बुधवार, 2 जुलाई 2014

सुशील यादव का हास्य-व्यंग्य - हर दिल जो प्यार करेगा…

हर दिल जो प्यार करेगा ....

जनाब आपका जवाब गलत .....!

आपकी तो ये आदत है कि मुखडा देखते ही तीर निशाने पे लगाने की सोच लेते हो ?

आज के जमाने में ये जरूरी नही कि प्यार करने वालों को गाना, गाना अनिवार्य हो ?

अब फिल्मी ,हीर –रांझा ,लैला-मजनू,शीरी –फरहाद वाले दिन लद गए।

तब किसी डायरेक्टर को रोमेंटिक दो-चार गानो का जुगाड हुआ नहीं कि, पूरी फिल्म बनाने की सोच लेते थे । अपने हीरो हीरोइँन से बात –बात पे गाना गवा बैठते थे ।

इधर पिता ने इम्तिहान का मार्कशीट देखना खत्म नहीं किया, उससे पहले गाने के बोल चालु हो जाते थे ।

ये कैसा इम्तिहान प्रभु ,ये कैसा इम्तिहान ....,

तुने बनाया इंसान प्रभु ,तू ने बनाया इंसान ।

अगर बनाया इंसान ,काहे न डाले प्राण .....

गणित ,भूगोल कराया फेल ....

दिया ‘दीया’ हाथ बिन तेल ...

कभी भगत को पहचान ....प्रभु, कभी भगत को पहचान..

बाप का पिघलना,बेटे की पढ़ाई छुड़वाना,बेरोजगार अपढ़ बेटे का रईस बनना सब एक गाने के फ्लेश-बेक में हो जाता था ।

हीरोइन से इश्क के मुद्दे पर घर वालो से नाराजगी,इंटरवेल के बाद चलती थी ।

डाइरेक्टर को ,नदी के गाने ,’पनिया भरन’ के गाने ,सखी-सहेली के गाने,मंदिर जाने के बहाने वाले गाने और सब गानों में उलाहनो ,उलझनों को ...फिल्माने का उस जमाने में एक्सपर्ट होना जरूरी होता था ।

सब गानों में मीठी याद, याद में कसक, कसक में दर्द, दर्द में पीड़ा , जो जितनी अच्छी तरह से समेट ले वही बड़ा डायरेक्टर ....।

रात का गहरा सन्नाटा है मगर हीरोइन के चहरे में गजब की लाईट दिखा के भाव को उभारना ,दिन का उज्वल प्रकाश है ,मगर हीरो किसी परछाई के नीचे दम साधे मायूसी का गीत गवा देना डिरेक्टर का कमाल होता था ।

उस जमाने में ये भी एक नजारा था ।

“मेरे पीया गए रंगून ,किया है वहाँ से टेलीफून ,तुम्हारी याद सताती है । ”

जिस जमाने में चार-पांच दिन लाइन मिलाने में लग जाते थे वहा ,बहुत सहज भाव से रंगून एस टी डी लगी-लगाईं मिल रही है। प्यार करने वालों को हर जगह छूट का,कंसेशन का प्रायरटी का मामला हो जैसे ।

तब के लोगो को सिनेमाई नसीहत दी जाती थी कि ,गाव में कोई ‘खाप-पंचायत’ नहीं बेखौफ हो के प्यार करो ,गाना गाओ ,विलेन ठोको, शादी बनाओ।

पूरे फ़िल्मी एपीसोड में बाप से ज्यादा कोई दूसरा तंग-बेहाल नहीं रहता था । बेचारा बाप अपनी इज्जत ,पगडी और प्रतिष्ठा के नाम पर बेटे को, बेटी को ‘प्यार’ से दूर रखने की कोशिशे करता था । आखिर में उसे झुकना है ,ये दर्शक टिकट लेने के पहले भी जानते थे ।

जनाने क्लास में सुबकियों का दौर चलता था ,बड़ा जालिम बाप है ,ये बुआ को तो काट के फेक देना चाहिए बहुत दुष्ट है, जैसे कमेंट्स लाखों बार सुने गए होंगे ।

