बुधवार, 25 फ़रवरी 2015

सुमन त्यागी 'आकांक्षी' की कहानी - वेलेंटाइन

वेलेंटाइन

image

शर्मा जी की इकलौती बेटी अंकिता की शादी है। बड़े ही नाजों से पाला है उसे इसलिए शादी में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते हैं वो । वैसे तो सारे प्रोग्राम मैरिजहोम में ही कराये जायेंगे लेकिन अंकिता की इच्छा थी कि उसके फेरे घर में ही हों इस वजह से मण्डप को सजाने का काम जोरों से चल रहा है। बरातियों के बैठने के व्यवस्था,घरवालों के लिए कुर्सियाँ,लाईटिंग,फूलमालायें,फेरों के वक्त वर-बधू पर डालने के लिये गुलाब के फूल,सभी कुछ शर्मा जी स्वयं देख रहे हैं। "अरे बबलू फूलों की झालर को ढंग से लगा"मंडप में लगी झालर को ठीक करते हुए शर्मा जी बोले। शर्मा जी कभी लाइटवाले को डांट रहे थे तो कभी अपनी श्रीमती जी को। एक ही बात की चिंता कि सब अच्छे से निबट जाये बस।

'नमस्ते अंकल' एक लड़के ने घुटनों तक लगभग झुकते हुए कहा। "अरे ये तो अपना विपिन है,"शर्मा जी अपने चश्मे को नाक से आँखों पर ले जाते हुए बोले। "सुनती हो देखो अपना विपिन आया है"। मिसेज शर्मा बाहर आई। विपिन ने पैर छूते कहा 'नमस्ते आंटी'। "खुश रहो बेटा,बड़े दिनों बाद आये ,कितने दुबले हो गये हो,ढंग से खाते-पीते भी हो या नहीं"मिसेज शर्मा विपिन का माथा चूमते हुए एक ही साँस में बोल गई। फिर मिसेज शर्मा से इधर-उधर की बातें हुई,नए जॉब की बातें,नये शहर की बातें,प्रिया की बातें,माँ-पापा की बातें,अपने पुराने दिनों की बातें,और शर्मा जी उन बातोँ में से कब के चले गये पता ही नहीं चला। लगभग सभी बातें हो चुकने पर विपिन ने थोडा सा हिचकिचाते हुये पूछा"आंटी अंकिता कहाँ है"? "अरे बेटा,में अपनी बातों के चक्कर में भूल ही गई। वो अपने कमरे में है जाओ मिल लो उससे। मैं तुम्हारी कॉफ़ी वहीँ पहुंचाती हूँ, ब्लैक कॉफी,है ना "! 'जी आंटी'विपिन ने जबाब दिया।

विपिन और अंकिता बचपन के दोस्त हैं। दोनों साथ पढ़े,साथ खेले और साथ ही बड़े हुये। अंकिता के कमरे में पहली बार नहीं जा रहा है विपिन। वो अक्सर बेधडक उसके कमरे में आता-जाता रहा है। लेकिन आज पता नहीं क्या हो गया है उसे। आज न तो वह सीधा अंकिता के कमरे में घुसा और ना ही उसके टेड्डी को बेड से उठा कर जमीन पर पटका जैसा वह अक्सर किया करता था। आज तो वह कमरे की दहलीज पर खड़ा हो कमरे को निहारे जा रहा है। आंकिता आईने के सामने बैठी हुई तैयार हो रही है। वह अपने खुले हुये बालों का जूड़ा बनाने की असफल कोशिश में लगी है। उसके माथे पर मेहरून रंग की चौड़ी बिंदी बड़ी ही खूबसूरत लग रही है। उसके आँखों के काजल ने आँखों को और भी बड़ा व सुन्दर बना दिया है। जब विपिन अंकिता को आईने में निहारते हुये उसकी सुंदरता पर मौन रूप में लट्टू हुआ जा रहा था तभी अंकिता की नजरें उस पर पड़ी।

