शनिवार, 21 मार्च 2015

गोवर्धन यादव का आलेख - विलुप्त होती गौरैया

clip_image002

विलुप्त होती जा रही गौरैया

आप ऊपर जो चित्र देख रहे हैं,वह गौरैया का है. एक नन्हीं सी, भूरे रंग की, छोटे-छोटे पंखों वाली, पीली सी चोंच लिए, 14से 16 से.मी लंबी इस चिडिया को आप अपने घर के आसपास मंडराते देख सकते हैं. इसे हर तरह की जलवायु पसंद है. गाँवों- कस्बों-शहरों और खेतों के आसपास यह बहुतायत से पायी जाती है. नर गौरैया के सिए का ऊपरी भाग, नीचे का भाग तथा गालों का रंग भूरा होता है. गला.चोंच और आँखों पर काला रंग होता है. जबकि मादा चिडिया के सिर और गले पर भूरा रंग नहीं होता. लोग इन्हें चिडा-चिडिया भी कहते हैं.

यह निहायत ही घरेलू किस्म का पक्षी है, जो यूरोप और एशिया में सामान्य रुप से पाया जाता है. मनुष्य जहाँ-जहाँ भी गया, इस पक्षी ने उसका अनुसरण किया. उन्हीं के घरों के छप्परों में घोंसला बनाया और रहने लगा. इस तरह यह अफ़्रीका,यूरोप, आस्ट्रेलिया और एशिया में सामान्यतया पाया जाने लगा.

इस पक्षी की मुख्य छः प्रजातियां पायी जाती है. हाउस स्पेरो माने घरेलू चिडिया, स्पेनिश स्पेरो, सिंड स्पेरो, रसेट स्पेरो, डॆड सी स्पेरो और ट्री स्पेरो.

clip_image004 clip_image006

 clip_image008 clip_image010

clip_image012 clip_image014 clip_image016

चित्र –ऊपर दांए से बांए (१)(२) घरेलू चिडिया (३) स्पेनिश (४) सिंड (५) रसेट (६) डॆड सी (७) ट्री स्पेरो.

इसके अलावा विश्व में अलग-अलग रंगों की चिडिया पायी जाती है.

clip_image018 clip_image020 clip_image022

clip_image024 clip_image026

इटालियन स्पेरो सोमाली स्पेरो प्लेनबैकड स्पैरो लागो स्पेरो सुडान गोल्डन स्स्पेरो

clip_image028 clip_image030

 clip_image031 clip_image033 clip_image035

ग्रेट स्पेरो. किनिया स्पेरो डार्क आइड जंको सांग स्पेरो अमेरिकल ट्री स्पेरो

clip_image037 clip_image039 clip_image041

 clip_image043clip_image045

लार्क स्पेरो व्हाईट क्राउण्ड स्पेरो व्हाईट थ्रोटेड स्पेरो ब्लैकविंग स्पेरो यलो थ्रोटॆड स्पेरो

इनके अलावा सोमाली, पिंक बैक्ड, लागो, शेली, स्कोट्रा, कुरी, कैप, नार्दन ग्रे हैडॆड, स्वैनसन, स्वाहिल, डॆहर्ट, सुडान गोल्ड, अरैबियन गोल्ड,चेस्टनट आदि चिडिया विभिन्न देशों में पायी जाती है. इनके रंग-रुप-आकार- प्रकार देश-प्रदेश की जलवायु के अनुसार परिवर्तित हुए हैं.

बच्चों,

यहाँ एक बात बतलाना मैं आवश्यक समझता हूँ कि सबसे पहले ईश्वर ने पूरी सृष्टि के निर्माण के साथ ही इस धरती को भी बनाया. इसके बाद पेड-पौधे लगाए, फ़िर असंख्य जीवजंतु-पक्षी-पखेरु उत्पन्न किए. बादल-बिजली-पानी वे पहले ही बना चुके थे. वे जानते थे कि कितना भू-भाग छोडा जाए कितना नहीं. उन्होंने एक भाग धरती, और शेष तीन भाग पानी से भर दिए ताकि किसी जीव-जंतु को कमी न महसूस हो सके. धरती का खूब साज-सिंगार करने के बाद उन्होंने मानव की उत्पत्ति की.

ईश्वर जानते थे मनुष्य की फ़ितरत को और उसकी नेक-नियति को भी. दिमाक का उपयोग करने वाला वह पहला प्राणी था. वे यह भी जानते थे कि एक दिन वह धरती में छॆद कर पाताल तक जा पहुँचेगा. समुद्र को चीर कर नागलोक तक और आसमान में सुराग कर स्वर्ग-लोक तक जा धमकेगा और उसे धता बताने लगेगा..जहाँ एक ओर वह साइंस और टेक्नोलाजी में परचम लहराकर अपनी बुद्धि कौशल्य से नयी-नयी इबारतें भी लिखेगा और एक दिन विनाश का कारण भी बनेगा.

मनुष्य के द्वारा निर्मित हर चीज कितना गहरा असर जन-जीवन पर डाल रही है, इसका अन्दाजा तो आप स्वयं लगा सकते हैं. बढती आधुनिकता और गगनचुंबी इमारतों,चिमनियों से निकलता जहरीला धुँआ,खेत-खलियानों में जहरीली रासायनिक खादों और कटते पेडॊं ने इन पखेरुओं का जीना हराम कर दिया है. अब तो शहरों और महानगरों में जगह-जगह खडॆ होते जा रहे मोबाईल टावरों से निकलने वालॊ तरंगों ने, न सिर्फ़ इन पर गहरा असार डाला है बल्कि इनके प्रजनन पर भी विपरीत असर डाला है. इसका दुषपरिणाम आज देखने को मिल रहा है कि हमारे घर-आंगन में चहकने वाली गौरैया अब ढूँढे नही मिल रही है. गौरैया को घास के बीज काफ़ी पसंद होते हैं जो शहरों की अपेक्षा ग्रामीन क्षेत्रों में आसानी से मिल जाया करते थे, लेकिन कांक्रीट के फ़ैलते जंगल से इनका भोजन भी छीन लिया है. प्रदुषण और विकिरण की वजह से तापमान के बढते ग्राफ़ को आप देख ही रहे हैं शायद यही कारण है कि आज ईश्वर के द्वारा बनाई गई इस सुन्दर कृति का तेजी के साथ सफ़ाया हो रहा है.

खतरे में है यह खजाना

दुख इस बात का है कि प्रकृति प्रदत्त यह खजाना अब खतरे में पड गया है. देखते ही देखते अनेक प्रजातियां विलुप्त होती जा रही हैं. वह समय भी नजदीक आन पडा है जब हमारी संताने पढा करेंगी कि जीव-जंतुओं में फ़लां-फ़लां जीव भी हुआ करते थे, पर अब वे नहीं है.

अतः इन रंग-बिरंगी चिडियों की रक्षा के लिए जो प्रयास किए जाएं उसमें जन-सामान्य, राजनैतिक, प्रशासन, युवा, गामीण, शहरी विशेषकर बच्चों को सहयोग देना होगा ताकि प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने के लिए लिए प्रयास सार्थक सिद्ध हो सकें. इन प्राणियों की सुरक्षा में ही मानव की सुरक्षा निहित है.

clip_image046

--

 

..

गोवर्धन यादव

103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-246651,9424356400

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------