रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

नन्दलाल भारती की कहानी अंतरद्बंद्ब

SHARE:

डा.नन्दलाल भारती                                                    कवि,कहानीकार,उपन्यासकार                                                ...

डा.नन्दलाल भारती                                                   
कवि,कहानीकार,उपन्यासकार                                                      चलितवार्ता-09753081066                        
एम.ए. । समाजशास्त्र ।  एल.एल.बी. । आनर्स ।
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन ह्यूमन रिर्सोस डेवलपमेण्ट

मनोहर के जीवन के शुरूआती दिन काफी कष्टप्रद बिते थे। मां-बाप भूमिहीन मजदूर थे।परिवार बड़ा था। कमाने वाले सिर्फ मनोहर के बाप धनीराम मांता लक्ष्मीनादेवी। मनोहर के मांता बाप नाम से तो इतने धनी थे कि लगता था कि धन के देवी-देवता धनीराम और लक्ष्मीनादेवी के तहखाने में पालथी मारे बैठो हो पर था एकदम उल्टा। धनीराम का परिवार दाने-दाने के लिये मोहताज था। धनीराम और लक्ष्मीनादेवी जमीदारों के महल से खेत तक पसीना बहाते थे चूल्हा गरम करने के लिये। महीने में कई ऐसे मौके आते थे जब पानी पी-पीकर परिवार को रात गुजारनी पड़ जाती थी।भूख से त्रस्त छःबच्चों के पेट भरने के लिये कभी-कभी बटाई पर बोयी अधपकी फसल काटकर परिवार का पेट भरने के लिये खेत मालिक के सामने गिड़गिड़ाना भी पड़ता था। एक बार की बाढ आयी हुई थी,घर में खाने को अन्न का  दाना नही थी। लक्ष्मीना कमर तक पानी से होकर धान के खेत तक पहुंची थी। अधपके धान के खेत से धान काटी और बड़ी मुश्किल से सिर पर रखी बाढ़ के पानी के तेज बहाव को पारकर पगडण्डी पर पहुंची ही थी कि गांव के मुर्दाखोर जमींदार सूरजबाबू की नजर लक्ष्मीना पर पड़ गयी। सूरजबाबू बंधुआ मजदूर को ललकारते हुए बोले अरे घुरहुवा दौड़ देख चोरनी खेत से धान काटकर ले जा रही है।घुरहू घेरकर लक्ष्मीना को पकडकर जमींदार के सामने हाजिर कर दिया।

जमीदार-क्यों लक्ष्मीना तुम चोरनी कब से बन गयी।
लक्ष्मीना आव ना देखी ना ताव वह बेखौफ बोली बाबू चोर तो जमींदार हो सकते है मजदूर नहीं।
जमीदार की जबान तालु में चिपक गयी पर बेशर्म बोला धान अपने बाप के खेत से काटकर ले जा रही हो।
लक्ष्मीना-हां मेरे बाप का ही समझ लो अधिया पर रोपी हूं, और खेत मालिक को बता कर काटी हूं बच्चों और मवेशियों का पेट भरने के लिये।

घुरहू बोला -लक्ष्मीना नाराज क्यों होती है जमीदारबाबू समझे है कि उनके खेत से काटकर ले जा रही है।
लक्ष्मीना-जमीदार बाबूओं की तो दी हुई है अपनी और अपने समाज की बदनसीबी वरना कभी हमारा समाज के  लोग इस देश के राजा महाराजा थे। छलियों ने छल से सब लूट लिया अब खुद राजा बन बैठे है ईमानदारों को चोर ठहरा रहे है,उन्हें लाज भी नहीं आती।इतना सुनते ही जमीदार सूरजबाबू को जैसे करैत ने डंस लिये वे बोले धान का बोझ उठा और जल्दी दफा हो जा।लक्ष्मीना धान का बोझ उठाई और फिर अपने घर  ही आकर सांस ली

