गुरुवार, 14 मई 2015

सबसे सीखें कुछ न कुछ

nritya2

दीपक आचार्य

दुनिया अपने आप में विद्यालय से लेकर विश्वविद्यालय तक सब कुछ है।

यहाँ हर प्राणी भगवान ने ऎसा बनाया है जिससे या तो कुछ न कुछ सिखा जा सकता है अथवा कोई न कोई सीख ली जा सकती है।

संसार में जो कोई पैदा हुआ है उससे कुछ न कुछ सिखा जा सकता है।

इंसान हो या कोई सा प्राणी सभी  विधाता की अन्यतम रचनाएं हैं और हर रचना के पास अपना ऎसा कुछ न कुछ जरूर है जो कि दूसरों के पास नहीं है।

इस दृष्टि से सृष्टि का प्रत्येक जीव विशिष्ट है ही, तभी तो यह दुनिया रंगीन और मजेदार बनी हुई है जहाँ हर तरफ सुनहरे रंगों और रसों का दरिया उमड़ता है तो कहीं रंग-बदरंग अपनी ही चलाने में लगे हुए हैं।

तमाम प्रकार के रंग-बिरंगे और श्वेत श्याम स्वभाव और विचित्र व्यवहारों भरे जीवों की इस दुनिया में न किसी को अच्छा कहा जा सकता है, न बुरा।

हर इंसान अपने लक्ष्य और जीवनयापन को सुरक्षित, सुखी एवं बनाने को उतावला बना हुआ है जहाँ कहीं वह प्रतिस्पर्धा का सहारा लेता है, कहीं बदचलनी का,  और कहीं-कहीं तो इंसानी चरित्र के सारे लबादों को एक तरफ फेंककर ऎसा व्यवहार करने लगता है जैसे कि पाषाणी युग में ही पैदा हो गया हो।

तभी कहा गया है कि भूत-प्रेतों, यक्ष-किन्नरों, शाकिनी-डाकिनियों और दूसरे सभी पर भरोसा किया जा सकता है लेकिन आदमी पर नहीं।

आदमी के पास लक्ष्य तो होते हैं लेकिन इनके साथ ही लक्ष्य को पाने के लिए ढेरों रास्तों को अपनाने के लिए वह स्वतंत्र होता है इसलिए कब आदमी आदमियत के साथ रहता है, कब इंसानियत को दरकिनार कर हैवान हो जाता है, कब उसमें हिंसक जानवर या आसुरी भाव प्रकट हो जाएं, कुछ निश्चित नहीं कहा जा सकता।

इन सबके बावजूद प्रत्येक प्राणी ऎसा होता ही है जिससे कुछ न कुछ सिखा जा सकता है।

जो अच्छी बातें, सकारात्मक सोच, श्रेष्ठ आदतें और स्वभाव हैं उनका अनुकरण किया जा सकता है। इससे व्यक्तित्व को परिपक्वता और पूर्णता दी जा सकती है।

इस मामले में किसी भी इंसान को कभी भी पीछे नहीं रहना चाहिए।

दूसरी ओर इंसानों के ही संसार में उस किस्म के इंसान भी होते हैं जो नकारात्मकताओं से भरे हुए रहते हैं और अपने किसी न किसी विचित्र या अनचाहे स्वभाव के कारण हमारी निगाहों में आते रहते हैं, उन लोगों की हरकतों से भी बहुत कुछ सीख ली जा सकती है।

इन लोगों की मानसिकता और करनी को देख कर इनसे बचे रहने तथा इस किस्म के लोगों से अपने आपको बचाए रखने की सीख यानि कि शिक्षा ली जानी चाहिए।

मनुष्य के रूप में परिपूर्णता पाने के लिए दोनों ही प्रकार की जानकारी होनी जरूरी है।

ताकि हमें हमेशा यह पता रहे कि कौनसे कर्म और व्यवहार स्वीकार्य और रोजमर्रा की जिन्दगी के लिए अनुकरणीय हैं, और कौन से कर्म, किस प्रकार की वाणी तथा व्यवहार त्याज्य हैं।

इसलिए जीवन का भरपूर आनंद पाने के लिए दोनों ही प्रकार के प्राणियों से कुछ न कुछ प्राप्त करते रहने का प्रयास करना चाहिए। श्रेष्ठ चरित्र को आत्मसात करने और दुष्ट चरित्र को जानकर उनसे बचने की सीख लिए जाने की जरूरत हमेशा बरकरार रहनी चाहिए।

---000---

- डॉ. दीपक आचार्य

9413306077

dr.deepakaacharya@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------