मंगलवार, 30 सितंबर 2014

चन्द्रकुमार जैन की पांच प्रेरक कविताएँ

डॉ.चन्द्रकुमार जैन

की

पांच प्रेरक कविताएँ

 

हौसला

================

काँटों से डरने वाले

फूल-फल पा नहीं सकते

तूफां से डरने वाले

साहिल पा नहीं सकते

स्वयं चूमती चरण मुसीबत

जांबाजों की इस दुनिया में

सफ़र से डरने वाले

मंज़िल पा नहीं सकते। 

 

सुबह

===============

दो रातों के बीच सुबह है

दोष न उसको देना साथी

दो सुबहों के बीच रात भी

एक ही जीवन में है आती !

आगत का स्वागत करना है

विगत क्लेश की करें विदाई,

शाम बिखरकर, सुबह जो खिलीं

कलियाँ कुछ कहतीं मुस्कातीं !

 

पूजा

================

किसी के काम आ जाएँ

अगर ये हाथ तो पूजा हुई !

किसी के दर्द में दो पल हुए

गर साथ तो पूजा हुई !

माना कि प्रार्थना में होंठ

रोज़ खुलते हैं मगर,

आहत दिलों से हो गई

कुछ बात तो पूजा हुई !

 

ख्वाहिश

================

क्यों यहाँ हर शख्स औरों में

किसी की खोज में है ?

ख़बर अपनी ही नहीं उसको

न ही वह होश में है !

पाँव के नीचे ज़मीं

चाहे न हो पर देखिए तो

आसमां की बुलंदी छूने की

ख़्वाहिश जोश में है !

 

ज़िंदगी

================

मिली हुई दुनिया की दौलत

भूल न जाना माटी है !

हाथ न आई है जो अब तक

दौलत वही लुभाती है !

लेकिन इस खोने-पाने की

होड़-दौड़ भी अद्भुत है,

भूल गए हम जीना भी है

श्वांस भी आती-जाती है !

============================

प्राध्यापक, शासकीय दिग्विजय पीजी कालेज,

राजनांदगांव।

1 blogger-facebook:

  1. जैन साहब की सभी कविताये न केवल प्रेरणादायक है
    जिन्दगी से भी रूबरू करवाती है बधाई

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------