गुरुवार, 19 मार्च 2015

दीप्ति गुप्ता का आलेख - फिल्म इंडस्ट्री का सामाजिक दायित्व

फिल्म इंडस्ट्री का सामाजिक दायित्व

~ डा. दीप्ति गुप्ता

image

जिस ‘समाज’ के प्रति ‘सामाजिक दायित्व’ की बात हम कर रहे हैं, उस ‘सामाजिक दायित्व’ को व्याख्यायित करने से पूर्व, एक बार यह आँक लेने की ज़रूरत है ‘समाज’ क्या है ? क्योंकि ‘सामाजिक दायित्व’ से पहले, ‘समाज’ अस्तित्व में आया I बड़े - बड़े समाजशास्त्रियों व विचारकों की सम्मति के अनुसार - ‘’जीवन सुचारू रूप से जीने के लिए, एक व्यवस्था को कायम करने हेतु, कुछ विशिष्ट ‘नैतिक एवं सामाजिक नियमों से अनुशासित व्यक्ति समूह’ समाज कहलाता है I ’मतलब कि सर्वसम्मति से बनाए गए सामाजिक नियमों में बंधा व्यक्ति समूह ही समाज होता है’I समूह तो जानवरों का भी होता है, पर उसे समाज नहीं कहा जाता I ये नैतिक, सामाजिक नियम, अनुशासन, व्यवस्था ही ‘सामाजिक दायित्व’ को जन्म देती है I जहां अराजकता, स्वछंदता होगी - वहाँ न किसी तरह का नियम होगा, न अनुशासन और जब नियम - अनुशासन नहीं होगा तो, व्यवस्था का प्रश्न ही नहीं उठता और इन सबके न होने से ‘सामाजिक दायित्व’ भी नहीं होगा I अगर आप गौर करें तो पाएगे की यह एक ‘इंटररिलेटेड श्रंखला’ है I लेकिन इसके विपरीत जहां नियम, अनुशासन, व्यवस्था होगी, वहाँ अनकहा ‘सामाजिक दायित्व’ निश्चित ही स्वत: अपने पाँव पसारेगा I जैसे रोपे गए पौधे के विकास व संवर्धन के लिए ज़रूरी है कि रोपने वाला व्यक्ति उसे नियम से सींचे, खाद दे, उसकी सफाई, निराई करे I रोपने वाले व्यक्ति का - रोपे गए पौधे के प्रति यह नैतिक दायित्व बनता है कि वह उसे जीवंत बनाए रखने के लिए, उसके लिए अपेक्षित बातों का ध्यान रखे I उसके प्रति अपनी जिम्मेदारी निबाहे I उसके लिए पौधा उससे कुछ नहीं कहता - व्यक्ति स्वयं ही अनकहे दायित्व से बंध जाता है I ठीक ऐसे ही, हम सब, हमें आश्रय देने वाले, सुरक्षा व सुविधाएं देने वाले समाज के प्रति, एक अनकहे दायित्व में बंधे होते हैं I

अब मैं ‘सामाजिक दायित्व’ को व्याख्यायित करूंगी I समाज के अस्तित्व में आने पर ‘सामाजिक दायित्व’ भी पनपा.‘अस्तित्व’ के साथ ‘दायित्व’ स्वाभाविक रूप से जुडा होता है I जैसा कि मैंने कहा कि जब हम किसी चीज़ को रचते है, बनाते हैं. तो उसकी देखभाल का, उसे स्वस्थ रखने का, उस हर तरह से विकसित करने का दायित्व भी हमारा ही होता है I चाहे वह नन्हा सा जन्मा शिशु हो या समाज I अतएव ‘’समाज की प्रत्येक इकाई यानी - मनुष्य, उसके द्वारा बनाई गई सामाजिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, शैक्षिक व राजनीतिक संगठन एवं संस्थाएं - उसे उन्नति की ओर ले जाए और उसे स्वस्थ से स्वस्थतर बना कर, उत्तरोत्तर रचनाशील और विकासशील बनाए I समाज को प्रेम, एकता व सद्भावना के सूत्र में बांधे - ये सब सामाजिक दायित्व के अंतर्गत आता है I मतलब कि समाज की भलाई का ध्यान रखना, उसके लिए समस्याएँ और खतरे खड़े न करना ‘सामाजिक दायित्व’ कहलाता है I

 

