शनिवार, 6 दिसंबर 2014

रामानुज मिश्र की कविताएँ

रामानुज मिश्र

clip_image002

जन्म                :           01.08.1950

शिक्षा                :           स्नातकोत्तर (हिंदी) काशी हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी

उपसंपादन        :           घाटी का दर्द, साप्ताहिक राबटर्सगंज, सोनभद्र

लेखन               :           कहानी, कविता

 

स्थान               :           ग्राम मझुई, पोस्ट मधुपुर, जिला सोनभद्र-231216(उ.प्र.),

            :     रानी लक्ष्मीबाई महाविद्यालय मधुपुर, सोनभद्र-231216(उ.प्र.)

 

प्रकाशित कृति   :           मुट्ठीभर ज़िंदगी (कहानी संग्रह)

प्रकाशन            :           गुंजन प्रकाशन, मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश

 

 

 

इन्द्रधनुषी तितलियों के पंख मेरे पास हैं

 

चाँद-तारे तोड़ लाना अपनी फितरत में नहीं,

उँगलियों से ताज गढ़ना अपनी कूबत में नहीं,

एक टुकड़ा आसमां और एक प्यारी सी सुबह,

इन्द्रधनुषी तितलियों के पंख मेरे पास हैं।

 

एक अनजानी गली में पुल बनाता आहटों के,

ज़िंदगी के बांसुरी में गीत भरता चाहतों के,

हर क़दम आवाज बनकर छल रहे हैं शाम तक,

तेरे घर से लौटती तनहाइयाँ अब साथ हैं।

इन्द्रधनुषी तितलियों के पंख मेरे पास हैं।

 

नदी पार सन्नाटा  रेतमहल है अपना,

नींद में उतरता है सपना ही सपना,

आयेंगे लौट वे, हवायें ये कहती हैं,

आँगन और देहरी को अब भी विश्वास है।

इन्द्रधनुषी तितलियों के पंख मेरे पास हैं।

 

रात-रात जाग-जाग खोजा है उनको,

फैला है आसमां खबर भेजूं किसको,

जागते सितारों ने भेजा आमन्त्रण है,

रिश्तों के आँगन में पतझड़ का राज है।

इन्द्रधनुषी तितलियों के पंख मेरे पास हैं।

 

सुबह खिले फूलों पर नाम तेरा लिख दिया,

परिचय की गंध को चौखट पे टांग दिया,

दिन के सिरहाने पर कलप रही प्यास है

ताल-ताल पुरवैया मन तो उदास है।

इन्द्रधनुषी तितलियों के पंख मेरे पास हैं।

 

 

 

टाट-सी लड़कियां

 

संकरी गली के

तंग चबूतरे पर

रोज-रोज सुबह-शाम

सिगड़ी सुलगाती हैं

फूंकती हैं, हौंकती हैं

ज़हर बूझे धुँये को

फेफड़ों में भरती हैं।

खंचिया भर बर्तन

मांज-घिस चमका कर

रसोई में धरती हैं

माँ की दुलारी बन

खुद को ही छलती हैं

कहाँ जाये, क्या करें

मूकालाप करती हैं

टाट सी लड़कियाँ।

 

लटिआये बालों में

सोलह बसन्त लिए

कितने ही भैयन की

चिकोटियों का दंश

सहती चुपचाप हैं

आह नहीं, उफ नहीं

रातों में

सपने भी-देखने से डरती हैं

अनब्याहे ब्याह की

प्रतीक्षा में मरती हैं,

प्रतिष्ठा के नाम पर

सिंकती हैं, फुंकती हैं

एक नहीं...कई बार

फंसरी पर झूलती हैं

टाट सी लड़कियाँ।

 

 

बेटी से औरत बन

जब-जब निकलती हैं

कोई फुसलाता है

कोई बहकाता है

भाई के घर से

जब उन्हें भगाता है

रंगीन बादलों की

दुनियाँ दिखलाता है

ज्योंहि चुक जाती हैं

खनकते बाजारों में

बेच दी जाती हैं

या किसी स्टेशन पर

अनाथालय की शक्ल में

छोड़ दी जाती हैं

जहाँ से दिख जाता है

चौराहा

अगली सुबह होते ही

अनजानी खबर बन जाती हैं

टाट सी लड़कियाँ।

 

हमने तो पोंछे हैं

गन्दे पांव टाटों पर

जल्दी ही फेंका है

गली के कबाड़ों पर,

मर्दों की,

बेगैरत भीड़ में

अब भी

सहमती, ठिठुरती

हांफ रहीं लड़कियाँ

टाट सी लड़कियाँ।

 

 

कितना ही चाहा है

 

हरी-हरी घास पर

चादर भर सपने

कितना ही चाहा है

मिले नहीं अपने

धूप के बगीचे में

गूंगी अभिलाषा है

पलक-पलक दौड़ रही

नयनों की भाषा है

तनहाई बँट गई

गम के सवेरे

कितना ही चाहा है..

बीती है रात अभी

सुधुयों के चलते

कितने ही टूटे हैं

नेह के घरौंदे

मन बढ़ हवाओं ने

दिए ऐसे धोखे

कितना ही चाहा है

मन तो अड़भंगी है

फिर भी यह संगी है

भाग-भाग जाता है

लौट-लौट आता है

ओठों की चाहत पर

संगीन पहरे हैं

कितना ही चाहा है

सुबह गई, शाम गई

प्रीत गई, प्यास गई

तेरे लौट आने की

मन भावन आश गई

सिंदूरी शाम आज

फिर तुम्हें पुकारे

कितना ही चाहा है

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------