बुधवार, 17 सितंबर 2014

ओम प्रकाश शर्मा की कुण्डलियाँ - कुण्डली दशक

image

कुण्डली दशक

(1)
हिन्दी दिवस मना रहा,भाषा संस्कृति विभाग।
जन-मन में है लग चुकी,  अंग्रेजी की आग।
अंग्रेजी  की आग , झुलसाती  रहे सारे  ।
माँ मम्मी डैड पिता, शिक्षित संतान पुकारे ।
कह ‘प्रकाश नैतिकता पुनः हो सकती जिन्दी।
दे दो उनका साथ, प्रचारित करके हिन्दी ।


(2)

निज भाषा में बात का, अनूठा है आनंद।
रुकें न कहीं बीच में, भाव निकले स्वछंद॥
भाव निकले स्वछंद, सार्थक बात हो जाती।                                                                                                                                  
ले पूरा  आनंद , हमारे   संगी   साथी।                                                                          
कह ‘प्रकाश’ करे हम ,सबसे यही  आशा।                                                                  
बातचीत में करें, प्रयोग सभी  निज भाषा।


(3)
अंग्रेजी झट भूलती, पक्का  भाषा ज्ञान।                                                                    
माँ के मुख से सीखते,रहता इसका ध्यान॥
रहता इसका ध्यान, सुगम यह प्रेम बढाए।                                                                         
बालक बजुर्ग संग, सभी  इसमें  बतियाए।                                                                         
कहे ‘प्रकाश’ समझो, यह राजभाषा हमारी।                                                                    
हमको लगती तभी, सब भाषाओं से प्यारी।

 

(4)

अपना देश अरु भाषा,अरु अपना घर द्वार।                                                                                                    

हर जन को होता सदा ,इन तीनो से प्यार॥
इन तीनो से प्यार, जगत में हमने पाया।                                                                                                    

लेकिन अंगरेजी ने, लोगों को है भरमाया।
“प्रकाश’ मातृभाषा,  से अपनापन  आए।
इसमें  वार्तालाप,   आपसी प्रेम  बढाए I
   

    (5)
   
चिट्ठी-पत्र अब कम लिखें ,करे न टेलीग्राम।
मोबाइल के साथ अब, रहा न इनका काम।।
रहा न इनका काम ,तुरन्त संदेश  पँहुचाता।
प्रेमी जन को अधिक ,बात करना है भाता।
कह ‘प्रकाश’है स्कीम , लाइफ टाइम निराली।
करें सारी सारी रात, बात अब जीजा साली।

 

(6)


मोदी जी भरपूर, कर रहे हिन्दी प्रयोग।                                                                        
पैंसठ वर्ष में आया, पहला यह संयोग॥
पहला यह संयोग, राजभाषा उनको भाए।
उनके सभी भाषण,अब हिन्दी में ही आए।
विद्यार्थियों से की,चर्चा हिन्दी में सारे।                                                                                 
मातृभाषा बोल बने, वे सभी जन के प्यारेI

 

(7)

अपना देश अरु भाषा,अरु अपना घर द्वार                                                                                                     

हर जन को होता सदा ,इन तीनो से प्यार
इन तीनो से प्यार, जगत में हमने पाया                                                                                                     

लेकिन अंगरेजी ने, लोगों को है भरमाया
“प्रकाश’ मातृभाषा,  से अपनापन  आए ,
इसमें  वार्तालाप,   आपसी प्रेम  बढाए I


(8)
सतत समग्र मूल्यांकन,नई नहीं कुछ बातI                                                               

बालक को है जाँचना, अध्यापन के साथII                                                               

अध्यापन के साथ, अवलोकन करते जाना                                                                  
निर्धारित समय पर उसे,पंजिका में चढानाI                                                                             

कह प्रकाश इससे सदा, शिक्षण रहे आसानI                                                        

आवश्यकतानुसार, करते प्रतिपूर्ति के काम I

 

(9)
डांट डपट से सीखते, बालक कब संस्कार I                                                                 

वे सदैव ही देखते, जन आचरण व्यवहारII                                                                 

जन आचरण व्यवहार,सुधार स्वयं में लाओ,                                                             
निज चरित्र आदर्श रूप,जैसा बालक में चाहोI                                                                

जैसा निज आचरण तुम, उनको दिखलाओगे                                                                
संतति में वही लक्षण, तुम स्वयमेव पाओगेI


(10)
पैसे देकर पढ़ रहे, न , अहसान  की बातI                                                                

मात-पिता के दु:ख में,अब शिक्षक का हाथII                                                                 

अब शिक्षक का हाथ, कक्षा में न हो पढाईI                                                                   

घर पर ट्यूशन पढ़ा,बढ़ गई अधिक कमाईI                                                                

कहे प्रकाश आदर, क्योंकर अब मिले प्यारेI                                                               

शिक्षक ने शिक्षा जब,व्यवसाय बना दी सारेII

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------