जब हम ‘सामाजिक दायित्व’ की बात करते हैं, तो इससे जुडा एक प्रश्न अपने आप ज़हन में आता है कि ‘सामाजिक दायित्व’ सामने आकर क्यों खडा होता है ? उसे वहन करना क्यों ज़रूरी है ? इसका सीधा सा उत्तर है – ‘समाज अर्थात ‘सभी व्यक्तियों’ की सुख-शान्ति एवं उत्तरोत्तर विकास व प्रगति के लिए’ और इसके लिए व्यवस्था और अनुशासन पहली शर्त है I व्यवस्था और अनुशासन - नैतिकता के अनुपालन से आती है, जीवन में उसे अधिकाधिक उतारने, अपनाने से आती है I व्यक्ति समाज की समस्त इकाईयों में सर्वोपरि है, सर्वोच्च है I अतएव समाज की देख-भाल का, उसे अखंडित बनाए रखने का, उसे अनवरत प्रगति और विकास की ओर अग्रसर करने का सबसे अधिक दायित्व मनुष्य पर है, तदनंतर उसके द्वारा विकसित संस्थाओं पर I समाज की संरचना करके, उसे अपने जीवन का आधार बनाने के कारण, समाज की सभी इकाईयों, सभी अंगों से अपेक्षा की जाती है कि वे समाज के विकास व उत्थान में अधिकतम सहायक हों I उनकी किसी भी गतिविधि और क्रिया कलाप से समाज खंडित न हो, उसका विकास अवरूध्द न हो, उस पर नकारात्मक प्रभाव न पड़े, उसमें विकृतियाँ न पनपे I यह ‘सामाजिक दायित्व’ सभी को वहन करना चाहिए I

 

        समाज की अन्य इकाईयों की तरह, ’फिल्म इंडस्ट्री’ भी समाज की एक महत्वपूर्ण इकाई है I फिल्म इंडस्ट्री और उसके द्वारा निर्मित फ़िल्में, समाज का ऐसा हिस्सा हैं जो अंतरंगता से समाज से जुड़ा होता है, क्योंकि फिल्म निर्माता, फिल्म बनाने के लिए कथा-सूत्र, समाज में जो उनके आसपास घट रहा है - वहीं से उठाते हैं I दूसरे शब्दों में हम कह सकते है कि फिल्मों में समाज अपनी संपन्न विविधताओं के साथ समाया होता है और इस प्रकार समाज फिल्मों के सृजन का एक अपरिहार्य आधार होता है I कहने की आवश्यकता नहीं कि जो ‘समाज’, फिल्म इंडस्ट्री और उसके द्वारा निर्मित फिल्मों का, प्रमुख आधार है, उस समाज के प्रति फिल्मों का गहन सामाजिक दायित्व बनता है और सामजिक ही नहीं, बल्कि नैतिक दायित्व भी बनता है I सो सामाजिक दायित्व से पहले, पहला तकाजा नैतिकता का है कि हर इकाई को चाहिए कि वह समाज के प्रति ‘सामाजिक दायित्व’ को तहे दिल से वहन करे I इस दृष्टि से नि:संदेह फिल्मों का ‘सामाजिक दायित्व’ है I इस दायित्व के तहत अपेक्षित है कि फ़िल्में अपनी कहानी व पात्रों के माध्यम से ऐसा सन्देश संप्रेषित करें जो समाज को स्वस्थ व सही दिशा दे, उसे बुराईयों, विकृतियों से दूर रखे, समाज की इकाईयों के बीच ईर्ष्या-द्वेष की दरारें पाटे, समाज में रहने वाले सभी लोगों की सद्भावनाएं जगाएं, उन्हें सह्रदय बनाए, उन्हें रचनात्मकता की ओर प्रेरित करे I

 

फ्रेंच फिल्म निर्माता एवं साहित्यकार Jean Cocteau ने ‘कलात्मक दृश्य विधा’ फिल्म के बारे में अपने विचार अभिव्यक्त करते हुए कहा था कि –

‘’फिल्म साहित्य है, फिल्म कला है, फिल्म जीवन है’’......... 

 

अपने में सब कुछ समेटे इस अर्थपूर्ण उक्ति के बाद और कुछ कहने की ज़रूरत नहीं रह जाती I नि:संदेह, जो भी निर्माता - निर्देशक विचारशील एवं संवेदनशील होगा, वह इस बात से पूरी तरह सहमत होगा कि फिल्म साहित्य, कला और जीवन है I फिल्म विधा – जिसमे साहित्य, कला और जीवन का संगम होता है, स्पंदन होता है वह, स्वत: ही सामाजिक दायित्व को गले से लगाकर चलती है I

 

किन्तु आजकल फिल्म निर्माता - निर्देशक इस दायित्व का निर्वाह नहीं कर रहें हैं I वे इस सदउद्देश्य से भटक गए है, विमुख हो गए है I वे समाज के प्रति अपने दायित्व को बिसार बैठे हैं, क्योंकि लगातार कई वर्षों से ऐसी फिल्में बन रहीं हैं, जो साहित्य, कला से बहुत दूर हैं I हाँ जीवन उनमे ज़रूर प्रतिबिंबित हो रहा है लेकिन आधा- अधूरा; यानी के जीवन के भोंडेपन और कलुष पक्ष तक ही आज के फिल्म निर्माता की दृष्टि सीमित है I उसके उजले पक्ष को देखने - समझने की या तो उसकी क्षमता नहीं है या मंशा नहीं है I यह एक बड़े खेद का विषय है I आज अधिकांशत: फिल्मों का न कोई लक्ष्य होता है और न उद्देश्य I आजकल हर दूसरी फिल्म लबालब हिंसा, सैक्स और षडयंत्र से भरी होती हैं I आज की फ़िल्में समाज पर निरंतर नकारात्मक प्रभाव छोड रही हैं I ‘तारे ज़मीन पर’ जैसी कभी कोई फिल्म भूले भटके बन जाती है तो आश्चर्य मिश्रित खुशी होती है I परिणाम स्वरूप समाज में विकृतियाँ और कुरूपताएं बढोतरी पर है I

