शुक्रवार, 2 मई 2014

सैयद एस तौहीद का आलेख - बलराज साहनी : एक फ़िक्रमंद कलाकार

एक फ़िक्रमंद कलाकार

बलराज साहनी सिनेमा की एक अविस्मरणीय शख्सियत रहे हैं। अभिनय में आज भी बलराज को बड़ा आदर्श माना जाता है । बलराज साहेब लीक से हटकर काम करने के लिए जाने जाते थे | वह एक जुझारू एवं समर्पित कलाकार थे । बलराज साहनी- प्रेमचंद के सामाजिक- सांस्कृतिक संघर्ष में वैचारिक आदर्शों की एक समानता समझ आती है। उसके माध्यम से एक साझा संवेदना को स्पर्श किया जा सकता है। मुंशी प्रेमचंद की कहानियों का फिल्मों में रूपांतरण हुआ। कथा सम्राट की कहानी ‘दो बैलों की कथा’ पर बनी ‘हीरा मोती’ में बलराज साहनी ने मुख्य किरदार अदा किया। इन दो शख्सियतों में जो कुछ साझा था,कह सकते हैं कि उसका एक अंश इस फ़िल्म के माध्यम से अभिव्यक्त हुआ। प्रगतिशील आंदोलन ने संस्कृति कर्म से जुडे लोगों को साझा मंच दिया था। इस अभियान में प्रेमचंद व बलराज साहनी की महत्त्वपूर्ण भूमिका थी। प्रेमचंद का व्यक्तित्व इस क्रांतिकारी अभियान में प्रेरणा का स्रोत था। उधर सिनेमा के स्तर पर विचारधारा समर्थन में बलराज दलित-शोषित-वंचित किरदारों को जीवंत कर रहे थे। एक तरह से इन पात्रों को जीवंत करके इनकी तकलीफों को भी साझा कर रहे थे। फिक्र वो एहसास के जिंदा होने की वजाहत कर रहे थे। उन्होंने संस्कृतिकर्म को सहयोग का माध्यम बनाया। ऐसा भी नहीं कि बलराज ने फ़िल्मों को व्यवसाय नहीं माना। लेकिन उनमें लीक से हटकर भी काम करने का जज्बा था ।

यथार्थ में जीते पात्रों को जीना कठिन हुआ करता है । देसज पात्रों को निभाना भी चुनौती का काम होता है । नगरीय पात्रों की परतें उसे विशेष रूप अवश्य देती है। लेकिन देसज पात्रों की बात जुदा है। इस मिजाज के पात्रों को बलराज ने अनेक बार जीवंत किया। बिल्कुल अपनी मिट्टी का होने की वजह से गांव के किरदारों में अपार आकर्षण है । सिनेमा ने इन्हें अधिक स्पेस नहीं दिया । कह सकते हैं कि नगरीय कहानी व पात्रों को खूब तरजीह मिली। फिर भी कम समय में ही ग्रामीण पात्र स्मरणीय बनकर उभरे। इन किरदारों का वक्त आज भी याद किया जा सकता है। बिमल राय को संशय था कि बलराज रिक्शावाले के किरदार को अच्छी तरह ना निभा सकें। किंतु बिमल राय की सोच को गलत होते हमने देखा। दो बीघा जमीन को आज भी भारतीय सिनेमा याद करता है । काबुलीवाला.. में भी बलराज साहनी ने अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों को भावविभोर कर दिया। उनका मानना था कि परदे पर किसी किरदार को साकार करने के पहले उस किरदार के बारे में पूरा होमवर्क अथवा जानकारी हासिल की जानी चाहिए। वह बम्बई अब मुंबई में एक काबुलीवाले के साथ रहे। बलराज का लेखन की ओर भी रूझान था। साठ दशक में स्वयं के पाकिस्तानी व रुसी सफर पर आपने सफरनामे लिखे । सिनेमा में सफर पर एक आत्मकथात्मक पुस्तक भी लिखी । भारत के मुसलमानों के पाकिस्तान पलायन की पृष्ठभूमि पर बनी ‘गर्म हवा’ में बलराज साहनी केन्द्रीय भूमिका में रहे। इस फिल्म में बलराज ने एक मुस्लिम कारीगर की भूमिका अदा की । बलराज साहनी के कैरियर की बेहतरीन फिल्मों में से एक ।

