सोमवार, 29 दिसंबर 2014

तकनीक : संगीत प्रेमियों के लिए खुशखबरी - संगीत स्ट्रीमिंग सेवा डीज़र अब भारत में शुरू

डीज़र, पेंडोरा, स्पॉटीफाई... आदि संगीत स्ट्रीमिंग सेवाएं तेजी से अपना पैर पसार रही हैं. उच्च गुणवत्ता के शानदार, चुनिंदा गीत-संगीत इंटरनेट के माध्यम से आपके कंप्यूटर और मोबाइल उपकरणों में सुनाने की इनकी सुविधाएं कमाल की हैं. इनकी लोकप्रियता के चलते यू-ट्यूब ने भी अपना संगीत चैनल चालू किया है, वो कितना आगे बढ़ता है यह देखना है.

 

बहरहाल, भारतीय संगीत प्रेमियों के लिए खुशखबरी है - ऑनलाइन संगीत स्ट्रीमिंग सेवा डीजर अब उपलब्ध है. यदि आपको बीच-बीच में छोटे मोटे विज्ञापनों से परहेज नहीं है तो आपके लिए 3.5 करोड़ से अधिक गीत-संगीत ट्रैक के संग्रह का खजाना, वह भी शानदार गुणवत्ता में, बिलकुल मुफ़्त उपलब्ध होगा. बस आपका इंटरनेट कनेक्शन ब्रॉडबैंड और असीमित डेटा वाला होना चाहिए.

image

 

यह है खास भारतीय पसंद के अनुरूप उपलब्ध कराया गया संगीत चैनल - अपने पसंद अनुरूप कोई एक चुनें और असीमित प्ले का आनंद लें. इलियाराजा से लेकर बिक्रम घोष और लता मंगेशकर से लेकर जगजीत सिंग और श्रेया घोषाल, जाकिर हुसैन, हरि प्रसाद चौरसिया आदि..आदि सभी शामिल हैं.

image

 

डीज़र यानी गीत-संगीत का वाट्सएप्प?

शायद हाँ!

पर, अभी चूंकि नया-नया शुरू हुआ है तो बिक्रम घोष के चैनल पर लता मंगेशकर के गाने भी यह बजा रहा है! जो, हो लता मंगेशकर को सुनने का एक नया अनुभव इसलिए हो रहा है कि गाने की क्वालिटी अद्भुत है - लगभग सीडी क्वालिटी की.

डीजर पर अपना मुफ़्त खाता बनाने और हर किस्म का असीमित संगीत सुनने के लिए यहाँ जाएँ - deezer.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------