‘किडनैप’ फिल्म को देखकर न जाने कितने मासूम बच्चे अपहरण का शिकार हुए, ‘बाजीगर’ देखकर अनेक नौजवानों ने दोहरे व्यक्तित्व को अपनाया और अपने निकटतम लोगों को, अपने द्वारा रचे षड़यंत्र का शिकार बनाया I ’जिस्म’ ने न जाने कितने पति पत्नियों के बीच दरार डाली I सुना गया कि ‘कभी अलविदा ना कहना’ देखकर न जाने कितने जोड़े, पिक्चर हाल से झगडते हुए, एक दूसरे के प्रति शक से भरे हुए निकले I इसी तरह, दिल्ली के ‘बटला हाउस’ की आतंकवादी वारदात काफी कुछ ‘वेन्सडे’ (Wednesday ) फिल्म से प्रेरित थी I पश्चिमी सभ्यता का फिल्मांकन करते हुए, रामगोपाल वर्मा ने ‘नि:शब्द’ बनाकर, अनेक अधेड़ों और बूढों के मन में किशोरियों से प्रेम करने की ‘विकृत लालसा’ जगा दी I इस फिल्म ने भारतीय सभ्यता और संस्कृति पर सीधा वार किया I शीर्षक जितना ख़ूबसूरत था, फिल्म उतनी ही बदसूरत और भोंडी लगी मुझे I बेटी की उम्र की किशोरी के मन में एक खासे बुज़ुर्ग पुरुष के लिए ‘औरत-मर्द’वाला प्यार कैसे उमड़ सकता है और परिपक्व उम्रदार बाप बराबर पुरुष भी एक किशोरी के नासमझ प्रेम में कैसे बहक सकता है - यह मेरी भारतीय संस्कारों से बुनी मानसिकता के लिए स्वीकार्य नहीं था I ऐसा ‘परवर्ट प्यार’ पश्चिमी सभ्यता में ही चल सकता है I भारत में ऐसा होने लगा तो, लोगो का रिश्तों पर से विश्वास उठ जाएगा I रामगोपाल वर्मा चाहते तो पश्चिमी सभ्यता के किसी श्रेष्ठ गुण को फिल्म की थीम बना सकते थे, लेकिन वर्मा जी ने पश्चिम के एक विकृत मनोभाव को फिल्म की थीम बनाया, जो वर्मा जी की परवर्ट मानसिकता का परिचायक है I क्या ऐसे निर्माता ‘सामाजिक दायित्व’ का निर्वाह कर रहें हैं ? जिस समाज में रह रहें है, वे उसी की जड़ें खोद रहे हैं I

            हर काल में समाज अच्छी-बुराई, उन्नति - अवनति के दौर से गुज़रता रहा है, क्योंकि यह सृष्टि का नियम है I इसी तरह, अच्छे - बुरे लोग हमें हर काल में, हर देश में मिलेगें I रामायण काल में रावण था, कैकेयी जैसी माँ थी, विभीषण था, शूर्पनखा थी I आज भी दोंनो कोटि के इंसान हैं हमारे चारों ओर I समाज में सब अच्छे ही अच्छे हों या बुरे ही बुरे हों, ऐसा कभी नहीं होता I शरीफ इंसान की अच्छाई तभी समझ में आती है, जब हमारा बुरे से वास्ता पड़े I तो अच्छाई को समझने के लिए, बुराई का अस्तित्व ज़रूरी है . जैसे सुख क्या होता है, यह जानने के लिए दुःख से गुजरना बहुत ज़रूरी है I इसलिए समाज में बुराईयों, नकारात्मक तत्वों के न होने की बात करना - सच्चाई से मुंह मोडना होगा I वे तो समाज में अवश्य होंगे प्रकृति के नियम के अनुसार, पर उन्हें केन्द्र में न रख कर, हाशिए पे रखना - यह काम है सामाजिक दायित्व निबाहने वालों का और इस समय चर्चित सन्दर्भ में फिल्म बनाने वालों का I

