सोमवार, 20 अप्रैल 2015

हिंदी समाज को अरविंद कुमार का कृतज्ञ होना चाहिए कि उन्होँ ने ऐसा अद्भुत कोश बनाया

अशोक वाजपेयी

clip_image002

अशोक वाजपेयी

बरसोँ से हम हिंदी लेखक फ़ादर कामिल बुल्के के अँगरेजी-हिंदी कोश को ही प्रामाणिक मान कर उस की सहायता लेते रहे हैँ. कई बार उस मेँ सटीक पर्याय नहीँ भी मिलते, पर कुल मिला कर वह बड़ा मददगार कोश रहा है. इधर अरविंद लिंग्विस्टिक्स प्रा. लि. द्वारा अरविंद वर्ड पावर: इंग्लिश-हिंदी डिक्शनरी नाम से 1360 पृष्ठोँ का हाथ लगा, जिसे कोश निर्माण मेँ दशकों से लगे पचासी-वर्षीय लेखक संपादक कोशकार अरविंद कुमार ने बिना किसी संस्था की मदद से विशुद्ध स्वाध्याय और श्रद्धानुराग से बनाया है. इस कोश मेँ (वह निश्चय ही अपने ढंग का एक क्लासिक है) 6,70,000 से अधिक शब्द हैँ. पर्यायवाची और विपर्यायवाची शब्द भी दोनोँ भाषाओँ में साथ साथ दिए गए हैँ. लगभग पचास हज़ार समान और ग्यारह हज़ार प्रतिकूल अवधारणाएँ भी दी गई हैँ. कोश भारतीय सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन और अवधारणाओँ को यथास्थान शामिल कर बनाया गया है. और इस अर्थ मेँ भारत-केंद्रित है. यह समावेशिता, वह भी कोश मेँ, मेरे जाने अभूतपूर्व है. योँ तो गहरे और लंबे इतिहासबोध से संपन्न नामवर सिंह हर वर्ष पाँच सात पुस्तकोँ पत्रिकाओँ को ऐतिहासिक क़रार देते हैँ. पर मेरी राय मेँ, अरविंद कुमार का यह सुशोभित-सुरचित कोश निश्चय ही हमारी भाषा के लिए एक ऐतिहासिक घटना है. हिंदी समाज को अरविंद कुमार का कृतज्ञ होना चाहिए कि उन्होँ ने ऐसा अद्भुत कोश बनाया है.

clip_image004इस कोश का एक उल्लेखनीय पक्ष यह है कि इस मेँ बोलचाल मेँ प्रचलित बोलियोँ से आए शब्दोँ को भी जगह दी गई है. ऐसे शब्द भी काफ़ी हैँ, जो उर्दू फ़ारसी अऱबी, अँगरेजी आदि से आ कर हिंदी मेँ ज़ज्ब हुए हैँ. ऐसे किसी भी कोश को एक स्तर पर हिँदी की अद्भुत समावेशिता का संकलन होना चाहिए – यह कोश ऐसा है. उस से यह भी बख़ूबी प्रकट होता है कि हिंदी का चौगान और हृदय कितना चौड़ा है और कहाँ कहाँ तक फैला है. हिंदी का राजभाषा रूप उसे संकीर्ण और दुर्बोध बनाता रहा है: यह कोश एक तरह से इस का प्रतिरोध करता है. हिंदी के अपने उदार स्वभाव को तथ्य और शब्द-पुष्ट करता है.

हीरोइक पोएट्री के समानार्थी हिंदी शब्द योँ दिए गए हैँ – आल्हा, कड़खा, कीर्तिगाथा, पँवाड़ा, विरुदावली, वीरगाथ, शूरश्लोक, संघर्षकथा. संदर्भ शब्द – महाकाव्य और युद्धगीत भी.

गॉड शब्द के समानार्थी शब्द हैँ – अंतर्यामी, अखिलेश, अल्लाह, अहुरमज्द, ऊपरवाला,. ख़ुदा, गॉड ,जगदीश, जिहोवा, त्रिलोकीनाथ, पतितपावन, परब्रह्म, परमपिता, परमब्रह्म, परमात्मा, परमेश्वर, प्रभु, भगवान, मालिक, रब, विधाता, साहब, स्रष्टा, स्वामी, हक़ताला. हो सकता है कि कहीँ कभी आप को कोश से असंतोष हो, पर यह उस की उपलब्धि और महत्व को, उस की उपयोगिता को क़तई घटाता नहीँ है, 1360 पृष्ठोँ के इस कोश का मूल्य सिर्फ़ 595 रुपए है.

पुस्तक नाम: Arvind Word Power: English-Hindi

पेज: 1360

प्रकाशक: अरविंद लिंग्विस्टिक्स प्रा. लि., ई-28 (प्रथम तल), कालिंदी कालोनी, नई दिल्ली 110065

मूल्य: 595.00 – स्वागत मूल्य 15% कटौती के बाद 505.00 (कूरियर चार्ज 150.00)

भुगतान - http://arvindlexicon.com/books/word-power-eng-hnd पर क्रैडिट कार्ड द्वारा. - किसी अन्य विधि से भुगतान के लिए ईमेल द्वारा मीता लाल से संपर्क करेँ: lallmeeta@gmail.com – mobile +91 9810016568

clip_image006

अरविंद कुमार

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------