"ओए मिस्टर !ऐसे मिरर में चोरी-चोरी क्या देख रहे हो,ये लो तुम्हारे सामने आ जाती हूं,जी भरकर देख लेना,"अंकिता ने हँसकर खड़े होते हुए कहा। और फिर वह विपिन के सामने जा खड़ी हुई। "क्या प्रिया ने अन्दर आने के लिए मना किया है "? अंकिता विपिन का हाथ पकड़ कर उसे कमरे के अंदर खींचते हुये बोली।

"तुम लोग जाओ मैं थोड़ी देर बाद बुला लूँगी"। अंकिता ने पास में खड़ी लड़कियों को कुछ इशारे करते हुये कहा। लड़कियाँ हँसती खिलखिलाती कमरे से बाहर चली गई। उनके जाने के बाद अंकिता ने कमरे को अंदर से बंद किया और विपिन को बैड पर बिठाते हुए बोली ,"आज टैड्डी नहीं फेंकना क्या"?

विपिन ने नहीं में सिर हिला दिया। अंकिता थोड़ी सी घबरा गई। आखिर आज इस लड़के को हो क्या गया है,जो लड़का कभी भी चुप नहीं रह सकता और जिसकी मेरे टेड्डी से बिलकुल नहीं पटती वह आज चुपचाप उसे गोद में लिए बेठा है। कुछ न कुछ गड़बड़ जरूर है। पहले भी जब कभी विपिन को कोई डिसीजन लेने में परेशानी होती थी तो वह ऐसे ही आकर बैठ जाता था। फिर चाहे वो जॉब के लिए शहर छोड़ने का फैसला हो या प्रिया को प्रपोज़ करने का। अंकिता ने एक चेयर को खींचकर विपिन के आगे सरकाया और उस पर बैठ गई । "मामला कुछ गम्भीर मालूम होता है" अंकिता ने माहौल को हल्का करने के लिये हँसते हुये कहा। लेकिन विपिन पर कोई असर न होते हुए देख उसने विपिन के हाथों को अपने हाथों में लेते हुए कहा,"बात क्या है विपिन"?

विपिन ने अंकिता की तरफ देखा दोनों की नजरें मिलीं और फिर दोनों निशब्द किसी के पास कुछ नहीं है कहने को बस एक दूसरे को एकटक देखे जा रहे हैं। लंबी खामोशी के बाद विपिन ने कुछ कहने का साहस किया लेकिन शब्द गले से बाहर ही नहीं आना चाहते। लेकिन आज सब क्लियर तो करना ही होगा। उसने झटके से अंकिता के हाथों में से अपने हाथ छुड़ाये और अंकिता की तरफ पीठ करके खड़ा हो गया। सबकुछ अंकिता की समझ से परे उसे कुछ भी समझ नहीं आ रहा की विपिन को हो क्या गया है उसकी जिंदगी में अभी तक सब कुछ सही चल रहा था प्रिया से झगड़ा तो नहीं हो गया कहीँ ? अंकिता ने अपने टेड्डी को बेड से उठा कर अपनी बाँहों में भींच लिया।

