आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

व्यंग्य : लव पर डिस्काउण्ट

image

आलोक पुराणिक 

 

सेंट वैलंटाइन ने सोचा, कि अब तो मेरा इतना नाम हो गया है, सो चलो मैं अब दुनिया में जाकर देखूँ कि मेरे नाम का डे कैसे मनाया जाता है ।

सेंट वैलंटाइन सामने खड़े थे-इण्डिया में आर्चीज ग्रीटिंग कार्ड गैलरी के सामने ।

यस मैन क्या चाहिए- 1200 वाला कूल लव पैकेज या 5००० वाला हाट लव पैकेज, जिसमें एक टेडी बीयर और पाँच कार्ड होंगे-चार्जीज कार्ड गैलरी के सेल्समैन ने बताया ।

काट, लव भी यहाँ पैकेज के तहत होता है क्या । अभी मैं इश्तिहार देखकर आ रहा हूँ अला साबुन का इकोनॉमी पैकेट, चार साबुनों वाला, फलां वाशिंग पाउडर का सुपर सेवर पैकेज, चार पैकेटों का पैकेज । ज्यादा लव कार्ड खरीदने पर भी डिस्काउण्ट मिलती है क्या--सेट वैलंटाइन ने चकराकर पूछा ।

यस अगर एक बन्दा पचास वैलंटाइन कार्ड खरीदे, तो सुपर सेविंग पैकेज ऑफर मिल सकता है-सेल्समैन ने बताया ।

पर लव तो एक से ही बहुत होता है । एक बन्दे को पचास-पचास वैलंटाइन कार्डों की क्या जरूरत है । क्या लव भी यहाँ होलसेल में होता है-सेंट वैलंटाइन ने परेशान होकर पूछा ।

जी हमारे पास होलसेल आफर भी हैं, लव चेंज आफर भी है, एक्सचेंज आफर भी है-सेल्समैन ने बताया ।

आप मुझसे मार्कटिंग की बात कर रहे. हैं या लव कीं-सेंट वैलंटाइन ने पूछा । हे मैन, हम लव की मार्केटिंग की बात कर रहे हैं । तुम्हारी जेब में 12०० के नोट हैं कि नहीं, अगर नहीं, गेट आउट-सेल्समैन सेंट वैलंटाइन को डाँट रहा है । पर मेरे पास नोट नहीं, सिर्फ लव है-सेंट वैलंटाइन कह रहे हैं ।

हा, हा, मैन, सिर्फ लव से नोट नहीं मिलते, हों अगर नोट हों, तो लव चाहे जितना मिल सकता है-होलसेल पैक वाला.. .सेल्समैन बता रहा है ।

नोटविहीन सेंट वैलंटाइन चार्चीज गैलरी के बाहर धकिया दिये गये हैं ।

स्पेशल डिस्को सेंटर के बाहर लिखा हुआ-वैलंटाइन डे स्पेशल लव पैकेज- 1०, ००० रुपये ओनली ।

ये डे मेरे नाम का ही है, इसलिए यह पैकेज में मुझे मुफ्त में मिल सकता है क्या-सेंट वैलंटाइन पूछ रहे हैं ।

फ्री में लव नहीं होता मैन । लव कार्ड तक 1200 के आ रहे हैं, आप लव पैकेज फ्री में लेने की बात कर रहे हैं-लव पैकेज वाला सेल्समैन वैलंटाइन को डाँट रहा है 

लव पैकेज से विहीन सेंट वैलंटाइन स्पेशल डिस्को सेंटर के बाहर खड़े हुए हैं । वहाँ दो बच्चे वैलंटाइन चर्चा कर रहे हैं ।

एक बच्चे ने दूसरे से पूछा- अच्छा बता कि वैलंटाइन डे पर एक-दूसरे के हाथ में हाथ डालकर क्यों चलते हैं?

लव बिकाज ऑफ लव सेंट वैलंटाइन बता रहे हैं.  ।

नो, इसलिए कि जो महँगी अँगूठी गिफ्ट में दी हुई है, वह हाथ से गिर न जाये । लव-वव की चिन्ता कौन करता है । लव लिये घूमते रहो, अँगूठी नहीं मिलती । पर अँगूठी के पैसे जेब में हों, तो लव मिल जाता है-बच्चा समझा रहा है ।

सेंट वैलंटाइन को लव का मतलब अब पूरी तरह से समझ में आ गया है ।

(आलोक पुराणिक के व्यंग्य संग्रह - लव पर डिस्काउंट से साभार)

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.