बुधवार, 21 मई 2014

पत्रिका हम सब साथ-साथ की मैत्री संगोष्ठी

image

रिपोर्टः

दिल्ली में संपन्न हई हम सब साथ साथ की रोचक फेसबुक मैत्री संगोष्ठी

दिल्ली। यहां बुद्ध पूर्णिमा के शुभ अवसर पर सुरभि संगोष्ठी के सभागार में हम सब साथ साथ पत्रिका द्वारा प्रथम क्रियेशन एवं सुरभि संगोष्ठी के साथ मिलकर तृतीय फेसबुक मैत्री संगोष्ठी का रोचक, मनोरंजक एवं ज्ञानवर्द्धक आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ सर्वश्री किशोर श्रीवास्तव, पूनम माटिया, संगीता शर्मा एवं निवेदिता मिश्रा के भाईचारे गीत ‘‘इंसान का इंसान से हो भाईचारा, यही पैग़ाम हमारा...‘‘के साथ हुआ तत्पश्चात दिल्ली एनसीआर व दूरदराज क्षेत्रों के अनेक फेसबुक मित्रों ने फेसबुक की वर्चुवल दुनिया से निकलकर रियल दुनिया में आकर अपने खटटे-मीठे अनुभव मित्रों के साथ साझा किये।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथियों में शामिल सर्वश्री विनोद बब्बर (संपादक-राष्ट्रकिंकर), डा. सरोजिनी प्रीतम (प्रसिद्ध व्यंग्यकार), विजय गुरदासपुरी (प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक) एवं श्रीमती रेखा बब्बल (फिल्म/धारावाहिक लेखिका व निर्माता, मुंबई) ने भी फेसबुक के अपने रोचक अनुभव व रचनायें सुनाकर श्रोताओं को ताली बजाने पर मज़बूर किया। इस अवसर पर एक प्रतियोगिता के माध्यम से चुनी गई पांच प्रतिभागियों (संजना तिवारी, आंध्रा, पूनम माटिया, निवेदिता मिश्रा, राम के. भारद्वाज दिल्ली एवं जगत शर्मा, दतिया) को स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। निर्णायक मंडल में शामिल थे, सर्वश्री ओम प्रकाश यति, अनिल मीत एवं डा. पूरन सिंह। श्री यति ने भी फेसबुक के अपने श्रेष्ठ अनुभव अपनी बेहतरीन शायरी के साथ साझा किये।

इस अवसर पर सर्वश्री डा. दीपक, कामदेव शर्मा, मनीष मधुकर, विनोद पाराशर, विमलेन्दु सागर, नागेन्द्र, सोमा बिस्वास, अलका, संगीता शर्मा, नवीन द्विवेदी, असलम बेताब, चंद्रसेन, अविनाश वाचस्पति, रमेश, मधुबाला, सुजीत शौकीन, डा. के. चौधरी एवं शशि श्रीवास्तव आदि ने भी अपने रोचक व मनोरंजक विचार गद्य एवं पद्य में प्रस्तुत किये और श्रोताओं की वाहवाही बटोरी। संगोष्ठी में फेसबुक की अन्य जो चर्चित हस्तियां मॉजूद रहीं उनमें सर्वश्री भानु शर्मा, संजू तनेजा, कमला सिंह जीनत, रचना आभा, मनीषा जोशी, सखी सिंह, भुवनेश सिंघल, दीपक गोस्वामी, रामश्याम हसीन, राघवेन्द्र अवस्थी, बबली वशिष्ठ, पीके बास, अंजू चौधरी, नीलिमा शर्मा, अखिलेश द्विवेदी, प्रतीक, शशि कुमार तिवारी,, मंजू लता, अमित कुमार, शीतल आहूजा रेणु बाला एवं दिव्या आदि के नाम विशेष उल्लेखनीय हैं।

समस्त कार्यक्रम के सुंदर संयोजन एवं छायांकन में श्री राजीव तनेजा (सुरभि संगठन) एवं व्यवस्था को बेहतरीन अंजाम तक पहुंचान में श्री पंकज प्रथम (प्रथम क्रियेशन) की प्रभावशाली भूमिका रही। 4 घंटे से भी अधिक समय तक चले इस पूरे कार्यक्रम के बीच हंसी के फव्वारे छूटते रहे और श्रोतागण अपनी कुर्सियों से चिपके बैठे रहे। कार्यक्रम के सफल संचालन एवं हास्य की फुहारें छोड़ने का जिम्मा उठाया था हम सब साथ साथ के कार्यकारी संपादक श्री किशोर श्रीवास्तव ने।

-रिपोर्टः पंकज त्यागी, नई दिल्ली

3 blogger-facebook:

  1. यह बहुत ही सराहनीय कार्य है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. अखिलेश चन्द्र श्रीवास्तव8:45 am

    मनुष्यों के साथ साथ आने से समाज बनता है
    उनमे भाई चारा और प्यार व्यवहार बढ़ता है
    यदि हम व्यक्तिगत छुद्र स्वार्थ त्याग खुले दिलों
    से ऐसे मिलने जुलने को बढ़ावा दें तो समाज का
    बहुत उपकार होगा इस सम्मलेन के आयोजको
    और सहभागियों प्रतिभागियों को कार्यक्रम के सफल सानन्द आयोजन पर मेरी शुभकामनायें

    आशा है इस विचार से प्रभावित होकर ऐसे बहुत
    सारे आयोजन किये जायेंगे जिससे लोग घरों से
    निकल समाज से जुड़ें और हम सब एक बेहतर
    कल की और प्रस्थान कर सकें

    आमीन आमीन आमीन

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------