।

पहली बार ‘अयोध्यावासी’ पता नहीं सचमुच भ्रम में आ गए, कि देखो, भक्त मेरी गिरती साख को, किस भक्तिभाव से बचाने पर तुला है।

लोग एक नारियल चढा के घर-परिवार के लिए क्या-क्या मांग लेते हैं ,ये मेरा भव्य मंदिर बनवाने के नाम पर तुच्छ ‘वोट’ ही मांग के संतुष्ट हो रहे हैं|

वे वोटों की सुनामी ला दिए।

भक्त गदगद|

राम नाम को तरीके से लूटो तो आपका कल्याण अवश्य है।

जैसे उनके दिन फिरे ......

वैसी भक्ति आप की भला क्यों नहीं हो सकती ?

इति,भक्ति-भाव ,और भक्ति मार्ग का प्रथम अध्याय समाप्त।

आइये ‘लूट सके तो लूट’ पर चर्चा की जाए। सन सैतालिस के बाद ,लूटने के इतिहास पर गौर किया जावे तो बेचारे ‘महमूद गजनवी’ का उनके देश में एक्सप्लेनेशन पूछ लिया जावे ,’खाली हाथ वापस आ गए’ ‘ देश का नाम मिट्टी में मिला दिया, कमीने’। जहां तू लूटने गया था, क्या नहीं था वहाँ ?

तुझे दो-चार मुकुट,मुट्ठी-भर हीरे-जवाहरात ही दिखा तुझे ?

देखना था तो घपले वाला , बाँध देखा होता ,

वीरप्पन वाले चन्दन के जंगल देखे होते,

यदुरप्पा टाइप माइनिंग खंगाला होता ?रेल के ठेके,कोयला खदान की दलाली देखी होती।

सुखराम के संचार ,राजा के ‘टू जी –थ्री जी’ के लिए इन्तजार किया होता ?

कहाँ गए थे, वे हथियार के सौदे,ट्रांसपोर्ट में ,बिजली में ,मिड डे मील,नरेगा-वरेगा सब जगह तो इफरात पैसा था, पाने को।

ठहर के वेट तो करना था ,क्या जल्दी थी वापस आने की ?

घोड़े, भूखो तो नहीं मर रहे थे ?

दो एक पीढ़ी तू रह लेता तो सौ पीढ़ियों का इन्तिजाम हो जाता। खूंटे से रस्सी तोड़ के भाग आया छि’.......

एक तेरे वहां रहने से आज हम लोग स्विस बैंको के मालिक होते ,सुपर पावर होते, दुनिया हमारे इशारों पर नाचती ?गधे तुने क्या किया ?

इंडिया जैसे ‘लूट के स्वर्ग’ को जहाँ ,साधू के भेष में लूटने का स्कोप है, छोड़ आया बेवकूफ .......|

इति,

दूसरे अध्याय को, ‘हरी अनंत हरी कथा अनन्ता’ की तरह खुला छोड़ दिए देता हूँ.....संतन।

**

राजनीति में, जो अपने ‘काल के अंत’ को करीब आते देख रहे हैं या जिनके पाँव कब्र पर लटके हुए से हैं; वे सब अब पछताने के मूड में हैं।

हमारे यहाँ ‘पछताना’ एक क्न्सोलेशन प्राइज की तरह है| यहाँ , क्यों कि, कुर्सी एक, दावेदार अनेक ,एक ने लिया तो बाक़ी को सिवाय पछताने के कुछ नहीं।

अगर आप ढंग से पछता नहीं सके तो बी.पी.-अटेक का ख़तरा सामने , ऊपर का जल्दी बुलावा सामने ?

पछतावा तो, किसी की तरक्की देख के भी बहुत होता है।

स्साले में अक्कल, दो कौडी भर की नहीं, देखो कहाँ से कहाँ पहुच गया ?

हमारे माँ-बाप कहाँ थे? म्युनिस्पेलटी के स्कूल में नौकरी दिला के अपने कर्तव्यों की इति-श्री कर ली ?

पछतावा तो तब भी होता है ,जब सदन में पता लगता है अमुक ने ‘इतने सस्ते’ में जमीन ले ली और ‘इतने महंगे’ में बेच दी। हमे लगता है कि एक-आध बिना पैसा लगाए अगर मिल रही थी तो हम भी खरीदे होते।

आजकल अखबार पढ़ो ,टी.व्ही न्यूज देखो ,सदन की कार्रवाही सुनो तो ‘पछतावा’ करने या कोसने के सिवा कुछ भी नहीं बचता।

“आछे दिन पाछे गए.....” की रट लगा के ,दिल्ली की राजनैतिक सूरत बदलते देखने वाले,’भ्रष्टाचारी’ यदि अपना-अपना बोरिया –बिस्तर समेट लें ,अपना टेंट –तम्बू उखाड़ लें, तो समझिये राम के नाम की सतयुगी लूट की संभावना आगे है ।

एक बार फिर, जी कहता है,आदमी के स्वभाव में ‘पछतावा’ भी ‘हरी अनंत ,हरी कथा अनन्ता’, की तरह सब के रोम-रोम में विस्तारित है। आदमी अपने भीतर झाँक के देखे तो सही।

अंतहीन ,ये कथा तब तक चलेगी जब तक ‘जी-प्राण’ है।

------------------

सुशील यादव

श्रीम-सृष्टि,

सनफार्मा रोड

अटलादरा ,वडोदरा (गुज)390012

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------