लक्ष्मीना से सारा वाक्या बीमार धनीराम से कह सुनायी। इस खौफनाक हादसे की दास्तान सुनकार छोटे मनोहर की आंखों से आंसू बह निकले थे। लाख मुसीबतों में रहने के बाद भी लक्ष्मीना और धनीराम ने बच्चों को स्कूल भेजने में कभी चूक नही किये।सभी बच्चे तो उच्ची शिक्षा नहीं ले पाये पर मनोहर भूखे -प्यासे भी स्कूल जाता रहा।वजीफा ने उसको आगे पढ़ने में खूब मददगार साबित हुआ।अन्ततः मनोहर बी़ए पास कर लिया यह खबर जमीदार के छाती को ऐसे दर्दे दी जैसे छाती पर फन फैलाकर बैठा सांप। कहते है ना पैसे की मां पहाड़ चढ जाती है वही हुआ जमींदार बाबू का अजब बिना बारहवी पासं किये एकदम बीए पास कर लिया और उसे बड़े ओहदे की नौकरी भी जुआड़बाजी से मिल गयी । बचपन से ही मुसीबतों और अभावों का सामना करते हुए पले-बढ़े और बी.ए. तक पढ़े मनोहर को बरसों तक ‘ाहर-शहर में धक्का खाने  और जातिवाद का जहर पीने के बाद मामूली बाबू की नौकरी कोपकृष कम्पनी मिल तो गयी पर यहां भी वही ‘ाोषण,उत्पीड़न, धक्का और जातिवाद का जहर क्योंकि विभाग जमींदार जाति विशेष की मुट्ठी में था। आजाद देश के कोपकृष कम्पनी में भी वर्ण व्यवस्था खूब फल फूल रही थी । अर्धशासकीय कोपकृष कम्पनी के आंचलिक कार्यालय में मनोहर जैसे पढ़े लिखे कमर्चारी के साथ भी वर्णिक व्यवस्था के मोहजाल में फंसे अफसर मनोहर के साथ अछूतों जैसा ही व्यवहार करते थे। स्वजातियों को चहुंतरफा को अवैध कमाई करने तक छूट थी परजाति खासकर मनोहर के साथ जो वैसा ही सलूक होता था जैसे गांव के जमींदार खेत में काम करने वाले मजदूरों के साथ करते थे। अर्धशासकीय कोपकृष कम्पनी के चपरासी से लेकर सर्वश्रेष्ठ प्रबन्धन तक सभी वंचित वर्ग के खिलाफ थे। दुर्भाग्यवश सदियों से वंचित वर्ग के मनोहर की नौकरी इसी कम्पनी में लग गयी। कोपकृष कम्पनी वंचित वर्ग कोई कर्मचारी नही था। कोपकृष कम्पनी का प्रबन्धन जमींदारीप्रथा से ओतप्रोत था।कुछ ही महीनों के बाद मनोहर को असुरक्षा के तूफानों का सामना करना पड़ने लगा।कम्पनी में जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली कहावत अक्षरशः साबित हो रही थी। कोपकृष कम्पनी के उच्च शिक्षित उच्च पदाधिकारी भी मनोहर को अछूत ही समझते और वैसा ही दुव्र्यवहार करते थे। मनोहर के सामने कई संकट थे,गांव में बूढ़े मां-बाप भाई बहन,खुद के बच्चे और भविष्य भी। इन्हीं अन्र्तद्वन्द के बीच  मनोहर असमय बूढ़ा हुए जा रहा था। कम्पनी के कर्मचारी ही नहीं उच्च अधिकारी भी स्वजाजीयों के उत्थान और मनोहर जैसे परजाति जाति के पतन के लिये बिच्छू जैसे डंक मारने को तैयार रहते थे।

