शुक्रवार, 17 अक्तूबर 2014

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - मानवता के 'कैलाश' और बाल अधिकारों के 'सत्यार्थी' का संघर्ष

मानवता के 'कैलाश' और बाल अधिकारों के 'सत्यार्थी' का संघर्ष

डॉ.चन्द्रकुमार जैन 

शांति का नोबेल पुरस्कार हासिल करने वाले कैलाश सत्यार्थी मध्य प्रदेश के विदिशा में बचपन के दिनों में लाइब्रेरी से किताबें लाते थे और लैंप पोस्ट के नीचे बैठकर पढ़ते थे। उनका बचपन जन्म स्थान विदिशा की तंग गलियों में बीता। उन्होंने प्राइमरी से लेकर इंजीनियरिंग तक की शिक्षा यहीं से हासिल की। उनके पिता हेड कांस्टेबल थे। नोबल पुरस्कार की घोषणा होने के बाद अमूमन शांत रहने वाली किले अंदर स्थित उसी तंग गली में चहल-कदमी बढ़ गई। लोगों की खुशी का वहां पारावार नहीं, इसी घर पर भीख मांगने आने वाले बच्चों को कैलाश खाना खिलाते थे। उन्हें लिखने-पढ़ने के लिए कॉपी किताबें दिया करते थे। स्नेह,सहयोग,करुणा और संघर्ष जैसे गुण तो जैसे उनके परिवार का परिचय ही बन गए थे।

स्वामी विवेकानंद ने कहा है - संभव की सीमा जानने का केवल एक तरीका है, असंभव से भी आगे निकल जाना। इसीलिए यह भी सच है कि जीवन की सबसे बड़ी खुशी उस काम को करने में है जिसे लोग समझते हैं कि आप नहीं कर सकते। कैलाश सत्यार्थी ने जब बच्चो के हक़ के लिए काम करना और लड़ना शुरू किया तो ज़ाहिर है हर नई पहल की तरह उनकी कोशिशो को भी शक की निगाहों से देखा गया। वे जूझते रहे और लोग उनके साथ आते गए।  दूसरी तरफ लोग ऐसे भी मिले जो उनके कार्यों को सरकार विरोधी करार देने से भी बाज़ नहीं आये।  फिर क्या,उन पर हमले हुए. उनके साथ दुर्व्यवहार भी होता रहा। लेकिन, तमाम सवालों के ज़वाब एकबारगी देने के बदले जो राह चुनी थी उस पर चलते जाने के अडिग संकल्प के साथ कैलाश जी ने दमन के विरुद्ध धीरज का  दामन थाम और जैसे दुनिया वालों से कह दिया कि -

अभी न पूछो हमसे मंज़िल कहाँ है

अभी तो हमने चलने का इरादा किया है

न हारे हैं, न हारेंगे कभी हम

खुद से ही हमने ये वादा किया है। 

दुनिया के किसी भी कोने में किसी भी तरह की दासता की जंजीरों में जकड़े हुए बचपन को आज़ाद करने के लिए दुनिया की सभी आवाज़ों, दिमागों और आत्माओं को लयबद्ध करने की अंतहीन और असरदार गुहार लगाते आ रहे कैलाश सत्यार्थी वास्तव में बच्चों की दुनिया के निराले और बिरले सत्य-शोधक हैं।   सर्वविदित है कि बाल अधिकारों के लिए काम करने और उनकी शिक्षा के दिशा में किए गए प्रयासों के लिए मलाला यूसुफजई के साथ संयुक्त रूप से 2014 का नोबेल शांति पुरस्कार जीतने वाले कैलाश सत्यार्थी 1990 से ही बच्चों के अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

