बुधवार, 22 अप्रैल 2015

रचनाकार.ऑर्ग के लिए गर्व और खुशी का पल

यह रचनाकार.ऑर्ग के लिए गर्व और खुशी का पल है. गिरिराज भंडारी के ग़ज़ल संग्रह - तेरे नाम का लिए आसरा का लोकार्पण पिछले दिनों हुआ. गिरिराज भंडारी ने रचनाकार.ऑर्ग के माध्यम से अपनी सृजनशीलता प्रारंभ की थी और आज वे इस मुकाम पर पहुँचे हैं. गिरिराज जी को बधाई व शुभकामनाएँ!

रचनाकार.ऑर्ग गिरिराज भंडारी जैसे अनेकों रचनाकारों को लान्चिंग प्लेटफ़ॉर्म प्रदान कर चुका है. प्रसिद्ध, पुरस्कृत व्यंग्यकार, भास्कर.कॉम के कंटेंट प्रमुख अनुज खरे भी इनमें शामिल हैं - जिनके प्रयोगवादी, मौलिक शैली के व्यंग्य को रचनाकार.ऑर्ग ने पहले पहल प्रकाशित किया था.

प्रस्तुत है गिरिराज भंडारी का पत्र अविकल रूप में -

आपके यहाँ से शुरु किया सफर के एक पड़ाव पार करने की खुशी आपसे साझा कर रहा हूँ

image

लगभग डेढ़ साल पहले  आपके रचनाकार.कॉम में रचनायें भेजा करता था । फिर अचानक रचनायें भेजना बंद कर दिया था , जिसका मुझे दिली अफसोस लगातार रहा और आज भी  है । इसके लिये मेरे पू. बड़े भाई ( श्री अखिलेश श्रीवास्तव ) से डांट भी खानी पड़ी । उसका एक मात्र कारण ये था कि मैं ग़ज़ल के अरूज सीखने में लगा हुआ था , एक बड़े काम को अपनी उम्र के 59वें साल में उठा लिया था । जिसके कारण मैं - ओपन बुक्स आन लाइन.काम के नियमों से बन्धा हुआ था । वहां अरूज़ के जानकार बहर में गज़लें कहना सिखाते थे । वहाँ का भी यही नियम था कि अप्रकाशित रचनायें ही प्रकाशित की जायेंगी और बिना प्रकाशित हुये उस्तादों के द्वारा जाँची परखी और सिखाई ही नहीं जा सकती थीं । अत: कठोरता से नियम पालन ज़रूरी था ।
                     आज मुझे इस तपस्या का प्रतिफल , पहली खुशी मिली , मेरी एक ग़ज़ल की किताब अंजुमन प्रकाशन इलाहाबाद से छप चुकी है , अभी कुछ दिन हुये विमोचन कार्यक्रम से लौटा हूँ ।किसी भी सफर का पहला क़दम भी उतना ही महत्व्पूर्ण होता है जितना आखिरी , और मेरा पहला क़दम आपके यहाँ से शुरू हुआ था , अतः आपको शामिल किये बिना मेरी खुशी अधूरी रह जाती । मेरा आभार प्रदर्शन अधूरा रह जाता  अतः मैं आपसे कहना चाहता हूँ कि , आपसे मिले शुरुआती सहारा के लिये आपका हृदय से आभारी हूँ , रचनाकार.काम का आभारी हूँ  ॥
अभी किताब की फोटो अटेच किया हूँ , पर मैं आपको एक किताब भेंट करना चाहता हूँ , अतः आपको स्वीकार हो तो मुझे लौटती मेल से अपना पोस्टल एड्रेस भेजने की कृपा करेंगे ॥
आदरणीय रवि भाई , आपक पुन आभार .  

 

image 
                                                        

आपका - गिरिराज भंडारी

4 blogger-facebook:

  1. बेनामी5:08 pm

    बधार्इ

    उत्तर देंहटाएं
  2. रघुवीर शर्मा5:09 pm

    बधार्इ स्वीकार करें |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय रघुबीर भाई , आपका आभार ।

      हटाएं
    2. आदरणीय रवि भाई एवँ रचनाकार. अर्ग का हृदय से आभारी हूँ ॥

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------