झूरी की भूमिका में ‘बलराज साहनी’ का अभिनय ‘दो बीघा जमीन’ के शंभू का विस्तार सा है। प्रेमचंद के एक महत्त्वपूर्ण पात्र को परदे पर जीवंत करने का सौभाग्य बलराज साहनी को मिला। झूरी एक मेहनतकश किसान है, सच्चाई व ईमानदारी से खेतों में डटा रहता है । गरीब किसान को कभी-कभी यह मयस्सर नहीं होता। सामंती व्यवस्था ने झूरी से उससे खेती-किसानी का हक़ भी छीन लिया है । बलराज इस परिस्थिति में उतने ही असहाय दिखाई दिए हैं, जितना शायद प्रेमचंद का पात्र ‘झूरी’ रहा होगा। साहित्य व समाज के प्रति अभिरूचि ने उन्हें यह मकाम दिया था । ग्रामीण परिवेश के सांचे में ढले पात्रों को परदे पर एक से अधिक बार जीवंत करने का सौभाग्य बलराज साहनी को मिला था। बलराज साहेब की गंवई छवि ने आगामी राह में लगभग सभी समकालीन अभिनेताओं को ऐसे पात्र निभाने को प्रोत्साहित किया। बहुजन समाज की व्यथा का उन्हें आभास था। हाशिए के पात्रों को स्क्रीन पर जीवंत कर सामाजिक दायित्वों को निभाया था । इस तरह के किरदारों को व्यापक विमर्श का विषय बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। धरती के लाल, दो बीघा जमीन, हीरा-मोती, काबुलीवाला का जिक्र बलराज साहनी के बिना संभव नहीं। बलराज इस किस्म के किरदारों के स्वाभाविक पसंद थे ।

बिमल राय ने साहित्यिक कृतियों पर फिल्में बनाने की एक परंपरा विकसित की थी । बलराज साहेब की फिल्मों पर यथार्थवाद व नव-यथार्थवाद आंदोलन का प्रभाव रहा । सामाजिक उत्तरदायित्व से ओत-प्रोत अभिनय कई अवसरों पर जीवंत हुआ । झूरी का चरित्र तत्कालीन ग्रामीण जीवन को व्याख्यायित करता है । झूरी के किरदार में बलराज खेतों में झूम कर मेहनत का उत्सव मनाते हैं,तो कभी ‘ओ ललनवा रे ललवना’ को ठेठ गंवई अंदाज़ में गुनगुनाते देखें जा सकते हैं । वहीं असहाय विवशता में मायूसी का समंदर भी आंखों में तारी हुआ।

बलराज ने बनावट के उसूलों को तिलांजलि देकर सहजता के नए स्तर भी स्थापित किए। किसान की भूमिका में पात्र व अभिनेता में विभेद नहीं किया जा सकता । वह ग्रामीण परिवेश के स्वाभाविक हिस्सा प्रतीत हुए हैं । उस समय के अभिनेता धोती पहन कांधे पर हल व फावड़ा को उठाकर गौरवान्वित महसूस करते थे । बलराज साहनी इस परंपरा के अग्रणी वाहकों में से एक थे । इससे पूर्व वक्त की धारा मोड देने वाली ‘धरती के लाल’ एवं ‘दो बीघा जमीन’ में ग्रामीण की भूमिका में नजर आए थे। चौपाल पर हुक्के का कश लेने की उम्मीद बलराज के झूरी से ही की जा सकती थी । फिर पशुधन के प्रति आदमी की संवेदना को अभिव्यक्त करने में भी सफल रहें थे। निरंजन (धरती के लाल) एवं शंभू (दो बीघा जमीन) के पात्रों का अनुभव की झलक ‘झूरी’ में मिली । हीरा-मोती के झूरी की परिस्थितियां उस स्तर की चुनौतीपूर्ण न हो लेकिन शोषित-दलित वर्ग की पीड़ा वही थी। यह कहा जा सकता है कि झूरी की कहानी ‘हाशिए’ की तस्वीर थी । झूरी के दुखों का मुख्य कारण शोषण का सामंतवादी केंद्र है। हाशिए के लोगों की फिक्र में सिनेमा में भी अपने स्तर पर आंदोलन चलाए । जीवन के यथार्थ को सामने रखने की पहल हुई । नवनिर्माण लक्ष्य को नजर में रखते हुए ग्रामीण परिवेश को भी प्राथमिकता दी गई ।

बलराज सरीखा कलाकारों ने जिन पात्रों के उत्थान के लिए संघर्ष किया, वो आज भी हाशिए पर हैं। शोषण, गरीबी, भूखमरी की विक्राल समस्याओं से उभर नहीं सके हैं। मनरेगा जैसी महत्त्वकांक्षी योजना भी इनका भला नहीं कर सकी। समकालीन व्यवस्था सामंतवादी सत्ता के मौन समर्थन की दिशा में है। झूरी-जोखू-होरी जैसे लोगों के साथ आज भी अन्याय हो रहा। जिन पात्रों की कहानी आदमी में संवेदना का सृजन करती है, उनकी स्थिति में बदलाव के लिए इस ओर से ठोस प्रयास आवश्यक है। क्योंकि शोषण का स्वरूप अब बदल गया है, लेकिन उसका दमनकारी चक्र वही है । उदारवादी-नव उदारवादी नीतियों की एक बड़ी कीमत झूरी, रजिया, शंभू जैसे लोगों को चुकानी पड़ी है। बलराज साहनी सरीखा फनकारों की मेहनत को बरबाद होते देखा है।

-----------------

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------