हीरो या हिरोइन तब के हालात में सिसकियों भरा विरह गीत गा लेती थी जो बिनाका गीत माला में सुपरहिट हो के दो-तीन सालों तक बजा करता था ।

जनाब हमने भी प्यार-व्यार किया है ।

जिंदगी भर गाना गाने का सिचुएशन तलाशते रह गए । गाने की स्क्रिप्ट नहीं मिली । खुद की बनाई ‘चार लाइन’ के ‘बोल-धुन’ नहीं जमे । अकेले भी गुनगुनाने की हिम्मत नहीं हुई । कभी उसको चेताया कि इस मौके पर हमें कुछ गाने का जी कर रहा है, तो वे कहती कोई फिल्मी गाना वो भी सुर में गा सको तो सुना दो वरना टाइम क्यों खराब करते हो ?

हमारे सिनेमा वाले, जाने कैसे सत्तर-अस्सी सालो से दिल की आवाज को लगातार बिना रोक-टोक फिल्माए जा रहे हैं ?

हाल के दिनों में प्यार की अभिव्यक्ति में मुन्नी बदनाम हो रही है,चमेली पउव्वा चढा रही है ,कोई झंडू बाम रगड रही है,तो कोई उ.... ला... ला करके मस्तिया रही है। किसी की एंट्री में घंटी बज रही है तो कोई लुगी खिचाई में लगा दीखता है । इजहारे मोहब्बत का ये आलम कहाँ जा के रुकेगा पता नहीं ?

प्यार के एक्सप्रेशंन ,इमोशन के तरीके में बदलाव हर युग में अपने –अपने तरीकों से होते आया है। तुझको मिर्ची लगी तो मै क्या करू .....?

पहले खिचडी की गंध से पता चलता था कि अमुक घर में कोई बीमार चल रहा है ,अब तो घर-घर खिचडी पक रही है,मगर जरूरी नहीं कि सब बीमार हों ?

सुशील यादव

न्यू आदर्श नगर दुर्ग (छ. ग.)

२५.६.१४

4 blogger-facebook:

  1. अखिलेश चन्द्र श्रीवास्तव9:07 am

    सुशील भाई क्या कमल का व्यंग है मज़ा आ
    गया आज बतामीज़ दिल की भरमार है उन्ही
    गानों पर लोग उछलते कूदते दिख जायेंगे लोगों
    की पसंद इस तरह बदरंग और बेहाल हो जाएगी
    कौन जनता था अच्छे अच्छे संगीतकार और
    गायक उस ज़माने के इस गिरावट को कोस रहे
    हैं जहाँ बेसुरे और शोर शराबे गीत संगीत की
    भरमार है गाने की लाइने समझ नहीं आती बस शोर ही शोर सुनाई पड़ता है अछे सामयिक व्यंग
    के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. shri अखिलेश चंद्र जी

    आपने पुराना ज़माना जो देखा है ,सामंजस्य बिठाने में क्या -क्या नहीं गुजर जाती दिल पे ?
    साथ ले के न चलें जो कहा जाए ?

    बहरहाल आपने व्यंग पसंद किया |धन्यवाद

    आपका
    सुशील यादव

    उत्तर देंहटाएं
  3. अखिलेश चन्द्र श्रीवास्तव9:33 am

    जी बिल्कुल एक गाना था " चन्दन सा बदन चंचल
    चितवन धीरे से किसी का मुस्काना मुझे दोष न देना
    जगवालो हो जाऊ अगर मैं दीवाना ......"एक एक शब्द
    एक एक मोती सुन्दरता और मधुरता से भरपूर मशहूर
    लेखक और शायर महीनो परिश्रम के बाद ऐसा गाना लिख पाते थे फिर धुनवाले ...गायक..वाद्य वृन्द अथक
    मेहनत और समय लगा तब ऐसा सदाबहार गाना तैयार
    होता था आज भी जब ऐसे गाने बज्तें हैं मन को मोह
    ही लेते है और ख़ुशी की बात है कि बहुत सारे युवावर्ग
    इनके मुरीद हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. मै जब भी अकेली होती हूँ
    तुम चुपके से आ जाते हो
    और झाँक के मेरी रातों में
    बीते दिन ,याद दिलाते हो ......

    कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन ?

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------