पिछ्ले कुछ वर्षों से हमारे समाज का संक्रमण काल चल रहा है - एक तो वह स्वयं तरह तरह के अपराधों के दौर से गुज़र रहा है, ऊपर से निर्माता विकृतियों से भरपूर फिल्म बना कर, उसे और अधिक उदभ्रांत कर रहे हैं I क्या इस तरह वे समाज के प्रति अपना फ़र्ज़ निबाह रहे हैं ? ‘परिवर्तन’ विकासशील समाज का एक सहज नियम होता है. अच्छे के बाद बुरा, बुरे के बाद अच्छा - इस चक्र में समाज संसृत होता रहता है I जैसा कि मैंने कहा कि आजकल समाज का नकारात्मक पक्ष उदीयमान है I विकृतियाँ अपने चरम पे हैं, संवेदनाएं मरी हुई हैं, कठोरता स्पंदित हैं, भावनाएं दबी हुई है, व्यावहारिकता अत्यधिक उभरी हुई है I २१वी सदी के इस ‘अमावसी पक्ष’ में समाज रफ़्तार से प्रतिकूल दिशा में अग्रसर है - उदारता से अनुदारता की ओर, उदात्तता से अनुदात्तता की ओर, ऊपर से उद्देश्य विहीन, सकारात्मकता से रहित फ़िल्में आग में घी डालने का काम कर रहीं हैं I आज के विपरीत समय में तो फिल्मों को अपने दायित्व के प्रति और अधिक सजग एवं संवेदनशील होना चाहिए I लेकिन निर्माता - निर्देशक फिल्म के सकारात्मक सन्देश को केंद्रित करने के बजाय, उससे अर्जित होने वाले धन एवं बाक्स आफिस सफलता को अधिक फोकस करने में लगे हैं, फिल्म को लक्ष्यहीन और संदेशविहींन बनाकर समाज को मात्र स्वार्थ, हिंसा. सैक्स, धोखा-धडी, मार-काट, की अमानवीय प्रेरणा देते नज़र आते हैं I कभी -कभी भूले भटके, कुछ निर्माता - निर्देशक उत्तम लक्ष्य को लेकर चलते भी हैं, तो वे अंत तक पहुँचते-पहुँचते, लक्ष्य को भूल कर, खुद अर्थोपार्जन और बाक्स आफिस सफलता की बलि चढ़ जाते हैं I

समय के साथ फिल्म निर्माण के बदलते सरोकार आज समाज के अस्तित्व के लिए एक चेतावनी बन गए हैं I बदलाव यदि सकारात्मक हो तो श्लाघ्य होता है, स्वागत योग्य होता है, लेकिन यदि नकारात्मक हो, विद्रूप हो, तो शोचनीय होता है, तिरस्कार योग्य होता है I आज प्रतिकूल दिशा में जाते समाज को, संकल्प के साथ सही दिशा की ओर मोड देने की ज़रूरत सब महसूस कर रहें हैं I यह एक निर्विवाद सत्य है कि इंसान बुराइयों की ओर आसानी से खिचा चला जाता है I अतएव इस इंसानी फितरत और मनोवैज्ञानिक तथ्य को ध्यान में रखते हुए, समाज की भलाई व अखण्डता का ख्याल करते हुए, फिल्म अंत तक पहुचते - पहुचते यदि सकारात्मक सोच, सकारात्मक दृष्टिकोण दर्शकों को दे, तो यह समूचे समाज, समूची मानव जाति के हित में होगा I यह बात निर्माता - निर्देशकों को दिलों-दिमाग में संजोनी होगी, तभी वे समाज के प्रति अपना दायित्व सही तरह से निभा सकेगें I ऐसे संकट के समय में समाज की अन्य इकाईयों के साथ, फिल्मों का भी नैतिक और सामाजिक दायित्व बनता है कि समाज जैसा है, उसे वैसा चित्रित करने के साथ साथ, समाज को कैसा होना चाहिए - यह भी चित्रित करें I आज निर्माता - निर्देशकों को चाहिए कि वे मानवीय सन्देश से रची बसी फ़िल्में बना कर, समाज में खोए मूल्यों को पुनर्स्थापित करे और उसे ह्रास व पतन की ओर जाने से बचाएं I यह जितना समाज के हित में है, उतना ही खुद फिल्म के भी हित है क्योंकि श्रेष्ठ फ़िल्में लंबे समय तक सराही जाती हैं, याद रखी जाती है, दिलो-दिमाग में बनी रहने के कारण कालजयी हो जाती हैं I

आजकल के निर्माता- निर्देशक सामाजिक दायित्व को भूल गए हैं I मैं सोचती हूँ कि यह आलेख मात्र हिन्दी फिल्मों के सन्दर्भ में ही नहीं है, अपितु सामान्यरूप से किसी भी भाषा, किसी भी देश में निर्मित होने वाली ‘फिल्मों के लिए है !

