शनिवार, 20 सितंबर 2014

पुस्तक समीक्षा - हाशिए से

image

पुस्तक :     'हाशिए से'
कवि :       मित्रेश्वर अग्निमित्र
प्रकाशक :    फोनीम पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीव्यूटर्स प्रा.लि.
            12-ए/15, गली न. 6, विजय मोहल्ला, मौजपूर, दिल्ली-110053
मूल्य :       175 रूपए

    एक मानवीय समाज में हाशिया नहीं होना चाहिए परंतु हमारे समाज में हाशिया विद्यमान है। लोकतंत्र के भारतीय संस्करण के चित्र पाठकगण कवि मित्रेश्वर अग्निमित्र की कविता संग्रह 'हाशिए से' में देख सकते हैं, जो आक्रमक शैली में लिखी गई है। कवि अग्निमित्र की इससे पहले आयी कविता संग्रह 'फरियाद नहीं' में भी वही आक्रमक शैली हम देख चुके हैं।
    कवि कहते हैं-

ताज्जुब यह नहीं कि
                  तुम
                  जहरीले-बदबूदार-जानलेवा हो
                  अचरज यह कि
                  हम तुम्हें
                  पालते-पोसते-सहते है
                  डंक झेल कर
                  समझ-बूझ कर भी
                  बार-बार !


    कवि अग्निमित्र की कविताएँ सपाट कविताएँ जरूर है परंतु विचार की दृष्टि से स्तरीय हैं। बजारू होते समय में श्री अग्निमित्र की कविताएँ अपने समय का बोध कराने में सक्षम है। प्रतिष्ठित कवि वीरेन डंगवाल ने लिखा है कि ''आज यह देखना बेहद जरूरी है कि कविताएँ अपनी जमीन के संकटों को पहचानने का काम कर रही है, वे अपने समाज की हर परत में जाने का कार्य कर रही है या नहीं ?'' इस दृष्टिकोण से मित्रेश्वर अग्निमित्र की कविताएँ बिल्कुल खरी उतरती है क्योंकि वे अपनी जमीन के संकटों को पहचानने का काम भी कर रही है और अपने समाज की हर परत में जाने का कार्य भी कर रही है। उदाहरण के लिए-

'पहले दुनिया में बाजार था
                                                 अब, है बाजार में दुनिया
                                                 पहले कुछ बजारू थे
                                                 अब, सब बजारू '
    एक दूसरी कविता देंखे-

'वह बड़ा शौकीन
                            फिल्मों का
                            पहले
                            बम्बइया उत्पाद देखता था
                            अब फोकट में
                            देखता है-
                            पार्लियामेंट लाइव !


    आज के समय में जब फैशन के तौर पर लोग कविता लिख रहें हैं, कवियों की भीड़ तो बढ़ी है लेकिन कविता का स्तर नहीं बढ़ा, वैसे समय में कवि अग्निमित्र की कविताएँ सपाट भाषा में लिखी कविता होने के बावजूद वैचारिक तौर पर उद्धेलित करती है, जो समकालीन समय की कठिनतम चुनौतियों का सामना करने में सक्षम है। यहाँ कवि अग्निमित्र की एक कविता का दृष्टांत देना उपयुक्त लगता है-


                   'जिस पन्ने पर
                       किसानों की आत्महत्या की
                    खबरें छप
                     जिस पृष्ठ पर
                  याद किया गया था
                  भोपाल गैस त्रासदी को-
                  ह्दय विदारक
                  आंकड़ों से भरे थे बॉक्स
                  उस पन्ने पर छपी थी
                  आला वजीर की
                   ताजगी भरी तस्वीर'


    वरिष्ठ कवि नरेश सक्सेना एक जगह लिखते हैं-


                                           'जैसे चिड़ियों की उड़ान में शामिल होते है पेड़
                                            क्या मुसीबत में कविताएँ होंगी हमारे साथ ?


    'हाशिए से' की कविताओं से गुजरने पर यह एहसास होता है कि मुसीबत में जो कविताएँ साथ होनी चाहिए, वो यही है, जैसे-

'धरातल पर
                                नहीं रहता
                                टूटने-गिरने का भय
                                समतल बनने तक !
                                मीनारें रहेंगी त्रास्त
                                गुम्बदों का टूटना
                                जारी रहेगा ! '


    एक अन्य कविता देंखे-

'1947 तक एक जंग जारी थी
                          1947 से एक जंग हुई शुरू
                          एक जंग थी
                          फिरंगियों के खिलाफ
                          एक जंग चलती है
                          उन सांपों के खिलाफ
                          जो दुबके है आस्तीनों में !'


    इस कठिन समय में एक बड़ा फलक रचने वाली कवि अग्निमित्र की कविताएँ जहाँ तमाम विशेषताओं और उपलब्धियों से भरी हुई है वहीं उनकी जीवन की पीड़ा भी है। एक कविता के दृष्टांत से समीक्षा समाप्त करना चाहूँगा-

'इस सिक बेड से
                                  जरूर होगी मेरी रिहाई
                                  मगर, मेरे देश का
                                  ना तो ऑपरेशन होगा
                                  ना होगी अस्पताल से छुट्टी
                                  गहरी, आशंकाएँ
                                  परेशान करती है मुझे !'

                        
राजीव आनंद                                                                     
प्रोफेसर कॉलोनी, न्यू बरगंड़ा
गिरिडीह-815301
झारखंड

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------