सामन्तवादी सोच इतनी जवान थी कि वे तथाकथित छोटी जाति को के उच्चशिक्षित,योग्य और अनुभवी कर्मचारी को चूहे के आकार से उपर नही उठने देना चाहते थे।कई बार सुनने में आ जाता था ये छोटे लोग कम्पनी में घुस तो आये है पर तरक्की मूस मोटैइहै लोढ़ा होईहै जैसी कर पायेगा मतलब चूहा कितना भी भारी हो जाये पर लोढा से भारी तो नही हो सकता। मनोहर वर्तमान और भविष्य के अन्र्तद्वन्द में डूबा हुआ था,इसी बीच दरवाजे पर किसी के आने की आहट ने उसके अन्र्तद्वन्द को झकझोर दिया। तनिक भर में ठक-ठक की आवाज के साथ अरे मनोहर भाई घर में हो क्या ?
अरे मनोहर भाई की आवाज जैसे उसको बचपन में ढ़केल दी हो। अरे ये तो धर्मराज की आवाज है,वह विह्वल सा दरवाजे की ओर बढ़ा।

गीता अरे कहा जा रहे हो कमीज तो पहन लेते।
मनोहर कमीज पहनूं की बचपन के साथी से मिलूं।
गीता-वाह आप भी जागते हुए सपने देखते रहते हो। गांव से जोजन कोस दूर बचपन का साथी कहां से आ गया कोई। कोई तो है जो मेरे बचपन के सहपाठी धर्मराज की तरह आवाज दिया है,कहते हुए मनोहर दरवाजा खोलकर बाहर की ओर लपका।सचमुच धर्मराज को पाकर मनोहर के आंसू बह निकले और धर्मराज को भी।

गीता बचपन के दो दोस्तों की भावुकता और आतुरता को देखकर भावविभोर हो गयी उसीक भी पलके गीली हो चुकी थी। वह पल्लू से आंख रंगड़ते हुए बोली कुलदीप के पापा नाश्ता में क्या लोगे ।
मनोहर-पोहा बना लो जलेबी कुलदीप से मंगा लो।उसके पहले चाय मिल जाये तो आनन्द आ जायें।
धर्मराज-भाभी के हाथ की चाय पीकर असीम आनन्द आयेगा।

गीता पानी चाय और बिस्कुट सब साथ लाकर रख दी।
मनोहर भागवान इतनी जल्दी क्या थी।
बचपन के दोस्तों के असीम स्नेह प्रदर्शन के दर्शन से भला मैं वंचित कैसे रह सकती हूं।
ठीक है बैठिये मनोहर बोला।
गीता-आपकी बातें सुनते हुए पोहा बनाने की तैयारी भी कर लेती हूं।
मनोहर-देवीजी प्याज आंखों में लगेगी।
धर्मराज-यार भाभी कितना अच्छा इन्तजाम कर रही है।
मनोहर-कैसा इन्तजाम ?
धर्मराज-कह दूं आंसू छिपाने का।
मनोहर-वो धर्मराज तुम तो बहुत दूर की सोच रहे हो। पढ़ने में भले ही कमजोर थे पर अब होशियार हो गये हो।

धर्मराज-मनोहरबाबू बम्बई की डा्रइवरी की देन है।  सिर पर बोझ पड़ता है तो सब सीखना पड़ता है।
मनोहर-कब से अैक्सी लाइन में हो ?
धर्मराज-सातवीं कक्षा पास और आठवीं फेल होते ही।
मनोहर-बम्बई के मजे हुए टैक्सी ड्राइवर हो गये होगे?
धर्मराज-क्यों नहीं।कई शिष्य है, पर अब टैक्सी चलाना छोड दिया हूं।
मनोहर-क्यों ?
धर्मराज-दर्जन भर टैक्सियां है,उनकी देखभाल के लिये तो कोई चाहिये।दफतर में बैठता हूं। सभी धर्म,सभी जाति के भाई लोग ड्राइवर है,वही चलाते है।उनका भी घर चलता है अपना भी।

मनोहर-बधाई हो धर्मराज,तुम सेठ हो गये,तुम्हारी वजह से कई लोगों के घर चल रहे है।
धर्मराज-कई डा्रइवरों के तो बच्चे इंजीनियर तक बन गये है। मेरी टैक्सी चलाकर,खैर छोड़ो तुम तो  अपने गांव के ही नहीं गांव के आसपास के कई गांवों में सबसे अधिक पढ़े लिखे हो।हमारी तो हार्दिक तमन्ना तो है कि तुम उतने ही बड़े अफसर होगे।

