शुक्रवार, 30 जनवरी 2015

चन्द्रकुमार जैन का आलेख - अच्छा बोल कर बढ़ा सकते हैं आप अपनी अहमियत

अच्छा बोल कर बढ़ा सकते हैं आप अपनी अहमियत

डॉ.चन्द्रकुमार जैन 

नए युग में कार्य-व्यापार से लेकर जीवन-व्यवहार और रोजगार के क्षेत्र में भी संवाद कौशल व सम्प्रेषण का महत्व बढ़ता जा रहा है,लेकिन, याद रहे कि कुछ लोग हैं जिनके पास कहने योग्य कुछ भी नही होता पर वो अक्सर कुछ न कुछ कह बैठते हैं. दूसरी तरफ ऐसे लोग भी हैं जिनके पास कहने के लिए पूरा खजाना ही साथ-साथ चलता है पर दुर्भाग्य ही समझिये कि वे चाहकर भी कुछ बोल नहीं पाते हैं. मौखिक और लिखित संचार और संवाद के साथ किसी संस्थान में समूह के बीच रहकर काम करने तथा संस्था के हितों को प्रगतिगामी बनाने पर ही उसकी सफलता निर्भर करती है। लेकिन, यह अफ़सोस और आश्चर्य की बात भी है कि बोलने की कला और अभिव्यक्ति के तौर तरीकों पर इतना जोर दिए जाने के बावजूद बहुतेरे लोग हैं जिनके लिए यह काम पहाड़ जैसा है।

झिझक, संकोच. भय, आशंका, आत्महीनता न जाने कितनी चीजें बोलने वालों की राह में अवरोधक बनकर खड़ी हो जाती हैं. कभी वे चाह कर भी बोल नहीं पाते हैं, कभी उनके भीतर अपनी बात कहने की तत्परता ही नहीं दिखती, पर सच तो यह है कि बोलना अक्सर उनके लिए एक दूभर कार्य हो होता है. लिहाज़ा होता यह है कि ठीक समय पर, सही ढंग से अपनी बात न कह पाने के कारण वे प्रगति की दौड़ में पीछे रह जाते हैं। आज सूचना-संचार के अंतहीन विस्तार के दौर में तो यह कहना अधिक सही है कि जो अपनी बात ठीक ढंग से कहेगा वही इस दुनिया के बाज़ार में रहेगा। इसलिए सोचकर कहने के साथ-साथ कहने पर सोचने से भी परहेज़ करना ठीक नहीं है।  

कहना न होगा कि सफलता, संचार और संवाद कुशलता पर काफी हद तक निर्भर करती है।  इसके लिए गहराई से समझना जरूरी है कि आपका सन्देश क्या है, यानी आप वास्तव में क्या कहना और सुनने वाले तक क्या पहुंचाना चाहते हैं. यह भी कि समय और आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए आपने सही माध्यम का चुनाव किया भी है या नहीं है. 

ज़ाहिर सी बात है कि अपने सन्देश को प्रभावशाली ढंग से निर्धारित लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए संचार के इन सभी स्तरों पर किसी भी प्रकार की बाधा को दूर करना पड़ेगा मिसाल की तौर पर सन्देश को ही लीजिये. यदि सन्देश बहुत लंबा. अस्पष्ट या अनगढ़ होगा तो उसकी सार्थकता नहीं रह जायेगी. 

दरअसल नपे-तुले शब्दों में, समय और ज़रुरत का ध्यान रखकर कही गई बात की अहमियत बढ़ जाती है .यदि ऐसा न हो सका तो यह भी संभव है कि आपकी बात का गलत अर्थ निकाल लिया जाये या फिर उसकी किसी अन्य सन्दर्भ में गलत व्याख्या कर दी जाये. इसलिए, जिन्हें अभिव्यक्ति की शक्ति का भान है वे कुछ कहने की साथ-साथ अच्छा कहे हुए को सुनने के लिए सदैव तत्पर देखे जा सकते हैं. और उनकी तो चर्चा ही व्यर्थ है जो कहने और सुनने के बदले महज़ कहा-सुनी में मशगूल होते है. यहाँ संचार के सारे नियम ध्वस्त हो जाते हों तो आश्चर्य क्या है?

----------------------------------------------------

लेखक प्रखर वक्ता, कुशल प्रशिक्षक

और दिग्विजय कालेज में प्रोफ़ेसर है।

1 blogger-facebook:

  1. rajesh kr pathak,giridih,jharkhand.094701778881:06 am

    Namaskar,achha bolne men badhak kaarak ko dur karne ke upay bhi sujhane ka kast karein to baat banti najar aaaye....

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------