शुक्रवार, 27 जून 2014

हरदेव कृष्ण का आलेख - विराम से आगे

विराम से आगे हरदेव कृष्ण किसी शायर ने लिखा है,"मौत का एक दिन मुअय्यन है, नींद क्यों रात भर आती नहीं?" हर जीव को मृत्यु का भय सबसे...

गोवर्धन यादव का यात्रा संस्मरण - मारीशस माने मिनि भारत की यात्रा.(किस्त-७)

पिछली किश्तें – 1   | 2   |  3 | 4 | 5 | 6   दिनांक 28 मई 2014 मारीशस यात्रा पर आए हुए 120 घंटॆ,= 7200 मिनट,= 432000 सेकंड कैसे बीत गए प...

पंकज प्रसून का व्यंग्य - गढ़तंत्र की झांकी

व्यंग्य लेख -गढ़तंत्र की झांकी हमारे उत्तर आधुनिक संविधान ने इंसान को बनावटी बना दिया है और अधिकारों को मौलिक. ये अधिकार, अधिकारियों की ब...

बुधवार, 25 जून 2014

शैलेन्द्र नाथ कौल की बाल कहानी - मन्टू और चन्टू

  सिद्धपुर गांव में दो जुड़वा भाई मन्टू और चन्टू रहते थे । दोनों का बचपन बहुत कठिनाइयों में बीता । जब वे पांच वर्ष के थे तभी उनके पिता दयारा...

पुस्तक समीक्षा : हिन्दी में ज्ञानात्मक साहित्य : तीन किताबें, तीन दृष्टियाँ, तीन आयाम

हिन्दी में ज्ञानात्मक साहित्य : तीन किताबें, तीन दृष्टियाँ, तीन आयाम (डॉ विपिन चतुर्वेदी की दो किताबें “ऊतकी परिचय” तथा “मानव शरीर की अस्थिय...

एम. आर. अयंगर का आलेख - बचिए, कान खाए जा रहे हैं

बचिए – कान खाए जा रहे है. आँखों को बचाने के साधारण तरीकों के बारे लिखा लेख पसंद कर कुछ साथियों ने कानों की सुरक्षा के बारे में भी लिखने का...

प्रमोद यादव की कलात्मक फ़ोटोग्राफ़ी : चेहरा एक - भाव अनेक

 

प्रमोद यादव का व्यंग्य - दिल्ली की बेदिली

दिल्ली की बेदिली / प्रमोद यादव ‘एक बात कहूँ जी ? ‘ पत्नी ने बिस्तर ठीक करते कहा. ‘ हाँ...कहो..’ पति ने टी.वी. में आँखें जमाये जवाब दिया. ‘ ...

सूर्यकांत मिश्रा का आलेख - गुणवत्ता शिक्षा के लिए व्यवस्था परिवर्तन जरूरी नित नये प्रयोगों ने पहुँचाया लचर स्थिति में

              अब नवीन शिक्षा सत्र् 2014-15 शुरू हो चुका है। यही कारण है कि प्रदेश के स्कूल शिक्षा विभाग ने शिक्षा को पटरी पर लाने की कवायद ...

ज्योतिर्मयी पन्त की कहानी -- जिजीविषा

जिजीविषा रीना का विभा से आज अचानक मिलना हुआ .शहर के एक बड़े अस्पताल में डाक्टर की केबिन में वह डाक्टर की प्रतीक्षा में बैठी थी .अपने एक रिश्...

स्वप्ना नायर का आलेख -- मोहन राकेश हिन्दी नाटक का नवीन हस्ताक्षर

आलेख मोहन राकेश हिन्दी नाटक का नवीन हस्ताक्षर स्वप्ना नायर, तमिलनाड़ु के कॉयम्बत्तूर करपगम विश्वविद्यालय में प्रो.(डा.) के.पी.पद्मावती ...

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------