गुरुवार, 21 मई 2015

वर्तन परिवर्तन - एक था बचपन

हर्षद दवे

 

बचपन हर गम से बेगाना होता है! इसीलिए तो बड़ों की ख्वाहिश है...

‘मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन,

वो कागज की कश्ती, वो बारिश का पानी.’

सुदर्शन फाकिर के इन शब्दों में बचपन फिर से पाने की कसक है. बेफिक्र बेबाक जिंदगी...अपनी मौज, अपनी मस्ती! कब चला जाता है यह बचपन पता ही नहीं चलता.

वर्तमान समय में बच्चों का बचपन एक मजबूर पंखी की तरह पिंजड़े में कैद हो गया हो ऐसा लगता है. जिंदगी की होड में माता-पिता अपने बच्चों के बचपन की बलि बखूबी चढ़ा देते हैं. और उन्हें इस बात का एहसास तक नहीं होता!

माना कि कच्ची उम्र में बच्चों को बहुत कुछ सिखाना जरुरी होता है. पर जिंदगी में बचपन की सहज, निर्दोष, मौज-मस्ती, छोटी छोटी गलतियाँ करने का बच्चों का हक है उस का क्या? माता-पिता की अपेक्षाओं को आकार देने के लिए बच्चे अपने बचपन की खुशियों की बलि क्यों चढाएं?

बचपन चहचहाती चिड़िया जैसा मुक्त होता है!

आजकल बच्चों का बचपन कुछ अजीब ढंग से शेड्यूलग्रस्त हो गया है. सवेरे जल्दी उठना, स्कूल जाना, स्कूल से आ कर खाना खाना, होमवर्क करना, ट्यूशन, टीवी, एक्स्ट्रा क्लासिज और फिर दूसरे दिन इसी रूटीन में जुट जाने के लिए भोजन कर के सो जाना!

बच्चे को सही शिक्षा मिले और वह समझदारी भरा उचित व्यवहार करे ऐसा माता-पिता का आग्रह भी अपनी जगह पर सही है. किन्तु बचपन भी तो बच्चों को फिर से एन्जोय करने का मौक़ा कहाँ देता है?

माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चे को मनचाही प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते रहे, साथ साथ उस के बचपन की दुनिया भी आबाद रहे इस बात का ख़याल रखे. इन के बीच संतुलन बनाए रखना प्रत्येक माता-पिता के लिए एक बड़ी चुनौती है, बड़ा इम्तहान है!

बच्चे मन के सच्चे होते हैं और वे अपनी किस्मत अपने साथ ले कर ही आते हैं.

गुजरे हुए ज़माने का यह गीत आज भी याद है...

‘नन्हे मुन्हे बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है?

मुट्ठी में है तकदीर हमारी,

हमने किस्मत को बस में किया है...!’

======================================================

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------