कमरे की खामोशी को तोड़ते हुए विपिन ने कहा,"अंकिता क्या तुमने सोचा है कि मैं तुम्हारे टेड्डी को क्यों फेंक देता था ?नहीं ना। क्योंकि मुझे बिल्कुल भी पसन्द नहीं कि तुम मेरे अलावा किसी दूसरे को इतनी इम्पोर्टेंस दो। तुम्हें याद है एडथ क्लास में जब तुमने एक लड़के को किस किया था और अगले ही दिन उसका वही गाल लाल मिला था। और तुम्हें याद है कॉलेज में जब सुशान्त ने घुटनों पर बैठ कर तुम्हें प्रपोज़ किया था तब दूसरे दिन वह घुटनों पर बैठने लायक भी नहीं रहा था। मुझे लगता है कि ये सब इसलिए था क्योंकि तुम हमेशा से मेरे ही साथ थी तुम्हें किसी दूसरे के साथ देखना मुझे पसंद नहीं था । लेकिन अब बहुत कुछ बदल गया है। जॉब के लिए मैं मुंबई शिफ्ट हो गया। वहाँ मुझे प्रिया मिली । जिसे देख कर ही मुझे पहले प्यार का एहसास हुआ। हमारी अच्छी अंडरस्टैंडिंग है। मैं उसे पसंद करता हु और वह मुझे । दोनों एक ही मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते हैं। दोनों की फैमिलीज़ भी हमारे रिश्ते से खुश हैं। फिर तुम से बात हुई । तुम्हारी और सुसांत की शादी । लेकिन तुम्हारे लिए आज भी वही फीलिंग है आज भी मैं तुम्हे किसी दूसरे के साथ नहीं देख सकता । ख़ैर ये मेरी प्रॉब्लम हे जिसे मैं मैनेज कर लूँगा। मैं बस ये जानना चाहता हूँ कि तुम सुशांत से प्यार करती हो या नहीं। अंकिता डू यू लव सुशांत ?अंकिता रिप्लाई मी"।

"आर यू मैड विपिन ? मेरी शादी होने वाली है। बारात आ चुकी है । कुछ देर में मुझे नीचे जाना है । और तुम मुझसे अब पूछ रहे हो कि मैं सुशांत से प्यार करती हूँ भी या नहीं। वह मेरे होने वाले हस्बैंड हैं । हम दोनों एक दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैँ। दोनों की फैमिलीज़ भी एक दूसरे को अच्छे से जानती हैं। वैसे भी सुशांत गुड लुकिंग हैं,स्मार्ट हैं,हैंडसम हैं,तुम से लंबे भी हैं,और सबसे बड़ी बात वह मुझसे बहुत प्यार करते हैँ"। अंकिता एक ही सांस में सारी बातें कह गई।

"अंकिता मैने पूछा क्या तुम सुशान्त से प्यार करती हो? आई वांट टू नो डू यू लव हिम,ओनली। आई एम नॉट इंट्रेस्टेड टू नो,ही लव्स यू"। विपिन ने अंकिता की दोनों बाँहों को जोर से पकड़ते हुए कहा।

"विपिन छोड़ो मुझे दर्द हो रहा है"। अंकिता रुआँसी सी होकर बोली।

"अंकिता प्लीज़ मेरी आँखों में देख कर कहो कि तुम भी सुशांत से प्यार करती हो,प्लीज़ अंकिता ,प्लीज़"। विपिन ने अपनी पकड़ ढ़ीली करते हुए धीमे स्वर में कहा। अंकिता का दर्द कुछ कम हुआ।

"अंकिता प्लीज़ कुछ तो बोलो। मैं दोस्त हूँ तुम्हारा प्लीज़ कुछ तो कहो"। विपिन लगभग गिड़गिड़ाते हुए बोला।

"नहीं,नहीं करती सुशांत से प्यार,नहीं करती,नहीं करती"। अंकिता रोते हुए चिल्लाकर बोली। फिर उसने अपने आप को संभाला और धीमी आवाज में बोलना शुरू किया" विपिन अब इन बातों से कोई फायदा नहीं है। हाँ ये सच है कि मैं सुशान्त से प्यार नहीं करती लेकिन ये जरुरी भी तो नहीं कि हम जिस से प्यार करें वह भी हम से प्यार करे। किसी को शादी से पहले हो जाता है तो किसी को शादी के बाद। मुझे शादी के बाद हो जायेगा। सुशांत को पता है कि मैं उनसे प्यार नहीं करती लेकिन पसंद तो करती हूँ। पापा को भी वह पसंद हैँ। उनकी फैमिली मुझे पसंद करती है। उनकी फैमिली मेँ मुझे बहुत प्यार व सम्मान मिलेगा। इससे बड़ी और ख़ुशी की बात मेरे लिए क्या हो सकती है। विपिन,तुम जैसा समझते हो सुशांत वैसे बिलकुल नहीं हैँ। वह बहुत अच्छे इंसान हैँ और ऐसे इंसान से आज नहीं तो कल मुझे भी प्यार हो ही जायेगा। मैं बहुत खुश रहूंगी वह मुझे बहुत खुश रखेंगे"।