बच्चों के हक़ के संघर्ष की जीत

------------------------------------

गौरतलब है कि इस सम्मान पर कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि वह नोबेल शांति अवॉर्ड मिलने से बहुत खुश हैं। यह पुरस्कार बच्चों के अधिकारों के लिए हमारे संघर्ष की जीत है। सत्यार्थी ने कहा कि वह नोबेल समिति के शुक्रगुजार हैं कि उसने आज के आधुनिक युग में भी दुर्दशा के शिकार लाखों बच्चों की दर्द को पहचाना है। सत्यार्थी ने कहा कि वह मलाला यूसुफजई को व्यक्तिगत तौर पर जानते हैं। वह मलाला को अपने साथ काम करने के लिए आमंत्रित करेंगे। वहीं,कैलाश सत्यार्थी की पत्नी सुमेधा सत्यार्थी ने कहा कि इस सम्मान के बाद मैं यही कहूंगी कि बाल मजदूरी मानवता पर कलंक है। उम्मीद है पूरी दुनिया इस कलंक को मिटाने के लिए कदम बढ़ाएगी। सुमेधा ने कहा कि यह हमारा दुर्भाग्य है कि अंतरराष्ट्रीय सम्मान मिलने के बाद ही देश में गंभीरता से लिया जाता है। हम भी उम्मीद करते हैं कि इस सम्मान के बाद सरकार बाल दासता से मुक्ति के लिए सार्थक कदम उठाएगी। 

क़ाबिलेगौर है कि मदर टेरेसा (1979) के बाद कैलाश सत्यार्थी सिर्फ दूसरे भारतीय हैं जिन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजा गया है। वैसे वह नोबल पुरस्कार पाने वाले सातवें भारतीय हैं। उनके सार्थक प्रयत्नों के प्रभाव का प्रत्यक्ष गवाह बाल मित्र ग्राम वह मॉडल गांव है जो बाल शोषण से पूरी तरह मुक्त है और यहां बाल अधिकार को तरजीह दी जाती है. 2001 में इस मॉडल को अपनाने के बाद से देश के 11 राज्यों के 356 गांवों को अब तक चाइल्ड फ्रेंडली विलेज घोषित किया जा चुका है। 

बचपन की वह यादगार घटना

------------------------------------

मानवीय सरोकारों के सुधी चिंतक हिमांशु शेखर बड़े प्रेरक अंदाज़ में बताते हैं कि मध्यप्रदेश के विदिशा में एक मध्यमवर्गीय परिवार का पांच वर्षीय एक बच्चा पहली बार स्कूल जाता है। उस विद्यालय के बाहर वह लड़का अपने एक हमउम्र को जूता पालिश करते देखता है। वह गौर करता है कि जूता पालिश करने वाला बच्चा स्कूल जाने वाले बच्चों के जूतों को निहार रहा है। पहली बार स्कूल जा रहे बच्चे को यह बात अखर जाती है कि सारे बच्चे स्कूल जा रहे हैं लेकिन वह क्यों नहीं जा रहा है। वह इसकी शिकायत अपने शिक्षक से करता है और उचित जवाब नहीं मिलने पर स्कूल के हेडमास्टर से भी इसकी नालिश कर देता है। वहां उसे जवाब मिलता है कि इस जग में ऐसा होता है। अगले दिन वह लड़का जूता पालिश करने वाले बच्चे के पिता के पास जाकर पूछ बैठता है कि वे अपने बच्चे को स्कूल क्यों नहीं भेज रहे हैं? वह अभागा पिता इस नन्हें बालक को देखता रह जाता है और जो जवाब देता है, वह किसी भी सभ्य समाज को पानी-पानी कर देने के लिए काफी है। वह कहता है, ‘बाबू जी, स्कूल में न तो मैं पढ़ने गया और न ही मेरे पूर्वज गए इसलिए यह भी नहीं जा रहा है। हम तो मजूरी और दूसरों की सेवा करने के लिए ही पैदा हुए हैं।’ इस जवाब से हैरान-परेशान वह मासूम चाहते हुए भी उस अभागे बच्चे के लिए कुछ नहीं कर पाता है, लेकिन वह घटना उसके मन के किसी कोने में पड़ी रहती है। वही बच्चा जब जवान होता है तो एक वक्त ऐसा आता है कि वह लेक्चररशिप छोड़कर मासूमों को उनकी मासूमियत लौटाने की मुहिम में लग जाता है। वही मुहिम कुछ ही वर्षों में ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ का रूप धारण कर लेती है और वह बच्चा देश के हजारों बच्चों की जीवन रेखा बन जाता है। 

