बुधवार, 10 दिसंबर 2014

सुधीर मौर्य की लघुकथाएँ

image

1) एक दीवाने की मौत

________________________________

पूरा गांव उन्हें दीवाना, वहशी और पागल कहता था। पर न जाने क्यों मेरा मन कहता था युसूफ चच्चा ऐसे नहीं हैं। उनकी उन दो हरकतों जिनकी वजह से गांव वालों ने उन्हें पीटा था उसके बाद भी मेरा मन उनके बारे में गांव वालों की तरह धारणा नहीं बना सका।

पहली बार गांव वालों ने उन्हें इसलिए बेदर्दी से पीट दिया जब उन्होंने भाग कर मज़ार पर चढ़ाई जा रही चादर को लेकर उसे उस भिखारिन को उढ़ा दिया जो दिसंबर के महीने में बरगद के नीचे ठण्ड से ठिठुर रही थी। मज़ार पर वो चादर क्षेत्रीय विधायक चढ़ाने आया था और वो विधायक असलम शेख अपनी जलती आँखों के आगे युसूफ चच्चा को पीटते हुए देखता रहा।

दूसरी बार युसूफ चच्चा की पिटाई तब मैंने देखी जब उन्होंने उस भिखारिन को मंदिर में चढ़ाया जाने वाला दूध एक बिरहमन के हाथ से छीन कर पिला दिया। इसका परिणाम यह हुआ गांव वालों ने युसूफ चच्चा के उस भिखारिन के साथ अवैध सम्बन्ध की चर्चा करने लगे।

आज भी शायद युसूफ चच्चा की गांव वालों ने किसी बात पे पिटाई की होगी। उनकी लाश पड़ी हुई थी। पूरा गांव तमाशबीन था। पर आज मैं तमाशा नहीं देख सकता था। युसूफ चच्चा को सम्मान सहित दफ़नाने से पहले मेरे कदम पुलिस स्टेशन की तरफ उठ चले थे

 

 

2) हूर बनने का खौफ

_______________________________

आज तुम्हें क्या हो गया है तहज़ीब। अपने सीने से चिपटी एक गोरी, छरहरी, कमसिन लड़की को अपने सीने से अलग करके अपने से पर लगभग धक्का देते हुए वो बोला।

ज़मीन पर पड़े कुछ लम्हे वो सिसकती रही और फिर तड़प कर उसके सीने से लगते हुए बोली - आफ़ताब आज मैं एक लड़की होकर तुम्हारी इल्तिज़ा कर रही हूँ मेरी दोशीज़गी को चूर चूर कर दो। हाँ आफ़ताब आज मेरा कुंवारापन तोहफे में ले लो। इतना कह कर तहज़ीब, आफ़ताब के सीने में अपना चेहरा गड़ाये हुए फफक - फफक कर रो पड़ी।

कुछ देर उसे आंसू बहा लेने के बाद, उसके बाल सहलाते हुए आफ़ताब बोला - तहज़ीब निकाह से पहले जिस्मानी तालुकात नायजायज़ हैं। और फिर तुम्हीं तो कहा करती थी 'ये सब शादी के बाद' .

--हाँ आफ़ताब कोई भी लड़की अपना जिस्म सिर्फ शादी के बाद ही मर्द को सौंपना चाहती है।

तहज़ीब , आफ़ताब का चेहरा देखते हुए कहे जा रही थी - पर जानते हो वो कबायली दहशतगर्द गांव से कुछ ही दूर हैं ज्यादा से ज्यादा वो कल यहाँ आ धमकेंगे। वो हिन्दू - मुस्लमान का फ़र्क़ किये बिना हम लड़कियों का बेदर्दी से बलात्कार करेंगे। आफ़ताब मैं बलात्कार होने से पहले मर जाना चाहती हूँ। और जानते हो मरने से पहले मैं अपना कुंवारापन इसलिए क़ुर्बान करना चाहती हूँ ताकि बेरहम दहशतगर्दों को मैं जन्नत में हूर की शक्ल में तोहफे में न मिळूं।

तहज़ीब की बात सुनकर आफ़ताब ने तड़पकर उसका चेहरा देखा तो वहां उसे पहली बार किसी लड़की के चेहरे पर हूर बनने का खौफ नज़र आया।

------

 

सुधीर मौर्य

ग्राम और पोस्ट - गंज जलालाबाद

जनपद - उन्नाव

उत्तर प्रदेश

पिन – २०९८६९

Sudheermaurya1979@rediffmail.com

2 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------