"अच्छा अब तुम जाओ,मुझे तैयार भी तो होना है"। अंकिता आँसू पोंछते हुए बोली।

विपिन की ब्लैक कॉफी लिए एक लड़का दरवाजे पर खड़ा था अंकिता ने दरवाजा खोला उससे कॉफी का कप लिया और लड़कियों को भेजने कि कह वापस आ गई। विपिन को कप पकड़ाकर फिर कुर्सी पर बैठ गई। विपिन ने कॉफी पी। फिर अंकिता के सिर पर हाथ फेरते हुए बोला,"तुम खुश तो रहोगी ना,अंकिता"! अंकिता ने हाँ में सिर हिला दिया लेकिन उसके चेहरे से साफ लग रहा है कि वह अंदर कुछ दबाये हुए है। यदि विपिन उसके सामने कुछ देर और खड़ा रहा तो शायद सब कुछ बाहर आ जाये। खेर उसने अपने चेहरे के भावों को कंट्रोल करते हुए कमरे का दरवाजा खोला। उसने अपने चेहरे पर जबरदस्ती मुस्कान लाते हुये कहा,"अब जाओ भी"।

"टेक केअर अंकिता" कमरे से बाहर निकलते हुए विपिन अंकिता के चेहरे की तरफ देख कर बोला।

विपिन के जाने के बाद अंकिता ने कमरे को अंदर से बंद किया और बेड पर रखे टेड्डी को अपनी बाँहों में भींच लिया। वह रोये जा रही है लगातार जोर-जोर से जैसे चाह रही हो कि कोई तो सुने उसकी भी इस टेड्डी के अलावा। वह विपिन अपनी सुना कर चला गया। कभी मुझसे भी पूछा कि मैं इस टेड्डी को इतना प्यार क्यों करती हूँ,नहीं ना,कभी नहीं। उसने कभी ये जानना ही नहीं चाहा। विपिन के न होने पर ये टेड्डी ही रहता है मेरे पास विपिन बन कर ताकि जब चाहुँ तब अपने विपिन से बात कर सकूँ। उसे बता सकूँ अपनी फीलिंग ,उसे बता सकूँ कितना प्यार करती हूँ उससे,उसे बता सकूँ कि मुझे नहीं पसंद था उसका शहर छोड़ना,नहीं पसंद मुझे प्रिया,क्या बीती मुझ पर जब मेने ही उससे प्रिया को प्रपोज़ करने को कहा,बता सकूँ उसे कि कैसी हालत थी मेरी जब उसने प्रिया से शादी का फैसला किया,बता सकूँ कि नहीं चाहती उसके सिवाय किसी और को,ना कभी चाह सकूँगी ,वह सब बता सकूँ जो उसे छोड़कर सभी को पता है,पापा को ,मम्मी को ,सुशांत को। बता सकूँ उसे कि माँ-बाप अपनी बेटी को कुआंरी नहीं देख सकते,नहीं देख सकते उसे तिल-तिल कर जीते हुए।

अंकिता ने अपने आँसू पोंछे,चेहरा धोया,और एक बनावटी हंसी हंसकर सजने के लिए रेडी हो गई। लड़कियां आ चुकी थी सब कुछ पहले की तरह ही नार्मल हो गया । तूफान के गुजर जाने के बाद की शांति।

नीचे हॉल में सारी तैयारियाँ पूरी हो चुकी है। सुशांत मंडप में बैठा अंकिता का वेट कर रहा है। उसकी नजरें बार बार सीढ़ियों की तरफ दौड़ रही हैं। आये हुए सारे मेहमान भी दुल्हन के इंतजार में बैठे सीढ़ियाँ ताक रहे हैं। सीढ़ियों के ऊपर परदे के पीछे कुछ चहल कदमी हुई,हंसी ठिठोली की हल्की हल्की अवाजों के साथ। कई दर्जन आँखें उधर घूम गईं।