बाल श्रम,दान और कल्याण

----------------------------------

कैलाश ने बाल श्रम को मानवाधिकार के मुद्दे के साथ ही दान और कल्याण के साथ जोड़ा। उन्होंने तर्क दिया कि यह गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा, जनसंख्या वृद्धि और अन्य सामाजिक समस्याओं को बढ़ावा देती है। कैलाश की बात को बाद में कई अध्ययनों ने भी सही साबित किया। न्होंने बाल श्रम के खिलाफ अपने आंदोलन को 'सबके लिए शिक्षा' से भी जोड़ा और इसके लिए यूनेस्को द्वारा चलाए गए कार्यक्रम से भी जुड़े। ग्लोबल पार्टनरशिप फॉर एजुकेशन के बोर्ड में भी शामिल रहे। उन्हें बाल श्रम के खिलाफ और बच्चों की शिक्षा के लिए देश और विदेश में बनाए गए कानूनों, संधियों और संविधान संशोधन कराने में अहम भूमिका निभाने का श्रेय दिया जाता है। 

कैलाश के नेतृत्व में 108 देशों के चौदह हजार संगठनों के सहयोग से बाल मजदूरी विरोधी विश्व यात्रा आयोजित हुई। इसमें लाखों लोगों ने शिरकत की। इसके प्र्रभाव के बारे में सत्यार्थी कहते हैं -आंदोलन का लाभ यह हुआ कि सार्क के सदस्य देशों ने जल्द ही बाल मजदूरी पर एक कार्यदल बनाने की घोषणा की है। दरअसल उन पर गर्व करने से भी ज्यादा जरूरी है कि उनके जैसी हिम्मत और जीवट के साथ ऐसे महान कार्यों को आगे बढ़ाया जाए। हम सोचें कि हम नहीं तो फिर कौन और अभी नहीं तो फिर कब ?

आज़ाद हुए 80  हजार बच्चे

---------------------------------

लेकिन यह इतना आसान भी नहीं रहा। सत्यार्थी को अपमान झेलने पड़े, उन पर हमले हुए और राष्ट्रहित के विरोध में काम करने का आरोप लगा। उनके संगठन ने अब तक 80 हजार बच्चों को आजाद कराया है। बाल मजदूरी की पूर्ण समाप्ति के लिए बचपन बचाओ आंदोलन ने बाल मित्र ग्राम की परिकल्पना की है। इसके तहत किसी ऐसे गांव का चयन किया जाता है जहां बाल मजदूरी का चलन हो। गांव से धीरे-धीरे बाल मजदूरी समाप्त की जाती है और बच्चों का स्कूल में नाम लिखवाया जाता है। लेकिन भारत के बच्चों के जीवन में उजाला लाने का सपना पूरा होने के करीब भी नहीं पहुंच रहा।

आज भी बच्चे काम पर जाते हैं। फुटपाथ पर सो जाते हैं। देश में हर आठ मिनट में एक बच्चा गुम होता है और उनमें से आधे फिर कभी नहीं मिलते। वे तरह-तरह  के शोषण के शिकार होते हैं। घरों-दुकानों में, होटलों मे काम करते हैं, सड़कों पर भीख मांगते हैं। पटाखा बनाने के जानलेवा काम में उनकी मौजूदगी जल्द ही दिवाली की कानफाड़ू चहल-पहल के रूप में दिखाई देने लगी है। ज़रा सोचिये तो सही,यह सिर्फ कैलाश सत्यार्थी की नहीं, सरकार और समाज की भी जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों के दुख से नजर न फेरें और उनकी बेरंग जिंदगी में थोड़ी रोशनी लाने की कोशिश करें। उन्हें पानी या दूध की थाल में चाँद का प्रतिबिम्ब दिखाने से बेहतर है कि हम उन्हें नन्हे हाथो से आसमान के चाँद को छूने के काबिल बनाएँ। बच्चों का आज बचेगा तभी तो देश का कल रहेगा। 

----------------------------------------------------

हिन्दी विभाग,

शासकीय दिग्विजय पीजी कालेज,

राजनांदगांव, मो.9301054300

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------