मनोहर-हो सकता था यार पर जातिवाद का घुन मेरा भविष्य खा गया। दस साला पहले वरिष्ठ अधिकारी हो गया होता अगर मेरे साथ विभाग में न्याय हुआ होता तो सामन्तवादी सेवारत् उच्च अधिकारी ही नहीं सेवानिवृत अधिकरियों जैसे देवेन्द्र प्रताप,विजय प्रताप,अवध प्रताप आदमियत विरोधी के गुट हिटलरो ने खूबा विरोध किया,नौकरी ज्वाइन करने के बाद से ही ये लोग मेरी जड़ खोदने में लग गये थे सिर्फ इसलिये की अछूत का बेटा सामन्तवादी कम्पनी में कैसे अधिकारी बन जायेगा। भाई धर्मराज तरक्की का आदेश निरस्त हो गया। आज के इस जमाने में भी कोपकृष कम्पनी का प्रबन्धन जमींदारी व्यवस्था को तवजो देता है,यहां सारे कानून कायदे ताक पर रख दिये गये हैं। शोषित का हक लीलने को तैयार रहता है।मैं भी हार नही माना,पत्थर दिलों पर दूब जमाने का प्रयास करता रहा पर भविष्य चैपट हो गया यार इतने में गीता पोहा जलेबी सेन्टर टेबल पर रखते हुए बोली लो लीजिये  इंदौरी पोहा जलेबी और समोसा का नाश्ता हाजिर है।

मनोहर-देवी प्रतिबन्ध ना लगाओ नाश्ता करते हुए बात तो जार  रह सकता है।
गीता-क्यों नही हजूर?
धर्मराज-मनोहर बाबू अपनी नौकरी के बार में कुछ कह रहे थे।
गीता- भाई साहब जो है उसी में खुश रहने की जरूरत है।फिक्र की वजह से इनकी काया बीमारियों का अड्डा बन चुकी है।दुनिया जान चुकी है- कोपकृष कम्पनी में छोटी जाति के लोगों का भविष्य सुरक्षित नही है। वैसे तो इस सामन्तवादी कम्पनी में ‘ाोषित वर्ग के लोगों को नौकरी नही मिल सकती अगर मिल भी गयी तो आप तरक्की नही पा सकते । इन्हीं को देख लीजिये देश भर की तो बात नही कर सकती प्रदेश में बड़ा से बड़ा अफसर इनसे अधिक पढ़ा लिखा नहीं होगा पर तरक्की से वंचित है,छोटी जाति का होने  के कारण ।कई बार तो नौकरी से निकालने के अभियान भी चलाये सामन्तवाद के समर्थकों ने।

मनोहर-गीता सही कह रही है,धर्मराज।
धर्मराज-बाप रे ये जातिवाद का अन्र्तद्वन्द भारत की आत्मा को कब तक डं़सता रहेगा।
मनोहर-जातीय अन्र्तद्वन्द ही तो है सारी मुश्किलों की जड़। मामूली से लोग कमजोर तबके के आदमी की मर्यादा का पोस्टमार्टम कर देते है।मामूली से पढ़़े लिखे उच्चवर्णिक लोगों के उपनाम के साथ साहब लगाया जाता है।शोषित वर्ग का आदमी को तो साहब कहने में जैसे सांप सूघ जाता है।मस्सलन देखो मेरे साथ काम करने वालों को सिंह साहब,शर्मा साहब,पाण्डेय साहब ऐसे सम्बोधित किया जाता है।मुझे मनोहर बहुत किसी ने सम्मान के साथ संबोधित कर दिया तो मनोहरजी कह दिया।कई लोग पब्लिसिटी लेने के लिये भी करते है,कहते है देखो मनोहरजी छोटी कौम के है,हम इन्हें मनोहरजी कह कर बुलाते है।धर्मराज मैं और विभागों की तो नहीं कह सकता मेरे साथ तो दोयम दर्जे का ही व्यवहार अब तक हुआ हैं। हर उच्च अधिकारी घाव ही दिया है।या जातीय रिसते घाव को खुरचा है।
धर्मराज-मनोहरबाबू पढाई में कितने साल लगाये।
मनोहर-पच्चीस साल।

