रविवार, 18 जनवरी 2015

विभा रानी की कहानी - भरतपुर लुट गयो रात मेरी अम्मा - का स्वयं का सस्वर पाठ यूट्यूब पर देखें-सुनें


वनमाली सृजन पीठ में विभा रानी ने अपनी ताज़ा, अप्रकाशित कहानी - भरतपुर लुट गयो रात मेरी अम्मा का पाठ प्रबुद्ध रचनाकारों के समक्ष किया. यू-ट्यूब वीडियो पर आप भी आनंद लें - साथ में स्वचालित रेकॉर्ड हुए 'बैकग्रांउड स्कोर' कहानी में यथार्थता का बोध कराते हैं कि आप भारत में हैं!



5 blogger-facebook:

  1. कहानी पूरी नहीं हैं। कृपया दूसरा भाग भी डाले।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिनय जी,
      कुछ अप्रत्याशित तकनीकी त्रुटि के कारण आगे का भाग रेकॉर्ड नहीं हो पाया. विभा जी से आग्रह है कि कहानी का आगे का हिस्सा संक्षिप्त में यहाँ दे दें.

      हटाएं
    2. धन्यवाद रवि जी। वैसे कहानी लगभग पूरी हो चली थी, और बहुत ही अच्छी लगी कहानी।

      हटाएं
    3. जी बिनय जी, कहानी लगभग पूरी ही है. बस एक टुकड़ा यह रह गया था कि उसकी मां भागती हुई आती है, और अपने खून से लथपथ घायल बेटे को देख कर जोर से चीखती है और दहाड़ मारकर रोती है. और उसका क्रंदन बैंड की आवाज पर भारी पड़ जाता है.

      हटाएं
  2. एक अच्छी कहानी का सस्वर पाठ को देख सुनकर अच्छा लगा बधाई हो रवि जी

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------