क्रीम कलर के लहंगे के साथ मैरून कलर के दुपट्टे को सिर पर रखे अंकिता राजकुमारी से कम नहीं लग रही । अंकिता को देख विपिन ठगा सा रह गया। सुशांत का भी लगभग यही हाल है। विपिन को अंकिता कभी भी इतनी सुन्दर नहीं लगी या उसने अंकिता को कभी ऐसी नजरों से देखा ही नहीं,जो कुछ भी हो लेकिन आज वह अंकिता को देखना चाहता है ,जी भरकर। उसकी नजरें अंकिता के चेहरे से हटने का नाम ही नहीं ले रही। ऐसा लग रहा है जैसे उसे कुछ हो गया है। पागलों की तरह एकटक अंकिता को देखे जा रहा है। अंकिता धीरे-धीरे एक-एक सीढ़ी उतरती हुई नीचे आई। जैसे-जैसे वह मंडप की ओर बढ़ रही है,विपिन के दिल की धड़कन भी तेज होती जा रही है। अंकिता के हर एक कदम के साथ विपिन की धड़कने तेज और तेज होती जा रही हैं। उसका दिमाग फटा जा रहा है। कुछ छूटने जा रहा है,ऐसा जो उसका है,सिर्फ उसका। ऐसा जो कभी महसूस नहीं किया लेकिन हमेशा उसके साथ था। ऐसा जिसे हमेशा मिस करेगा। हेड ऑफिसर की मीटिंग से मोस्ट। न्यूयॉर्क की फ्लाइट से मोस्ट। माइक्रोसॉफ्ट के ऑफिस से मोस्ट। प्रिया और उसकी फैमिली से मोस्ट। हमारी शादी से भी मोस्ट। माइक्रोसॉफ्ट के ऑफिस के बराबर तो प्रिया भी नहीं है तो आज क्या है जो धड़कनें बढ़ा रहा है ?क्या है जिससे नसें कुछ करना चाह रही हैँ ? ऐसा लग रहा है मानो पूरे शरीर में उबाल आ गया है। कुछ ऐसा जिससे खुश नहीं है वह। "इस शादी से खुश नहीं हूँ मैं"। विपिन के दिमाग में यही एक बात जाने कितनी बार घूम गई । उसने फटाफट एक कॉल किया।

अगले ही पल विपिन ने अपने आप को अंकिता के सामने पाया जो मंडप से कुछ ही कदमों की दूरी पर है। हॉल में हलचल हुई। लेकिन विपिन ने उस हलचल पर ध्यान न देकर अंकिता पर फोकस किया।

"विपिन हट जाओ,सभी देख रहे हैँ",अंकिता ने धीरे से कहा।

"देखने दो सभी को और सुनने भी दो,मुझे तुमसे कुछ कहना है सभी के सामने,"विपिन ने ऊँची आवाज में कहा।

न्यूयॉर्क में माइक्रोसॉफ्ट का ऑफिस शेयर करना विपिन का सपना है। अंकिता की शादी की खबर के बाद एक सपना उसे सोने नहीं देता। उस सपने में उसकी न्यूयॉर्क की फ्लाइट मिस हो जाती है। उस सपने ने विपिन को परेशान किया हुआ है। फ्लाइट मिस होने के डर से वह रात को सोता ही नहीं है। तब प्रिया उसे एक साइकैट्रिस के पास लेकर गई। साइकैट्रिस ने उसके केस की स्टडी की और जब विपिन ने उसे अपनी प्रेजेंट कंडीशन के बारे में बताया जो अंकिता को देखने पर हुई तब उसे सब समझ आ गया। उसने विपिन से कहा,"मिस्टर विपिन ,आर यू मैड ? वह जो आपको परेशान कर रही है वह अंकिता है न्यूयॉर्क की फ्लाइट नहीं। वह जिसे आप पाना चाहते हैँ अंकिता है माइक्रोसॉफ्ट का ऑफिस नहीं"।

