शनिवार, 18 अक्तूबर 2014

दिलीप भाटिया का आलेख -- अच्छे कैरियर के लिए तैयारी कैसे करें

image

कैरियर

फ्रेंड,

मैं दिलीप भाटिया, सेवानिवृत्त परमाणु वैज्ञानिक अधिकारी, राजस्‍थान परमाणु बिजली घर रावतभाटा, निकनेम ‘‘दिलीप अंकल‘‘

जीवन पाठशाला है, अनुभव सिखाता है, गलतियां सुधार का अवसर देती हैं। ईश्‍वर की परीक्षा में हर व्‍यक्‍ति का प्रश्‍न-पत्र अलग है। कोई गाइड कोचिंग नहीं, सभी प्रश्‍न अनिवार्य, जन्‍म से मृत्‍यु तक हर दिन अलग समस्‍या, अलग समाधान, सीख, जन्‍म से 20-25 वर्ष तक हर व्‍यक्‍ति मम्‍मी पापा के संरक्षण में सीखता है, पढ़ता है, उसके पश्‍चात वह स्‍वयं आत्‍मनिर्भर बने, यह प्रत्‍येक संतान से हर मम्‍मी पापा की अपेक्षा होती है। आत्‍मनिर्भरता के लिए धन-धन हेतु नौकरी-बिजनेस-नौकरी हेतु प्रतियोगिता परीक्षाऐं-डिग्री-पढ़ाई-तैयारी-रिवीजन-हैल्‍प-कोचिंग-ट्‌यूशन-मार्गदर्शन-मॉडल टेस्‍ट पेपर हर एक अनिवार्य है।

समय की सीमा-24 घंटे प्रतिदिन, आराम-विश्राम-दैनिक कार्य, मनोरंजन, खाना, पीना, स्‍कूल-कॉलेज-कोचिंग, होमवर्क, स्‍वरूचि कार्य, इन्‍टरनेट, मोबाइल, टी.वी., योग, प्राणायाम, भ्रमण, ध्‍यान इत्‍यादि स्‍वयं का टाइम टेबिल प्रथम आवश्‍यकता है, सब कुछ संतुलित 24 घंटों में ही।

पढ़ाई हेतु शान्‍त वातावरण, प्रातः काल सर्वोत्तम 4-6-8-10 घंटे जितना भी संभव हो। पढ़ते समय इन्‍टरनेट, टी.वी., मोबाइल पूर्णतया बन्‍द स्‍विच अॉफ, पढ़ने के साथ लिखना, नहीं लिख पा रहे हैं, तो पुनः पढ़ाई, समस्‍या का समाधान पूछना, शत प्रतिशत कोर्स, परीक्षा पूर्व मॉडल पेपर हल करना, हर विषय को समय देना।

परीक्षा में टू दी प्‍वाइन्‍ट उत्तर, स्‍वयं के लिखे को चेक करना, आत्‍मविश्‍वास व सकारात्‍मकता आवश्‍यक, अतिविश्‍वास से बचना, नेगेटिव मार्किग हो तो वही प्रश्‍न हल करना जो आते हों, मॉडल पेपर हल करने से समय संतुलन होगा, पेपर समय पर पूरा होगा, कठिन प्रश्‍नो को हल करने के लिए समय मिल जाएगा, परीक्षा से पूर्व भी पूरी नींद, तन-मन की स्‍वस्‍थता, शाकाहार, संतुलित तनाव रहित दिनचर्या, गलत राह पर चलने से बचना, मम्‍मी से कुछ छुपाना नहीं पड़े, बस ऐसा निर्मल पवित्र चरित्र।

गुणवत्‍तापूर्ण तैयारी-पढ़ाई-समय के सदुपयोग से सफलता मिलेगी ही लक्ष्‍य बनाकर तैयारी मीठे फल देगी ही, अच्‍छे कैरियर हेतु परीक्षा में सफलता के बाद ग्रुप डिसकशन, ग्रुप टास्‍क, इन्‍टरव्‍यू, मेडिकल चेक अप हर संस्‍थान के नियमानुसार हर सीढ़ी चढ़कर ही लक्ष्‍य मिलेगा।

इस संदेश को अधिकतम व्‍यक्‍तियों के साथ बांटिएगा। धन्‍यवाद।

इस छोटे से संदेश में सार बिन्‍दु संक्षिप्‍त में लिखने का प्रयास किया है। कैरियर-पढ़ाई हेतु समस्‍या के समाधान हेतु निःसंकोच सम्‍पर्क करें, दिलीप अंकल से मिलें, फोन करें, पत्र लिखें, ई-मेल करें, समय, जीवन कैरियर पर मेरी तीन पुस्‍तकें पी.डी.एफ. सॉफ्‍ट कॉपी निःशुल्‍क उपहार स्‍वरूप मिलेंगी, बस अपना ई-मेल मुझे मोबाइल 09461591498 पर एस.एम.एस. से सूचित कर देना। अच्‍छे कैरियर हेतु मेरी निःस्‍वार्थ सेवाऐं प्रत्‍येक व्‍यक्‍ति के लिए उपलब्‍ध हैं। शुभकामनाऐं, प्रणाम, सादर, सस्‍नेह।

शुभाकांक्षी फ्रेंड -

दिलीप अंकल

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------