धर्मराज-मैं तो आठवी फेल होते ही बम्बई चला गया।कुछ दिन गाड़ी पर काम किया।काम करते करते ड्राइवरी सीख गया,अब दर्जन से अधिक उंची जाति वाले मेरे यहा काम कर रहे है।सेठसाहब बोलते है।मैने भी मेहनत किया अंगे्रजी हिन्दी लिख पढ सकता हूं,पत्राचार करता हूं जबकि स्कूल में नहीं आता था तुमसे नकल कर लेता था। रही जाति का बात तो ऐसा नही कि कोई नहीं जानता,सभी जानते है कि मैं आजमगढ का हूं और रविदास समाज से हूं। इतने भाईचारा के साथ काम करते है कि दूसरे टैक्सी के मालिक समझते है कि हम सब खून के रिश्तेदार है।यार तुम्हारे विभाग का उच्चवर्णिक पढ़ा लिखा समाज तो भेड़िया जैसा व्यवहार करता है।

मनोहर-मलाल तो मुझे भी है। इस बात का मलाल नही है कि मैं मामूली सा अफसर ही बन पाया जनरल मैनेजर नही बन सका सारी योग्यता होने के बाद भी। मलाल तो इस बात का है कि मुझे जातीय अन्र्तद्वन्द ने दोयम दर्जे का बना दिया। मेरी योग्यता और प्रतिभा को सम्मान नही मिलता।जातीय नफरत का शिकार बार-बार होना पड़ता है।

धर्मराज-दोस्त भले ही मैं सेठसाहब हूं,तुम्हारे सामने मैं कुछ भी नहीं हूं। तुम्हारी योग्यता औा प्रतिभा के सामने नतमस्तक हूं। मुझे याद है स्कूल में तुमने चैलेंज कर दिया था पंडितजी से।
मनोहर-किस चैलेंज की बात कर रहे हो।
धर्मराज-गढहापार वाले पंडितजी जो हिन्दी और गणित के मास्टर थे।
मनोहर-समझा जो मेरा नम्बर काट किये थे पच्चास में से सिर्फ सत्तरह नम्बर पासिंग मार्क दिये थे। मैं प्रिसीपल साहब के पास कापी लेकर गया था । मेरा नम्बर बढ तो गया था पर गणित विषय से ऐसा डर बैठ गया था कि आज तक नहीं खत्म हुआ।
धर्मराज-हिन्दी मे तो तुम गढहापार वाले पंडितजी के बाप हो गये हो।

मनोहर-ऐसा ना कहो यार।
धर्मराज-द्रोणाचार्य ने एकलव्य का अंगूठा कटवा लिया,ऐसे गुरूओं से क्या देश और समाज का भला होगा।ऐसे लोग तो राष्ट्र और मानव समाज के लिये कलंक होते है। दोस्त जितना तुमने पढाई को तवज्जो दिया उतना तो अपने गांव में कोई नही दिया। उसके एवज में तुम्हें कुछ भी नहीं मिला, शायद कम्पनी की पालिसी पर सामन्तवादी विचारधारा  हावी नही होती तो यकीनन तुम जनरल मैनेजर होते।
मनोहर-हां.....धर्मराज सम्भव क्या नही है परन्तु कैद नसीब का मालिक जो ठहरा।
धर्मराज-कैसी बात कर रहे हो यार ?
मनोहर-सेठजी हम और हमारे लोग कैद नसीब के मालिक ही तो है। कभी सोचा है कि हमारे लोग ही क्यों गरीब ,अशिक्षित,भूमिहीन है,और हमारे जैसे पढ़े-लिखों को उच्चवर्णिक लोगों की भौहे क्यो तन जाती है।
धर्मराज-अरे हां इस बारे में तो कभी सोचा ही नहीं। मैं तो यही समझ रहा था कि गरीबी-अमीरी उंच-नीच सब   विधि का विधान है।

मनोहर-नही भाई आदमी की साजिश है।यह उसी वर्ग की साजिश है जिस वर्ग ने जम्बूदीप के चक्रवर्ती सम्राट बाली का छल से हथिया कर बंदी बना लिया।मौर्य वंश के सम्राट ब्रहमदत की छल से हत्या कर जर्बदस्ती ‘ाासक बन बैठा क्या ऐसा वर्ग मूलनिवासीभारतवंशियों को तरक्की करने देगा। नही ना भाई। उसी वगर््ा की घिनौनी सोच का परिणाम है। ऐसी ही साजिशों के तहत् मूलनिवासीभारतवंशियों के धर्म-धन दौलत,जमीन पर कब्जा होता रहा और धीरे-धीरे अछूत,आदिवासी और पिछडे होकर रह गये है। आज आज अस्सी प्रतिशत भारत अछूत,आदिवासी और पिछड़े के नाम से जाना जाता है।
धर्मराज-समझ गया दोस्त तुम्हारी पीड़ा। ऐसी ही साजिश तुम्हारे साथ कर रहे है सामन्तवादी विचारधारा के अफसर।

मनोहर-हां मनोहर मैं अपने विभाग में अकेला सामन्तवादी व्यवस्था के अन्र्तद्वन्द का शिकार हूं,मेरी तरक्की के सारे रास्ते बन्द हो चुके है,यह सत्य भी है क्योंकि में अकेला हूं परन्तु देश में अकेला नही।
धर्मराज-सचमुच देश को सामन्तवाद ने बहुत नुकशान पहुंचाया है। सामन्तवाद का नरपिशाच देश को नहीं डंसा होता तो हमारा देश दुनिया का सबसे विकसित देश होता पर हाय रे जातिवाद,क्षेत्रवाद,सामन्तवाद सब तहस नही कर रखा है,आदमी को अछूत,आदिवासी और पिछडे वर्ग में बांट रखा है ऐसे बंटवारो से देश और मूल भारतीय समाज का भला कैसे होगा।चैखट-चैखट,दफतर-दफतर घिनौने बंटवारे की अग्नि आज भी सुलग रही है।हमारे गांवों की हाल तो और खराब है।वही लोग तो ‘ाहरों में बसते है । ‘ाहरों के लोगों की मानसिकता में बदलाव हुआ है पर कुछ लोग आज भी पुराने रूढ़िवादियों की तरह ही दुव्र्यवहार करते है।ऐसे लोग ही कमजोर तबके की तरक्की के रास्ते बन्द करते है।सम्भवतः ऐसे सामन्तवादी विचारधारा के लोगों के बीच तुम नौकरी कर रहे हो।

मनोहर-हां धर्मराज ठीक समझे। हमारे विभाग में स्व-जातीय बांस अपने अधीनस्थ कर्मचारियों और अफसरों को सरकारी मशीनरी का खुलेआम दुरूपयोग करने को प्रोत्साहित करते है।भरपूर आर्थिक लाभ पहुंचाते है। हर सम्भव फायदा उपलब्ध करवाते है,वही उन्हीं सामन्तवादी अफसरों द्वारा हमारे जैसे कर्मचारी@ अफसर के साथ जैसे पुलिस वाली थर्ड डिग्री अपनाया जाता है।गुलाम समझाा जाता है,कहा जाता है अरे वो मिस्टर अपने समाज वालों को देखों कहा है। ऐसे तल्ख समझों में मानों गालियां दी जा रही हो।

धर्मराज-आधुनिक युग में पढ़े लिखे लोगों का ऐसा अन्र्तद्वन्द समाज के अच्छा संकेत तो नही । दुख की बात है, देश के संविधान बदलने की बात इस देश में  होती है, जिस संविधान से देश चलता है, देश से, दुनिया जुड़ती है,दुनिया में पहचान बनती है। समता,सद्भावना और विश्वबन्धुत्व के सद्भाव में अभिवृद्धि होती है,उस संविधान को बदलने की बात होती है परन्तु उस धार्मिक संविधान को बदलने की बात नहीं होती जिसमें लिखा है, ‘ाूद्र गंवार ढोल पशु नारी,ये ताड़ना के अधिकारी। ये कैसी बिडम्बना है। आजकल आरक्षण को लेकर चर्चा का बाजार गर्म है। आरक्षण विरोधियों को सोचना चाहिये, आरक्षण कोई खैरात नही है,आरक्षण अधिकार है। आरक्षण गरीबी हटाने का कोई का्रर्यक्रम भी नही है। आरक्षण का अर्थ उनका प्रतिनिधित्व है, जो इस देश के मूलनिवासी है। उन सभी को अपना-आपना प्रतिनिधित्व करने का अधिकार है। संवैधानिक आरक्षण खत्म करने सेे पहले सनातनी अर्थात वर्णिक आरक्षण खत्म करना होगा। इसके लिये जाति व्यवस्था के समर्थकांे को ही आगे आना होगा। जनतान्त्रिक विचार धारा का मूलमन्त्र है-राष्ट्रीय एकता,स्वधर्मी समानता,बहुधर्मी सद्भावना,जीओ और समानता के साथ जीने दो। यही जनतन्त्र का उद्देश्य है और संविधान की स्वीकृति भी इसके बाद भी जातीय अनर््द्वन्द समाज और देश को खोखला किये जा रहा है।
मनोहर-जातीय अन्र्तद्वन्द को खत्म करने के लिये सामाजिक समताक्रान्ति की,जनतातिन्त्रक सोच विकसित करने की जरूरत है। बहुजन हिताय बहुजन सुखाय के अधूरे सपने को पूरा करने के लिये दृढ़ संकल्पित होने की की जरूरत  यही संकल्प जनतन्त्र की रक्षा कर सकता है। आज का युवा सक्षम है। युगनिर्माता बाबा साहेब अम्बेडकर ने कहा है,जाति व्यवस्था ने जाति की पवित्रता नही बनायी बल्कि समाज को टुकड़ो में बांट कर लोगों का मनोबल गिराया है,जातिविहीन समाज की स्थापना के बिना राजनैतिक आजादी व्यर्थ है। जाति-पांति के रहते न समाज संगठित हो सकता है और न उसमें राष्ट्र्रीयता की भावना पूर्णतः विकसित हो सकता है। वर्तमान स्वार्थनीति को देखते हुए लगने लगा है कि देश में सामन्तवाद और वंशवाद जनतन्त्र्र पर भीतरघात कर रहे हंै। यही कारण है कि आजादी के सरसठ साल के बाद भारतीय व्यवस्था में चैथे दर्जे के आदमी के आर्थिक और सामाजिक स्तर में कुछ विशेष सुधार नही हुआ है। आज भी जातिवाद का नरपिशाच मौके-बेमौके डंसता रहता है  जातिवाद का नरपिशाच ही अन्र्तद्वन्द को बढ़ावा दे रहा है।यही अन्र्तद्वन्द हक,अधिकार,योग्यता को चट कर रहा है।