 

समाज को हर तरह से जागरूक बनाने वाली, उसे सही दिशा देने वाली फिल्मों के सन्दर्भ में, मैं पिछली सदी की फिल्मों का ज़िक्र करना चाहूंगी जिन्होंने समाज की सुगठित बुनावट में, उसकी प्रगति और सकारात्मक परिवर्तन में बखूबी योगदान किया I पहले के निर्माता – निर्देशक सुन्दर सकारात्मक सन्देश से पूर्ण फ़िल्में बनाया करते थे I जैसे – मदर इण्डिया, अछूत कन्या, देवदास, जागते रहो, बूट पालिश, कागज़ के फूल, सुजाता, गर्म हवा, सीमा, बंदिनी, तेरी सूरत मेरी आँखें, पतिता, अनपढ़, ममता, दोस्ती, मेरे अपने, खुशबू, आनंद, खामोशी, अंकुर, निशांत, मंथन, दिल एक मंदिर, मै चुप रहूंगी, संगम, कोरा कागज़, पवित्र पापी, बंगला की शाखा प्रशाखा, गणशत्रु, आगंतुक, अपु ट्रीलोजी और भी न जाने ऎसी कितनी फ़िल्में हैं, जो दर्शकों की संवेदनाओं को, मानवीय भावों को स्पंदित कर, उनके दिलों दिमाग पर एक अमिट छाप छोडती थीं I मिडिल सिनेमा के ‘पाइनियर निर्माता-निदेशक श्याम बेनेगल’ की प्रख्यात फ़िल्में, ‘अंकुर’ आर्थिक और यौन शोषण, ‘निशांत’ समाज के ज़मींदार वर्ग के अत्याचार व अन्याय एवं सरकारी भ्रष्ट व्यवस्था का खुलासा करके, उस तरह के शोषण के प्रति समाज को जागरूक बनाने वाली संदेशपरक फ़िल्में थी तो ‘मंथन’ गुजरात की ‘मिल्क डेरी इंडस्ट्री’ की पृष्ठभूमि पर आधारित भारत जैसे कृषि प्रधान देश को ‘’ग्राम सशक्तिकरण’’ के लिए उत्प्रेरित करने वाली श्रेष्ठ फिल्म थी जो लोगो के दिल में जगह बनाकर कालजयी हो गई I

यहाँ यदि विश्व प्रख्यात निर्माता-निर्देशक ‘सत्यजित रे’ जिन्हें दुनिया के ‘’सर्वोच्च दस निदेशकों’ की सम्माननीय श्रेणी में रखा गया, फिल्मी दुनिया की ऎसी महान विभूति, जिन्होंने अपनी उत्कृष्ट रचनाशीलता से अपु ट्रीलोजी, शाखा प्रशाखा, गणशत्रु, आगंतुक, आदि क्लासिक फिल्मों के माध्यम से, अपनी अनूठी शैली के द्वारा, आज़ाद भारत की आर्थिक - सामाजिक संकट, शहरी संस्कृति की अंतर्दृष्टि, बदलते मूल्यों, लोभ-लालच, धार्मिक कट्टरता, पर्यावरण प्रदूषण आदि का खरा अंकन करके, मानवीय मूल्यों को दर्शकों की संवेदनाओं के साथ इस तरह एकाकार किया, फिल्मों में समाज और संस्कृति को ऎसी चुम्बकीय पकड़ के साथ चित्रित किया कि समाज फिल्मों के साथ सकारात्मक रूप से आत्मसात होकर दर्शकों के सामने आया और इस तरह की उत्तम प्रस्तुति ने दर्शकों पर अमिट छाप छोडी I समाज और फिल्मों को परस्पर रचनात्मकता के साथ जोडने के कारण ही उनकी फिल्म प्रस्तुति में एक यूनिवर्सल अपील थी, जिसके कारण वे न केवल भारत में, अपितु पाश्चात्य फिल्म निर्माता, निर्देशकों और फिल्म समीक्षकों द्वारा भी बेहद सराही गई I Andrew Robinson ने उन्हें ‘बंगाली बर्गमैन’ (Bergman) और European फिल्म निर्माता ‘ Renoir ‘ का अवतार कहा I उनकी अदभुत प्रतिभा पे मुग्ध होकर ही जापानी फिल्म निर्माता Akiro Kurosawa ने कहा था –

‘’सत्यजित रे की फ़िल्मों को देखे बिना रहना, सूरज और चाँद विहीन अंधेरी दुनिया में रहने के सामान है I‘’

ये वे निर्माता निदेशक थे, जिनकी फ़िल्में संस्कृति और कला,जीवन और समाज का अद्भुत संगम होती थीं I सत्यजित रे, बेनेगल, मृणाल सेन, अपने समय की सांस्कृतिक विरासत की उपज थे I इनकी फिल्मों की ध्वनि वामपंथी थी जो समाज की रूढ़ कुप्रथाओं को सहज ही ललकारती थी I

इसी तरह एकेडेमी अवार्ड से सम्मानित, महिला निदेशक, Kathryn Bigelow की बहुचर्चित अमरीकन फीचर फिल्म ‘The Hurt Locker’ ईराक युध्द की विभीषिका के उलझे सूत्रों के अंदर छुपी मानवीय संवेदनाओं का राज़ खोलती, जीवन और इंसानी स्वभाव के कोमल तारों से जुडी ऎसी फिल्म है, जो युध्द की मारकाट, हिंसा, खून खराबे को दिन रात झेलते सैनिकों के सारपूर्ण मनोविज्ञान और नैतिक टकराव व उलझनों को खूबसूरती से प्रस्तुत करती है I युध्द के समय अमानवीय होकर दुश्मनॉ को मारने वाले सैनिक के खुरदुरे व्यक्तित्व के अंदर भी एक आम आदमी जैसा धडकता दिल छुपा होता है, जो युध्द की हिंसा से ऊब कर अपनी पत्नी और बच्चे के पास लौट जाने की व्याकुलता से किस तरह गुजरता है – इसका अनूठा अंकन करती है I

 

अभी कुछ समय पहले रिलीज हुई निदेशक James Cameron की एक श्रेष्ठ फिल्म ‘Avatar वर्तमान परिदृश्य के एक अति महत्वपूर्ण मुद्दे को लेकर बनाई गई है I आज ‘विज्ञान और तकनीक के अतिवाद’ के युग में तकनीकि मद में चूर कुछ लोग सिर्फ अपने सुख और स्वार्थ के लिए धरती पर पेड़ों और हरियाली को खत्म कर, स्वस्थ पर्यावरण को किस तरह उजाड बनाते जा रहे हैं, तकनीकि विकास किस तरह प्राकृतिक खजाने को निगलता जा रहा है, और इस कारण से मनुष्य से लेकर अन्य सब प्राणियों के लिए भयावह खतरे मशरूमी उपज की तरह फैलते जा रहें हैं – यह गंभीर सच्चाई दर्शकों के सामने प्रस्तुत कर, यह फिल्म उन्हें इस विनाशलीला को रोकने का उदात्त संदेश देती है I आज के समय में ऎसी फ़िल्मों को तथा अंतर्मन में खलबली मचा देने वाली बीते समय की फिल्मों को देख कर, दर्शक भाव विह्वल हुए, फिल्म के उदात्त सन्देश को आत्मसात किए हुए, पिक्चर हाल से उठते हैं I ऎसी फ़िल्में बहुत दिनों तक दिलो-दिमाग में छाई रहती हैं I वे फिल्म के चरित्रों से खुद को आइडेंटीफाई करते हैं I पहली फ़िल्में दर्शकों को, रिश्तों के प्रति, समाज के प्रति, कर्तव्यों के प्रति संवेदनात्मक रूप से प्रेरित करती थीं, आंदोलित करती थीं I फिल्मों का भावनात्मक प्रभाव क्षणिक नहीं, वरन स्थायी और व्यक्तित्व परिवर्तन करने वाला होता था, इंसानियत को मुखरित करने वाला होता था I आज संवेदनात्मक रूप से प्रभावी फिल्मों की सख्त ज़रूरत है I

 

              पिछले कुछ वर्षों से निर्माता और निर्देशक सामाजिक सन्देश से रहित, उद्देश्यविहीन व ‘यथार्थ के घिसे-पिटे सांचे में ढली’ फ़िल्में दर्शकों को दे रहें हैं ! पहले ‘निखालिस मनोरंजन’ को फिल्मों का ध्येय समझने के कारण, फिल्म निर्माता-निर्देशक जैसे एस.एस. वासन, सन्देश रहित फ़िल्में बनाते थे I लेकिन शनै: शनै: वे फिल्मों की क्षमता और विस्तार को समझे और उन्होंने समाज में व्याप्त कुरीतियों को दूर करने की भावना से, उनके प्रति दर्शकों को सजग करने का और उनकी जगह अच्छाईयों को स्थापित करने का सराहनीय कार्य फिल्मों के माध्यम से किया I सत्यजित रे, गुरुदत्त, राज कपूर, मृणाल सेन, श्याम बेनेगल जैसे हमारे पहले निर्माता समाज में जो छुआछूत, ग़रीबों के साथ अन्याय आदि दिखाई देता था, उस यथार्थ का फिल्मांकन ज़रूर करते थे, लेकिन उसकी जगह क्या समाज में होना चाहिए, अच्छाईयों को स्वीकारने के साहस का बीज लोगो के दिलों में रोपना, भेदभाव को दूर कर, दूसरों को गले लगाना, वगैरा वगैरा उत्तम सन्देश भी साथ साथ अंत में देते थे I इस तरह फिल्म अपने में सम्पूर्ण होती थी I

 

आज क्या है कि निर्माता-निर्देशक समाज के यथार्थ का तो फिल्मांकन कर देते हैं, लेकिन उस कुरूप यथार्थ से समाज को कैसे बचाया जाए, यह न दिखा कर, फिल्म से धन कमाने के चक्कर में भडकाऊ नाच, गाने भर कर, यथार्थ को और ‘लाउड’ कर देते हैं I उसे ‘सबड्यूड’ करके मानवीय सन्देश नहीं देते I सन्देश के बिना एक पक्षीय होकर फिल्म ‘सम्पूर्णता’ को प्राप्त नहीं होती I जबकि आजकल समाज को सीख देने की, विकट समस्याओं के समाधान देने की सख्त ज़रूरत है, क्योंकि जैसा मैंने ऊपर वाले प्रश्न के उत्तर में कहा कि परिवर्तन चक्र के तहत आजकल समाज का अन्धेरा पक्ष चल रहा है I समाज में जिस ओर भी नज़र डालो, बस, सब कुछ अमानवीय, कुरूप और विद्रूप ही सामने आ रहा है I ईमानदारी, करूणा, सहानुभूति, सच्चाई, प्रेम - ये उत्तम भाव ‘डाइल्यूट’ हो गए है. जैसे खाने की चीजों में मिलावट हो रही है, उसी तरह इन भावों में भी इतनी मिलावट हो गई है कि पता ही नहीं चलता कि सामने वाला जो प्यार और सहानुभूति जता रहा है, वह सच्ची, खरी है या मिलावटी, बनावटी ?? इस बदलाव के प्रकोप से फिल्में भी नहीं बच पाई हैं I

इस संक्रांति काल में निर्माता-निर्देशकों को खास सावधानी रखने की ज़रूरत है I उन्हें चाहिए कि वे अंधकार में डूबे समाज को उजाले की ओर ले जाने की ‘प्राथमिक’ ज़रूरत को समझे और ऎसी फ़िल्में बनाए जो समाज को नकारात्मकता से उबारें, उसे सम्हाले, उसका सहारा बनें I चूंकि फिल्मों का प्रभाव बड़ा त्वरित और गहरा होता है, तो निर्माता-निर्देशक, आजकल तेज़ी से विकृतियों की ओर करवट लेती परिस्थितियों से प्रभावित हुए बिना, ऎसी अर्थपूर्ण और असरदार फ़िल्में बनाए जो दर्शकों की, समाज की, अच्छाईयों को जगाएं I मूल्यों को फिर से जीवित करें I मानवता को रुग्ण न होने दे I समाज व मानवता के हित में, इनके उत्थान में - फिल्मों का यह एक बहुत बड़ा योगदन होगा I यदि इस संक्रांति युग में निर्माता-निर्देशक अपने दायित्व के प्रति सचेत नहीं होते है - तो फिर समाज के ‘चिंतनशील जागरूक वर्ग’ को अपसंस्कृत फिल्मों का कडा विरोध करते हुए, उनके निर्माण के खिलाफ जंग छेडनी होगी, वरना समाज को पतन के गर्त में जाते देर नहीं लगेगी I जब समझाने पर भी कोई अपने दायित्व की धज्जियां उडाए, तो फिर मजबूर होकर ऐसे कर्तव्य विमुख और विचारहीन इकाईयों की ही धज्जियां उडानी पडती है, क्योंकि जो व्यक्तिगत स्वार्थों के लिए, धनोपार्जन और बाक्स आफिस पर ‘वाह – वाही’ के लिए, समाज के अस्तित्व को संकट में डाले, उसकी प्रगति और विकास के प्रति उदासीन हो, वह ताडना के योग्य होता है I उस पर पाबंदी लगाना ‘मानवीय कर्त्तव्य’ बन जाता है I

             मैं इस बात से पूरा वास्ता रखती हूँ कि निदेशन-कला कि यह खूबी होनी चाहिए कि ‘यथार्थ’ जैसा कि हम सब जानते हैं - हमेशा से नंगा, कलुष और निकृष्ट होता है - फिल्मों में उसे चित्रित कर, उसके कुपरिणामों को दर्शित किया जाना चाहिए, फिर ‘आदर्श’ को - जो हमेशा से उदात्त, स्वच्छ और उजला होता है - प्रस्तुत करके, उसका भव्य सन्देश दर्शकों को, समाज को दिया जाना चाहिए I मतलब कि आदर्शवादी यथार्थ का चित्रण फिल्मों में हो I ईमानदारी के साथ, तथ्यों की तर्कपूर्ण और मूल्यपरक प्रस्तुति, हमेशा दर्शको द्वारा ह्रदय से ग्राह्य होती है I वे उसे अपनाते है, जीवन में उतारते है I हाल ही में राजकुमार हीरानी की फिल्म ‘लगे रहो मुन्नाभाई’ को जनता के हर तबके ने सराहा, अपनाया I लोगों ने उससे प्रेरित होकर गांधी कैप लगा कर, भीड़ भरे चौराहों पे गुलाब के फूल लिए, खड़े होकर जनता को ट्रैफिक के नियमों के अनुपालन के लिए विनम्रता से प्रेरित किया I

सबने गांधीगिरी करनेवाले लोगों के इस कदम की सराहना करी I लोगों पर इस फिल्म का बहुत सकारात्मक प्रभाव पड़ा I खोए हुए मूल्य काफी हद तक पुनर्जीवित हो उठे I तो यह तर्क देना कि जो समाज में घट रहा है, फिल्म में वो ही तो पेश किया जाएगा - यह एक ‘लेम एक्स्क्यूज’ है I ’आदर्श’ कोई काल्पनिक चीज़ नहीं है I जीवन में, समाज में पहले आदर्श ही उतरे, प्रेम, दया,करूणा, अपनापन पहले आया, ईर्ष्या द्वेष बाद में आया I तो जो सहज गुण हम धरती पे लेकर उतरे, बदलते समय की भागमभाग में पीछे छूटे, उन सलोने गुणों को, मानव प्रवृतियों को खोजना, पुनर्जीवित करना किसी भी कलात्मक, रचनात्मक, सृजनात्मक संस्था का ध्येय होना चाहिए I फिल्म संस्थान चूंकि कलात्मक, सृजनात्मक - रचनात्मक होता है, इसलिए उससे निकली फ़िल्में भी रचनात्मक संदेश से भरी होनी चाहिए I तो फ़िल्में सृजनात्मक बने, विध्वंसात्मक नहीं I

सांस्कृतिक, धार्मिक, शैक्षिक व राजनीतिक संगठन एवं संस्थाएं हों या फिल्म संस्थान हो, व्यक्ति हो या व्यक्तियों का समूह हो - इनमें से एक भी इकाई यदि विकृत होती है, प्रदूषित होती है और समय रहते यदि उसके प्रदूषण का, विकृति का निदान न निकाला जाए, तो यह नासूर बन समाज को तबाह कर देती है I अतएव जिस समाज पर हम मूलभूत ज़रूरतों, छोटी-बड़ी सुख - सुविधाओं के लिए निर्भर करते हैं, तो बदले में हमारा भी फ़र्ज़ बनता है कि समाज को विकृतियों और हर तरह की रुग्णता से बचाएं I समाज को स्वच्छ व स्वस्थ रखना किसी मिशन से कम नहीं I समाज के प्रत्येक अंग को समाज के प्रति अपना भरपूर दायित्व निबाहना चाहिए I जैसे हर रोज़ हम घर की सफाई करते हैं, उसी तरह हर पल, हर क्षण हमें समाज की स्वच्छता व सुंदरता का ध्यान रखना चाहिए I उसे बेहतर से बेहतर बनाना चाहिए I

 

यहाँ कुछ लोग यह आपत्ति कर सकते हैं, कुतर्क कर सकते हैं कि अच्छे-बुरे काम को लेकर रोक-टोक लगाना - व्यक्तिगत आजादी का हनन है I ऐसे लोगों से मेरा निवेदन है कि व्यक्तिगत स्वतंत्रता का तात्पर्य ‘अराजक’ होना नहीं है I ये भ्रांतियां अदूरदर्शी लोगों को अपने दिलो-दिमाग से निकाल देनी चाहिए कि ‘स्वतंत्रता’ का अर्थ ‘मनमानी’ करना होता है I नैतिक नियमों और सामाजिक सुव्यवस्था को मद्दे नज़र रखते हुए, सभी पर समान रूप से लागू सीमाओं को, आज़ादी के नाम पर तोडना, असामाजिक तत्वों का और अपने स्वार्थों को उपरत लोगों का काम होता है I ऐसे लोग समाज के ‘मित्र’ नहीं वरन ‘शत्रु’ होते हैं, जो समाज को अपनी असभ्य, असंस्कृत क्रिया कलापों से खंडित किया करते हैं I फिल्म निर्माण तो वैसे भी एक ख़ूबसूरत ‘दृश्य कला’ है, तो कला को तो सौंदर्य, सौहार्द, सुख-चैन का, मूल्यों का, संस्कारों का वाहक होना चाहिए, न कि विकृतियों और विद्रूपताओं का I फिल्मों को समाज में झाड - झंखाड़ों की तरह जब तब उग आने वाली कुरूपताओं का उन्मूलन कर, सुन्दर विचारों, सुन्दर भावों का आधान करना चाहिए I ‘रजत पट’ तभी सच्चे अर्थों में ‘रजत’ सिध्द होगा I

 

‘सिल्वर स्क्रीन’ के ‘डार्क स्क्रीन’ बनने से, निश्चित ही उसकी काली छाया समाज पर पड़ेगी I अतएव फ़िल्में समाज को रजत जैसा उजला व निर्मल बनाएँ और उसके विकास और प्रगति की एक महत्वपूर्ण इकाई बनें I

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------