रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

आलोक कुमार सातपुते की 3 लघुकथाएँ

image

सावधान

उस घर के गेट पर लिखा हुआ था-कुत्तों से सावधान। एक आदमी ने डरते-डरते उस घर के दरवाज़े की कॉल-बेल बजायी और खतरनाक कुत्तों की भौंक सुनने के लिए मानसिक रूप से तैयार हो गया, लेकिन उसे सुखद आश्चर्य तब हुआ, जब एक लड़की ने दरवाज़ा खोला और कहा-आइये अंकल अन्‍दर आ जाइये।

पर वो कुत्ते...उस आदमी ने संशय के साथ पूछा।

अंकल वो क्‍या है कि इस कॉलोनी में चोरियाँ बहुत होती हैं, और चोरों से बचने के लिए यह एक अच्‍छा उपाय है। इसके अलावा इससे बिना किसी अतिरिक्‍त खर्च के हमारी सम्‍पन्‍नता भी बढ़ी हुई दिखती है

00

 

दान

‘ये देखो, एक घुमक्‍कड़ बाबा ने मुझे मोती-मूँगा और पुखराज रत्‍न दिया और मैंने उसे सिर्फ़ सौ रूपये टिका दिया...मानते हो कि नहीं, कि हम भी उस्‍ताद हैं।'

‘‘अरे यार ये तो कोई अन्‍धा भी बता देगा कि ये रत्‍न नक़ली हैं। इस मोती की तो पॉलिश भी निकल रही है। ये रत्‍न तो दस रूपये में भी महँगे हैं।''

‘छोड़ो ना यार, वो बाबा बड़ा ही सिद्ध पुरुष था। उसने मुझे भरपूर दुआएँ दीं। आज जहाँ माँ-बाप तक अपने बच्‍चों को पानी पी-पीकर कोसते हों, वहाँ उसने मुझे दुआएँ दीं..समझो मैंने उसे उसकी दुआओं के बदले में पैसे दे दिये।'

‘‘अरे भइया ऐसे में तो हर आदमी दुआओं का कारोबार शुरू कर देगा।''

‘अरे यार आप तो हमेशा निगे़टिव सोचते हो। अरे भाई दान-घरम भी तो कोई चीज है। समझो हमने सौ रूपये दान कर दिये।'

00

 

सॉरी

‘क्‍यों आपने मेरी गाड़ी को पीछे से क्‍यों ठोंका?'

‘‘सॉरी!''

‘क्‍या सॉरी? मेरी गाड़ी की बैकलाइट फूट गयी।'

‘‘मैंने कहा ना सॉरी।''

‘अरे आप तो सॉरी ऐसे कह रहे हैं, जैसे अहसान कर रहे हों।'

‘‘अबे साले जब से सॉरी बोल रहा हूँ। तेरे को समझ में नहीं आता है क्‍या? बताऊँ क्‍या तेरे को?''

‘मुआफ़़ कीजियेगा भाई-साहब ग़लती मेरी ही थी। दरअसल मैं ही आपकी गाड़ी के सामने आ गया था...सॉरी।'

प्रमाणित किया जाता है कि प्रस्‍तुत सभी लघुकथाएं मेरी मौलिक रचनाएं हैं।

00

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

अरुण कुमार झा


लघु कथाएँ अच्छी हैं | लेखक को बधाई |

पहली कहानी सार्थकता सिद्ध करती है ! शेष दौनो भी ठीक हैं !

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget