मंगलवार, 26 अगस्त 2014

दीप्ति सक्सेना की कविताएँ

image  

तू ही

अदा नहीं , चाल नहीं 

तेरी कोई मिसाल नहीं ,

तू वक़्त का शहंशाह 

डरता कोई इंसान नहीं । 

पहाड़ हो मुसीबत का 

बहती नदी का तूफान सही 

रुके न तू 

थके ना तू 

हर लम्हा तेरी पहचान वहीं। 

घुल जाये रिश्तोँ में 

बना ले पलों में अपना ,

हँसी में घुलता प्यार 

खुशियों की महकती मिठास वही।

सूरज की गर्मी 

चाँद की ठंडक ,

आसमां में उड़ता बाज 

और धरा की सिमटी घास है तू । 

और क्या कहूं मैं ए- दोस्त 

तू है खुदा का फरिश्ता ,

या प्यार का रिश्ता ,

दर्द को छिपाए खुद में 

एक उलझा  सवाल है तू । 

दे तू सभी को हँसी 

होठों में छिपी मुस्कान है तू ,

खुश हूँ मैं तुझे पाकर 

किस्मत से मिला उपहार है तू। 

--------------

 

विजय पथ           /         रे मन

रे मन ,

हार मत 

हौसलों के पंख लगा 

उड़ता चल , 

चीर हर बाधा तू 

चूम ले गगन। 

रे मन ,

उत्साहित हो 

उतर कर्म कुरुक्षेत्र में ,

विचल हो 

खो मत ये क्षण ,

ले शपथ 

अविचल हो 

साधना है पथ।

रे मन 

उतर समर में 

उठा शस्त्र कमल का ,

शब्द अग्निबाण चला 

कोढ़ सी 

समाज में फैली 

बुराइयों की होली ,

तू  जला। 

रे मन 

मत भूल 

एक बूंद जल से 

काल विकराल 

हार जाता है ,

और एक शब्द ही 

कभी - कभी

पूरा जीवन 

बदल जाता है। 

--------------

 

एक पागल /  दुनिया की हकीकत /  उसको खबर नहीं है

                  एक पागल ही खुश है

                  बस इस दुनिया में ,

                  क्यों की क्या हो रहा है यहाँ

                 ये उसको खबर नहीं.

                 भगवन बन साधू करे दुराचार,

                 खुद बाप बेटी  से करे बलात्कार ,

                  दहेज हेतु आज सीता करे हाहाकार ,

                 रक्षक भक्षक बन करे रहे अत्याचार .

                                   ये उसको खबर नहीं

                                   एक पागल ही खुश है इस दुनिया में.....

                  जनता द्वारा जनता पर शासित हो ,

                  कर  रहे जमकर भ्रष्टाचार

                 नौकरशाही ठाठें मारे फाइव स्टार में

                 गरीब भूख से मार रहा चित्कार,

                                 ये उसको खबर नहीं

                                एक पागल ही खुश है इस दुनिया में.....

                 विश्व गुरु भारत ,

                 भूले अपनी निज संस्कृति

                 चल रहा पश्चिमी चाल ,

                              ये उसको खबर नहीं

                              एक पागल ही खुश है इस दुनिया में.....

                क्यों की  उसको खुद की भी खबर नहीं..........

---------------

चलो कुछ ख़ास करें     

             चलो यारो कुछ खास करते हैं 

                  देश की छोड़ो अपनी ही बात करते हैं ,

                      शुरू करते हैं उसी जगह से 

                 जहाँ हमने पहला कदम रखा था ,

                महसूस किया था हवाओं की खुशबू को

                  और अंगुली पकड़ घर की सीमा 

                         को पार किया था ,

                नन्हे पाव चलते थे जिस धरती पर ,

                     तुतलाती बोली से उसका

                        नाम भारत लिया था,

                        आज वहीं खड़े होकर 

                        क्यों लड़ रहे हैं हम,

                  क्यों मणिपुर और कश्मीर में 

                      फर्क कर रहे हैं हम ,

                  क्या वक़्त नहीं है हमारे पास  

                     की थोड़ा सा रुके जाये ,

                     थोड़ा करे आत्मचिंतन 

                         और पूछे खुद से,

                 क्या हैं ज़िम्मेदारियाँ हमारी 

                   और क्या कर रहे हैं हम ,

                 क्यों नहीं देश विश्वगुरु हमारा 

                    और क्यों इतना बिगड़ हम,

                     क्या हम हैं सच्चे नागरिक

                        कहलाने के लायक ,

                        या औरों की तरह ही

                        ढोंग कर रहे हैं हम ,

                 चलो यारो कुछ खास करते हैं 

             देश की छोड़ो, अपनी ही बात करते हैं……

--------------

 

बस का किराया

                   आओ सुनाऊं एक कहानी 

                  बी आर टी एस में चढ़ी गुड़िया रानी ,

                            उत्तर रहे थे 

                        कुछ लोग लड़ के 

                         पूछा मैंने उनसे 

                          तो कारण था 

                        खुल्ले पैसे इसके ,

                      परिचालक ने हड़काया था 

                         उतरो जाओ नीचे 

                        अगर जब में नहीं है 

                            खुल्ले पैसे, 

                      छ सात बारह अठारह 

                           वाह रे सरकार 

                     क्या किराया बनाया ,

                  या यूँ कहे लोगो को लड़ाने का 

                      नया पैंतरा सुझाया । 

 

------------

 

ये कैसी देश भक्ति ????

देश का स्वाभिमान इतना 

की छाती गर्व से फूल जाये ,

लेकिन जब आये याद 

बलात्कार और भ्रष्ट्राचार 

की बातें ,

सर शर्म से झुक जाये । 

देश का प्रतीक तिरंगा

जब उसे ही मंत्रीगण उल्टा 

लहराए,

माने इसे हम भूल किसकी 

और किसे दोषी ठहरायें ।

बलात्कारी बैठे संसद में

भ्रष्ट्राचारी देश चलाये ,

कहाँ जाये अबला न्याय मांगने ,

जब अँधा कानून

पैसे में बिक जाये ।

स्वतंत्रता दिवस के दिन

देश भक्ति गीत 

तो खूब गाए ,

वहीं नई फिल्में सजे 

पिक्चर हॉल में ,

और देश भक्ति सारी  

पल में धूल जाये ।

कहाँ सी आये देश भक्ति का भाव 

जब टीवी में ही 

लहराता झंडा दिख जाये ,

वक़्त नहीं इतना भी आज ,

की एक बार

जन-मन-गण तो गाए ।  

फिर क्यों रचे ढोंग सारा 

क्यों स्वतंत्रता दिवस मनाये ,

जब मन ही नहीं 

माने देश को अपना 

तो हम कैसे भारतीय कहलाये ????

---------------

 

अपने

दुःख होता है जब
कोई बहुत करीब आकर
दूर चला जाता है ,
उस पर थोड़ा
मुस्कुरा क्या ले ,
लोगों को लगता है की
यादों का दर्द
यूं ही मिट जाता है ,
क्या बताए उन्हें
और क्या समझाए ,
जरूरी नहीं कि
हर वक़्त दर्द जुबां या
आँखों में ही दिखे ,
वो तो दौड़ता हुआ नसों से
खून में मिल जाता है .............

-----------

बचपन की बात ......

दिल से निकली एक ख्वाहिश याद आती है 

गुज़रे लम्हों की बात याद आती है 

याद आते वो पल जब हम नादान थे 

स्कूल कि लङाई और 

रिसेस की मस्ती याद आती है ,

याद आता है खेल क मैदान 

उड़ती मिट्टी की खुशबू याद आती है ,

घर आकर जूते फेंकना 

और मम्मी के हाथ की मैगी याद आती है,

रविवार की नींद , समोसे क नाश्ता 

सामने चलता टीवी और पापा कि डाँट याद आती है, 

याद आता है बचपन का हर दिन 

और हर दिन की बात याद आती  है ,

वक़्त निकलता नहीं इतनी भी जल्दी 

हम ही लहरों में फँस जाते है ,

जी रहे होते है बचपन में ही 

फिर भी बचपन की ही याद आती है।  

दिल से निकली एक ख्वाहिश याद आती है 

गुज़रे लम्हों की बात याद आती  है। 

 

 

 

                              दीप्ति सक्सेना…

                         

       ढेहर का बालाजी , जयपुर , राज

1 blogger-facebook:

  1. समसामयिक विषयो पर आधारित कविताये बहुत कुछ कह गयी .

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------