मंगलवार, 18 नवंबर 2014

सुशील यादव का व्यंग्य – सफाई का भूत

clip_image002

सफाई का भूत

गनपत सुबह सुबह कार्ड ले के आया ।

कार्ड देखते ही हमको लगता है ,सौ से पांच सौ की बलि चढ़ने का परवाना आ गया ।

हमने अखबार को तह करते हुए पूछा ,सुबह सुबह ये क्या लिए फिर रहे हो ?

उसने कहा ,गुरुजी माफ करें, हमने इस कार्ड में आपका नाम डाल रखा है,वो भी बिना आपसे पूछे ?

हमने अपनी तिरछी निगाह कार्ड की तरफ फेंकते हुए ,चश्मा साफ करके कहा ,

क्या बात है कार्ड में, देखे जरा ।उसने कार्ड बढाते हुए कहा ,गुरुजी हम एक किराया भंडार खोलने जा रहे हैं आपको उसका कल उदघाटन करना है ।

हम कार्ड को लिफाफे से मुक्त कर चुके थे।

हमारे सामने कार्ड का मजनूंन था “सफाई किराया भंडार’ शीतला वार्ड ,खाम तालाब ....।फिर नीचे छोटे फांट में किराया भंडार खोलने के उद्देश्य और विशेषताएं छपी थी ।

हमारे यहाँ ‘देशव्यापी सफाई अभियान’ को मद्देनजर रख के सफाई में लगने वाले सामान किराए पर तत्काल उपलब्ध कराये जाने की व्यवस्था हैं।

हम झाड़ू ,फावड़ा ,बेलचा, तगाड़ी ,कुदाल .गैंती,कचरा ट्राली , मंगवाई गई जगह पर उपलब्ध करा देंगे ।

बड़े सफाई अभियान में लगे सरकारी ,गैर सरकारी कार्यालय को ट्रेक्टर ,लोडर या अन्य बड़ी मशीन के लिए आर्डर सप्ताह भर पहले देना होगा ।

कार्य कुशल सफाई करने वाले दिहाड़ी स्त्री~ पुरुष भी आर्डर पर भेजे जायेंगे ।ड्रेस कोड के लिए चार्ज अलग से लगेगा ।

नोट :१. राजनीतिक दल वालों से अनुरोध है कि संभावित किराए की पूरी राशि एवं इस्तेमाल किये जाने वाले अनुमानित सामग्री की धरोहर राशि अडवांस में जमा करना अनिवार्य होगा अन्यथा निर्धारित सेवाए देने के लिए ,व्यवस्था का अनुपालन करना हमारे लिए संभव नहीं होगा ।

२. यदि फोटोग्राफी चाहते हैं, तो क्लोसअप में लिए जाने वाले चेहरों की शिनाख्त के लिए फोटो संचालक के पास जमा करवाये ।

उद्घाटनकर्ता में, श्री के बाद खुद का नाम देखकर ,मैं गनपत की तरफ मुखातिब हुआ ,भइये ,ये सब क्या खुरापात है ?करना क्या चाह रहे हो ....?मेरे पल्ले तो कुछ भी नहीं पड रहा है।

गनपत ने समझाना शुरू किया ।

गुरुजी आप ये जो अखबार मोड़ कर अभी अभी जो रखे हैं ,देख लीजिये कोने~ कोने सफाई की खबरों से भरा हुआ है ।सरकारी दफ्तर ,गली मुहल्लों ,कालोनियों में सफाई करने कराने की होड़ सी मची हुई है ।

दरअसल हम बीबी की फरमाइश पर झाड़ू लेने निकले थे ।उनकी इसी नेक~निस्वार्थ फरमाइश को पूरा करने में हमे आत्म संतोष सा होता है ।हम सोचते हैं इतने ही लिमिट के काश सभी फरमाइशे हुआ करते ।

खैर , उस दिन दूकान~दूकान पूछ~पूछ के थक गए, सब ने एक जवाब दिया कल दो अक्टूबर था न, पूरे के पूरे झाड़ू थोक ~थोक में लोग लेते गए हैं ।अगला स्टाक मंगवाया है आते ही ले जाइयेगा ।

बस इसी से हमारी ट्यूब लाईट को, चोक वाली बिजली मिल गई ।हमने सोचा इस सफाई का स्कोप भविष्य में कम से कम, आने वाले पाच सालों में कम नहीं होने का ।

हमने झटपट इन्वेस्ट करने का प्लान बना लिया ।अभी पचास का इन्वेस्ट किया है ।बाद में इसमे इजाफा करंगे ।’पेड़’ इम्प्लाई भी रखेंगे ।इसके नेवी और एयर विंग भी चालू करंगे ।

मै चौका नेवी ,एयर विंग .....वो कैसा क्यां ....?

गुरुजी ! गंगा की नहीं सुने .....?

गंगा सफाई करने के बाद जनता की मांग लोकल नदियों ,तालाबों की सफाई की तरफ होगी न .... वई तो ..... ?

और वो ‘एयर विंग’.......

गुरुजी ..... आप को सब पता रहता है ,विज्ञान सिज्ञान आप पढ़े रहते हैं ।हमसे पूछते हैं । देखते नहीं कितना ‘पोलुशन’ होते रहता है ।सफाई तो वहां भी चाहिए की नइ .....?

मै गनपत के गणित में उलझ सा गया ।

मेरे पास, उसकी इच्छा शक्ति के आगे,काटने लायक तर्क की गुजाइश बाकी न रह गई थी ... ।

मैंने उससे पूछ लिया ,कल धुले कपडे में आऊ या रोजाना वाला चलेगा ,वैसे ये मेरा पहला उदघाटन है ,मुझे अच्छा ही पहनना पड़ेगा ,

गनपत ! कहीं तुम उदघाटन बाद सफाई अभियान में तो नहीं लगा दोगे......?

सफाई का भूत गनपत से उतर के मुझ पर चढ़ गया ।

गनपत प्रस्थान बाद ,कल के भाषण के लिए, महीने भर के सफाई कालम वाले ,अखबार में खंगालने लगा ।

 

सुशील यादव

२०२ श्रीम सृष्ठी, सन फार्मा रोड ,अटलादरा वडोदरा ३९००२२

Email Susyadav7@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------