गुरुवार, 8 जनवरी 2015

ईबुक - सिन्धी कहानियाँ - हिंदी अनुवाद : देवी नागरानी

नीचे दिए गए क्लिक टू रीड (click to read) बटन को क्लिक कर कहानियाँ पढ़ें. यह बटन प्रकट होने में कुछ समय ले सकता है जो आपके इंटरनेट की गति तथा कंप्यूटिंग उपकरण की क्षमता पर निर्भर करता है.

image

3 blogger-facebook:

  1. ये कहानी संग्रह पढ़ने का बहुत इच्छुक हूँ। क्या ईमेल द्वारा इसकी पीडीएफ प्रति किसी प्रकार प्राप्त हो सकती है? फोन में इंटरनेट नहीं है और अपना कम्प्यूटर और ब्रोडबैंड साथ लेकर चलना संभव नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. roney ji apna email dnangrani@gmail.com par bhejiye....file bhej doongi

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------