मंगलवार, 31 मार्च 2015

हरदेव कृष्ण का आलेख - घास के जूते

आलेखः घास के जूते लेखकः हरदेव कृष्ण जानकारी का स्त्रोतः अखबार और प्रदर्शनियां   घास के जूते पैरों की हिफाजत के लिए जूते और चप्पलों का अविष्...

पुस्तक समीक्षा - जीवन का मूल स्वर है दर्द का कारवॉं

पुस्तक समीक्षा जीवन का मूल स्वर है दर्द का कारवॉं कुमार कृष्णन आम जीवन की बेबाकी से जिक्र करना और इसकी विसंगतियों की सारी परतें खोल देना यह...

तारकेश कुमार ओझा का हास्य व्यंग्य - बुढ़ौती में तीरथ

​हास्य - व्यंग्य ------------------- बुढ़ौती  में तीरथ... . !! ​ तारकेश कुमार ओझा कहते हैं कि अंग्रेजों ने जब रेलवे लाइनें बिछा कर उस प...

दीपक आचार्य का आलेख - संसार अच्छा न लगे तो छोड़ दें

संसार अच्छा न लगे तो छोड़ दें - डॉ. दीपक आचार्य 9413306077 dr.deepakaacharya@gmail.com बहुत सारे लोग ऎसे होते हैं जो हमेशा ही कहते रहे ...

सोमवार, 30 मार्च 2015

ज्ञान विज्ञान - हमें अपनी मानवीय जड़ों का कैसे पता चला?

हमें अपनी मानवीय जड़ों का कैसे पता चला? आइसक एसिमोव   हिन्दी अनुवाद : अरविन्द गुप्ता   1. पत्थर युग हमारे पूर्वज कौन थे? बाईबिल के अनुसा...

रवि श्रीवास्तव की कविताएँ

रवि श्रीवास्तव रायबरेली, उ.प्र. 9718895616, 9452500016 लेखक, कवि, व्यंग्यकार, कहानीकार   आख़िर खुदकुशी करते हैं क्यों ? जिंदगी जीने से ड...

समीक्षा - समकालीन स्त्री-विमर्श को डॉ. विनय कुमार पाठक का प्रदेय

समीक्षा समकालीन स्त्री-विमर्श को डॉ. विनय कुमार पाठक का प्रदेय (डॉ. दादू लाल जोशी के शोध प्रब्रंध की समीक्षा) इस शोध प्रबंध की समीक्षा, समाल...

हर्षद दवे का आलेख - वर्तन परिवर्तन - खुशी या तनाव

वर्तन परिवर्तन - हर्षद दवे. ख़ुशी या तनाव ? ‘आप के पास केवल पांच-दस मिनट बैठते हैं तो ‘बैटरी चार्ज’ हो जाती है!’ नरेश शाह और मेरे अन्य मि...

पाठकीय : रामजी मिश्र 'मित्र' - कान्हा की मुरली की दर्द भरी आवाज

सुबह सुबह मेले की ओर चल दिया। शिलापुर गाँव के मेले में बाइक खड़ी की और मेले का लुत्फ़ लेने लगा। मुझे शोर शराबे के बीच बांसुरी की मधुर ध्वनि स...

सूर्यकांत मिश्रा का आलेख - कीटनाशकों का अत्यधिक उपयोग है घातक

कीटनाशकों का अत्यधिक उपयोग है घातक बढ़ती जनसंख्या और घटती उत्पादन क्षमता ने हमें प्रसिद्ध अर्थशास्त्री मॉल्थस के जनसंख्या सिद्धांत की ओर पु...

दीपक आचार्य का आलेख - बातें छोड़ें, काम करें

आलेख (30 मार्च 2015 के लिए) बातें छोड़ें, काम करें आओ राजस्थान बनाएँ - डॉ. दीपक आचार्य 9413306077 dr.deepakaacharya@gmail.com रा...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------