शुक्रवार, 11 अप्रैल 2014

यशवंत कोठारी का व्यंग्य - चुनाव में खड़ा कवि

ताज़ा व्यंग्य

चुनाव में खड़ा कवि

यशवंत कोठारी

कवि ने कविताई करनी छोड़ दी मंच को राम राम कह दिया और चुनाव मैदान में कूद पड़ा। चुनाव रुपी समंदर में पहले ही काफी गंदगी थी कवि के कूदने से गंदगी और भी बढ़ गयी। चुनावी बिसात के लिए कवि नया था मगर मंच के पीछे की राजनीति का उसे गहरा अनुभव था,इसी अनुभव के भव के सहारे वो इस कीचड़ में कूद पड़ा था। कवि -प्रिया और कवि -पुत्र कवि के इस निर्णय से दुखी हेरान परेशान थे मगर कवि का मूड पक्का चुनाव लड़ने का था। कवि को खिड़की और छत से चिल्लाने का अनुभव था। उसे पिछले दरवाजे से घुसने और अगले दरवाजे से निकलने का भी अनुभव था। कवि जनपथ पर चिल्लाता रहता था। वो राज पथ में घुसना चाहता था। वो राज पथ से कविता को देखना और समझना चाहता था। लोकसभा में हर कर वो राज्यसभा जीतना चाहता था यदि राज्य सभा में नहीं तो राज भवन या दूतावासों का चक्कर चलाना चाहता था। उसे पता था कि पद्मश्री का रास्ता पार्टी दफ्तर से होकर जाता हे सो उसने आपने आपको चुनाव के समंदर में फेक दिया .

कवि ने दिमाग दौड़ना शुरू किया कविता का क्या कभी भी लिख लेगे चुनाव का मोका बार बार थोड़े ही मिलता हे इस बार को छोडो और चुनाव में टूट पड़ो। कवि कभी अपने आपको खालिस कवि मानता था साल में एक दो कविता लिखता था उसे यार दोस्तों में बांटता था और खुश रहता था मगर इस बार उसने कविता के बजाय मत दाता का मूड भांपने का गहरा निर्णय ले लिया . उसने गया हो सोचा रोज रोज नारे लिखने से अच्छा है कि खुद ही चुनाव लड़ लो।

कवि को मंच पर कविता से कुस्ती लड़ने का गहरा अनुभव था। मंच पर अंडे ,डंडे खाने का भी अनुभव था। कवि ने डंडे खाये तो उसे पण्डे और हथकंडे याद आये उसने मंच के हथकंडे चुनाव में चलने कि सोची , मगरचुनाव के नज़ारे नारे और इशारे सब अलग चाल के थे।

कवि राजनीति करे तो साहित्य कि करले मगर ये चुनाव कि राजनीति शायद आर्य पुत्र के बस कि नहीं हे यह सोच कर कविप्रिया ने कहा -नाथ। आर्य। आप कविता रुपी प्रेयसी को छोड़ कर इस चुनावी रन में क्यों कूदें ?जमानत कि राशि भी डूब जायेगी। इस राशि से हीरे कि एक अंगूठी खरीदी जा सकती थी।

अरे भागवान यदि चुनावी रण जीत गया तो कई कवि मेरे नाम से कविता लिख लिख कर मुझे समर्पित करेंगे।

और यदि हर गए तो ?

तो जमानत डूब जायेगी और क्या ?

लेकिन आप को ये क्या सूझी

तुम नहीं समझोगी . जिस तरह मेरी कविता कोई नहीं समझ रहा हे उसी प्रकार कभी कोई सामान धर्मा आएगा और मुझे और मेरी राजनीती को समझेगा

तब तक क्या करे ?

तब तक कम से कम तुम तो मेरा साथ दो।

चुनाव में हथकंडे चलाओ

क्या करू नाथ सब कार्यकर्ता ऐसी कार शराब शबाब कि मांग कर रहे हे।

मांग करने से क्या होता हे।

तो इन कार्यकर्ताओं का क्या करे

करना क्या हे , चुनाव के बाद कही फिट कर देंगे।

मगर ये मुंगेरी लाल के हसीं सपने कब पूरे होंगे ?

कवि और कवि प्रिया चुनावी रंग में रंग चुके हे। वे चुनाव प्रचार में लग चुके हे कविपुत्र भी साथ दे रहे हे। वे निराश नहीं हे। उनको जीत कि उम्मीद हे लेकिन कविप्रिया को दुःख है कि जमानत कि राशि से एक अंगूठी खरीदी जा सकती थी।

कविप्रिया ने चुनाव परिणाम का इंतजार करने के बजाय एक अंगूठी का आदेश दे दिया।

००००० ००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००००

यशवंत कोठkरी 86 y{eh नगर ब्रह्मपुरी जयपुर-३०२००२ - 

6 blogger-facebook:

  1. चुनाव के इस मौसम में यशवंत जी का व्यग्य प्रभावशाली लगा .

    उत्तर देंहटाएं
  2. -सुंदर रचना...
    आपने लिखा....
    मैंने भी पढ़ा...
    हमारा प्रयास हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 14/04/ 2014 की
    नयी पुरानी हलचल [हिंदी ब्लौग का एकमंच] पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...
    आप भी आना...औरों को बतलाना...हलचल में और भी बहुत कुछ है...
    हलचल में सभी का स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. समीचीन लेख और व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया सामयिक व्यंग ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तम व्यंग्य रचना के लिए बधाई...प्रमोद यादव

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------