धर्मराज-देश और भारतीय समाज के पिछड़ेपन का कारण जातीय अन्र्तद्वन्द ही तो है। विजयदशमी यानि दशहरा के दिन रावण दहन भी तो जातीय अन्र्तद्वन्द का ही कारण है।
मनोहर-सच कह रहे दशहरा भी अन्र्तद्वन्द का पुख्ता परिणाम है।जानते हो धर्मराज विजयदशमी क्या है? विजयदशमी के दिन विजय किसकी हुई थी ?
धर्मराज-क्या राम की ?
मनोहर-नहीं । विजयदशमी का सही नाम है अशोक विजयादशमी,जो सम्राट के कलिंग युद्ध विजयी होने के दसवें दिन मनाये जाने के कारण अशोक विजयादशमी कहलाती है।जिस दिन सम्राट अशोक ने बौद्ध धम्म की दीक्षा ली थी असल में इसे ही विजयादशमी कहते हैं।भाई ‘ार्मराज बात रही दशहरे की तो  तुमको बता दू कि चन्द्रगुप्त मौर्य साम्राज्य के अन्तिम ‘ाासक ब्रहमदत मौर्य तक कुल दस सम्राट हुए।अन्तिम सम्राट ब्रहमदत मौर्य को उनके विश्वासघाती ब्राहमण सेनापति पुष्पमित्रशंुग ने छल से हत्या कर दिया और ‘ांुगवंश की स्थापना कर लिया । मौर्यवंश के दस  सम्राटों का पुतला बनाकर दहन कर उत्सव मनाया , संयोगवश वह दिन अशोक विजयादशमी का ही दिन था। देश को खण्डित करने वाले और मूलभारतीय समाज के दुश्मनों ने पुष्पमित्रशंुग को राजाराम की उपाधि दे दिया । तब अशोक विजयादशमी की जगह विजयादशमी का उत्सव हो गया।

धर्मराज-विजयादशमी के पीछे बड़ी साजिश है जो कही नही कही जातीय अन्र्तद्वन्द की द्योतक है।इस अन्र्तद्वन्द को समाप्त करने के लिये जातीय अन्र्तद्वन्द के पोषकों को आगे आना होगा। उपेक्षित समाज को शिक्षित करो संघर्ष करो और विकास करो के मूलमन्त्र को आत्मससत् कराना होगा।
मनोहर-हां धर्मराज इसके साथ ही आर्थिक सम्वृद्धि के लिये व्यापार की ओर कदम बढाना होगा,तुम्हारी तरह। बदते युग में सरकारी नौकर और आरक्षण से उपेक्षित समाज की दशा और दिशा बदलने वाली नही हैं। उपेक्षित समाज के सम्पन्न लोगों को उद्योग स्थापित कर रोजगार उपलब्ध कराने की प्रतिज्ञा लेकर उपेक्षित समाज और देश को सबल बनाने का प्रयास करना चाहिये।

धर्मराज-लाख टके की बात कह रहे हो।इस मुद्दे उपेक्षित समाज के आर्थिक रूप से सम्पन्न लोगों उद्योग-धन्धों के क्षेत्र में उतरना चाहिये। इससे उपेक्षित समाज शिक्षित होगा और सम्पन्न भी।सफल मुलाकात रही भईया मनोहर अब इजाजत दो।
मनोहर-इतनी रात में।
धर्मराज-छः घण्टे की यात्रा तो है बम्बई की। अपनी गाड़ी दो ड्राइवर लेकर आया हूं। मेरी फिक्र ना करो यार हम तो सड़क पर चलने वाले लोग हैं।
मनोहर-इतनी जल्दी क्या है।
धर्मराज-जातीय अन्र्तद्वन्द के खिलाफ संग्राम। 

डां.नन्दलाल भारती
इति
आजाददीप,15-एम-वीणा नगर,इंदौर ;म.प्र.द्ध-452010

COMMENTS

BLOGGER: 1
Loading...
---*---

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$count=6$page=1$va=0$au=0

विज्ञापन --**--

|कथा-कहानी_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts$s=200

|हास्य-व्यंग्य_$type=blogging$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|लोककथाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|लघुकथाएँ_$type=list$au=0$count=5$com=0$page=1$src=random-posts

|काव्य जगत_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

---

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$count=6$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=complex$tbg=rainbow$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3793,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2744,कहानी,2069,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,87,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,224,लघुकथा,806,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1882,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: नन्दलाल भारती की कहानी अंतरद्बंद्ब
नन्दलाल भारती की कहानी अंतरद्बंद्ब
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2014/10/blog-post_21.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2014/10/blog-post_21.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