रविवार, 30 नवंबर 2014

पी़डीएफ ईबुक – गोवर्धन यादव का कहानी संग्रह - महुआ के वृक्ष

पी़डीएफ ईबुक – गोवर्धन यादव का कहानी संग्रह -  महुआ के वृक्ष नीचे खिड़की पर पढ़ें.   पूरे स्क्रीन में बड़े आकार में पढ़ने के लिए क्लिक टू ...

पीडीएफ ईबुक – गोवर्धन यादव का कविता संग्रह - बचे हुए समय में

पीडीएफ ईबुक – गोवर्धन यादव का कविता संग्रह -  बचे हुए समय में नीचे खिड़की पर पढ़ें पूरे स्क्रीन में पढ़ने के लिए क्लिक टू रीड पर क्लिक करें...

पीडीएफ ई बुक : गोवर्धन यादव का कहानी संग्रह - तीस बरस घाटी

गोवर्धन यादव का कहानी संग्रह पीडीएफ ईबुक नीचे खिड़की पर पढ़ें. क्लिक टू रीड लिंक पर क्लिक कर पूरे स्क्रीन पर पढ़ें.

पीडीएफ ईबुक : गोवर्धन यादव का लघुकथा संग्रह

गोवर्धन यादव का लघुकथा संग्रह – “ अब नगर शांत है” पीडीएफ ईबुक के रूप में पढ़ें. नीचे खिड़की पर क्लिक टू रीड पर क्लिक कर पूरे स्क्रीन में ...

प्रमोद यादव का व्यंग्य - दौरों का दौर

दौरों का दौर / प्रमोद यादव कार्टून-साभार-हरिभूमि,रायपुर   ‘ गुरूजी...नमस्कार...’ शेविंग करने खिड़की पर दर्पण धरे गुरूजी बैठे ही थे कि सामन...

एम. आर. अयंगर की कहानी - गुरुजन

गुरुजन सुनील जब हाई स्कूल में दाखिल हुआ तो जाना कि शहर के रेल्वे क्षेत्र के सभी स्कूलों के अग्रणी छात्र इसी स्कूल में आ गए हैं. सुनकर एक तर...

सविता मिश्रा की लघुकथाएँ

दो जून की रोटी ============== आंचल में दूध आंख में पानी भरा है, रह रह छलक जा रहा था क्योंकि आंचल का दूध तो अब सुख चूका था| नन्हा गुल्लू फिर ...

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - मतदाता के गर्व और मतदान के फर्ज़ की आवाज़

मतदाता के गर्व और मतदान के फर्ज़ की आवाज़ डॉ.चन्द्रकुमार जैन  मतदाता जागरूकता अभियान का असर देखिये कि विगत वर्षों के दौरान मतदाता पंजीकरण,वि...

पुरुषोत्तम विश्वकर्मा का हास्य व्यंग्य : बुद्धुमल का ब्याह

बुद्धुमल का ब्याह बुद्धु शब्द शायद बुद्ध शब्द ही का कोई विकृत क्लोन हो सकता है,यह शब्द किसी जुबां के किसी लुगत में चाहे मिले या न मिले मगर...

शुक्रवार, 28 नवंबर 2014

प्रमोद यादव का हास्य-व्यंग्य : डिनर विद डब्बू

डिनर विद डब्बू / प्रमोद यादव ‘ एक बात तो बताओजी..आप का सिर कैसे घूम गया है ? ‘ पत्नी चाय का मग थमाते बोली. ‘ क्यों ? क्या हुआ ? मैंने क्या ...

राजीव आनंद का आलेख - हरिवंशराय बच्चन : भारत के बेमिसाल व सर्वाधिक लोकप्रिय कवि

27 नवंबर को 107वीं जयंती पर विशेष डॉ. हरिवंशराय बच्चन : भारत के बेमिसाल व सर्वाधिक लोकप्रिय कवि डॉ. हरिवंशराय बच्चन का परिचय बहुत ही मुख्त...

नन्दलाल भारती का आलेख - ॥ हिन्‍दी जीवन मूल्‍यों की संवाहक है।॥

डॉ․नन्‍दलाल भारती एम․ए․ । समाजशास्‍त्र । एल․एल․बी․ । आनर्स । पोस्‍ट ग्रेजुएट डिप्‍लोमा इन ह्‌यूमन रिर्सोस डेवलपमेण्‍ट (PGDHRD) विद्यावाचस्...

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - कवि केदारनाथ सिंह–एक संस्मरण

कवि केदारनाथ सिंह ने नांदगाँव में पढ़ी थी कविता ----------------------------------------------------------- ज्ञानपीठ पुरस्कार पर संस्कारधान...

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - दूरियों के दर्द का सवाल और पीढ़ी अंतराल

दूरियों के दर्द का सवाल और पीढ़ी अंतराल डॉ.चन्द्रकुमार जैन  पीढ़ियों का अंतराल तो हमेशा होता है समय के आगे - हर अगला कदम पिछले कदम से खौ...

पुरुषोत्तम विश्वकर्मा के हास्य-व्यंग्य

मोबाईल का मर्ज      आज जब में चाचा दिल्लगी दास से मिला तो देखा कि जनाब व्यस्त का कम अस्तव्यस्त ज्यादा लगे। मेरे शुभ प्रभात का प्रतुत्तर दुए...

सूर्यकांत मिश्रा का आलेख - सड़कों पर बढ़ रहे हादसे - कारण अनेक

सड़कों पर बढ़ रहे हादसे - कारण अनेक - ट्रैफिक नियमों को सख्त करना जरूरी -     यूँ तो समस्याएँ हर देश में होती हैं। कहीं ज्यादा तो कहीं कम,...

गुरुवार, 27 नवंबर 2014

एस. के. पाण्डेय का व्यंग्य - इतनी जल्दी भी क्या है?

हिं दुस्तान में हर बच्चे को बचपन में खरगोश और कछुए की कहानी सुनाई जाती है। जिसमें खरगोश और कछुए के बीच रेस होती है। खरगोश जल्दी-जल्दी फुर्ती...

महावीर सरन जैन का आलेख - अन्तरराष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला (आईपीए)

अन्तरराष्ट्रीय ध्वन्यात्मक वर्णमाला (आईपीए) प्रोफेसर महावीर सरन जैन संसार में बहुत सी भाषाएँ हैं जो बोली तो जाती हैं मगर उनकी कोई लिपि नह...

मंगलवार, 25 नवंबर 2014

कुलदीप ठाकुर की कविताएँ

कुलदीप ठाकुर   जन्म तिथि- 4 सितंबर 1984 शिक्षा- एम.ए. प्रकाशित कृतियाँ- पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित सम्प्रति- हिमाचल सरकार के महिला...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------