और अब विपिन अंकिता के सामने है।

"कौन है ये लड़का ?हटाओ इसे। क्या बदतमीजी है ये "? सुशांत के डैड गुस्से में चिल्लाये। सुशान्त भी मंडप से खड़ा हो गया लेकिन उसने कुछ कहा नहीं बल्कि अपने डैड के कंधे पर हाथ रख कर चुप रहने का इशारा किया।

विपिन अपने घुटनों पर बैठ गया । अंकिता का चेहरा गुस्से व शर्म से लाल हो गया।

"अंकिता मैने कमरे में इतना कुछ कहा,तुम्हारा टेड्डी,एडथ क्लास की किस,सुशांत की पिटाई........................मुझे लगा ये सब फ्रेंड की तरह है,लेकिन नहीं। यह कुछ अलग है। समथिंग स्पेशल, हाँ अंकिता समथिंग स्पेशल। एक नया एहसास है यह जिसे मैं पहचान नहीं पाया। नहीं समझ पाया मैं। बुध्दू था ,नहीं बुध्दू हूँ, बेबकूफ , गधा, ईडियट सबकुछ हूँ मैं। नहीं समझ पाया कि तुमसे अलग वजूद ही नहीं है मेरा"। विपिन ने खुद को एक धौल जमाते हुए कहा।

"तुम तो बता सकती थी। तुम भी तो मुझसे...................... । जब इतनी बातें फोर्सली करवाती हो तो ये क्यों नहीं कहा। ये मत करो ,ये मत पहनो, ये मत खाओ, ये पियो,तब तो कुछ नहीं सोचती तो अब जबकि तुम्हें भी मुझसे................. । कहना तो चाहिए था कि विपिन मुझसे प्यार करो। आज तक कोई बात टाली है तुम्हारी । खेर जो हुआ उसे छोड़कर आगे बढ़ते हैँ । मैं अपनी पूरी जिंदगी तुम्हारे साथ बिताना चाहता हूँ। अगले जनम की तो पता नहीं लेकिन इस जनम में तो मैं तुम्हें खुश रखना चाहता हूँ। सॉरी अंकिता ,मेरी इतनी बड़ी गलती के लिए मुझे माफ़ कर दो प्लीज़। मैने तुम्हें इतना वेट कराया।

आई लव यू अंकिता,आई रियली लव यू। विल यू प्लीज़,प्लीज़ मैरी मी "? विपिन ने घुटनों पर बैठे-बैठै रोते हुए कहा।

अंकिता ने आंसुओं से भीगे चेहरे पर हलकी सी हंसी लाते हुए हाँ मैं सिर हिला दिया।

अंकिता के हाँ कहते ही विपिन ने खड़े होकर उसे बाँहों में भर लिया। आज कई दिनों बाद उसे न्यूयॉर्क की फ्लाइट मिस होने का डर नहीं है। उसे अपनी जिंदगी ,अपनी वैलेंटाइन मिल गई है।

 

सुमन त्यागी 'आकांक्षी'

मनियां,धौलपुर

राजस्थान

4 blogger-facebook:

  1. have u stole it from hindi film,nothing real but good and in flow.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहानी एक हसीं सपने की तरह प्रतीत होती है। लेकिन मैं समझ नहीं पाया की इस कहानी में मैं विपिन और अंकिता के लिए खुश होऊँ या सुशांत और प्रिया के लिए दुःखी। कहानी का अंत पूरा नहीं लगा। सुशांत और प्रिया की ज़िन्दगी ने क्या रुख लिया अगर ये भी इस कहानी में बताया जाता तो शायद कहानी में अधूरापन न लगता। खैर, ये मेरे व्यक्तिगत विचार हैं। बहरहाल,कहानी सुन्दर थी। जिस कहानी के पत्रों के साथ आप ऐसे जुड़ जाते हैं कि उनके लिए दुखी और खुश हों तो वो कहानी अच्छी होती है ये मेरा मानना है। और मैंने इस कहानी के पात्रों के साथ ऐसा पाया। बधाई स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------