विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

कहानी - एक ऑफिस ऐसा भी भाग-2

ek office eaisa bhee

रवि श्रीवास्तव

 

आप ने पहले भाग में पढ़ा था कि ऑफ़िस की तरक्की कैसे हुई? कर्मचारी के साथ बॉस का हाव- भाव अलग था। हर तरफ गुट बन चुके थे। और आखिरी में सब खत्म हो गया था। कुछ लोग बचे थे। जो अपनी जीविका चला रहे थे। या कहो अपना मनोरंजन ऑफिस में कर रहे थे।

किस्मत कहां ले जाए क्या भरोसा? तंग आ गया हूं यहां से । दूसरी जगह नौकरी करनी है। दिल में हर दिन ख्याल आता रहा। सोचता रहा क्या दिन थे इस ऑफिस के जब मैं आया था? डरा हुआ सहमा सा। शायद ये सोचता था कि किससे बात करूं? कहीं कोई डांट न दे? जूनियर हो वैसे ही रहो। चुप-चाप किसी कम्प्यूटर पर कोने में बैठा रहता था। अपने काम से मतलब था। यहां तक कि काम के लिए किसी और को कहना सर पर बोझ जैसा लगता था। कहीं मना न कर दे वो?

शुरू के वो दिन थे जब हर रोज मुझसे कोई गलती होती थी। उस समय मैं काम को समझ रहा था। पर डांट तो लाजमी थी। गलती से याद आया, इक गलती शुरू में राहुल नाम के बंदे ने की, और उसे बिना सोचे समझे मैंने आगे बढ़ा दी, वो बढ़ती गई, एक के बाद एक ने की। मुझे ऑफिस ज्वाइन किए पांच से 6 दिन हुए थे। तब ये गलती हुई थी।

तभी अचानक बॉस दीपक के पास फोन आता है, उनके चेहरे के हाव-भाव से प्रकट हो रहा था कि कोई उनको डांट रहा हो। सबके सामने आकर पूछना कि काम किसने किया और मुझ पर चिल्लाना, काम नहीं करना तो घर में बैठ जाओ। ऐसे लोगों की जरूरत नहीं है।

एक तरफ बॉस के आंख में आंसू नजर आ रहे थे, तो दूसरी तरफ मैं भी उदास हो गया। मैंने सोचा नहीं करना काम चलो छोड़ देते हैं। फिर ख्याल आया कहां जाएंगे हर जगह का यही हाल है। बॉस तो गलती पर डांटेगा।

खामोश रहना पड़ेगा गलती पर। सुननी पड़ेगी बॉस की। कैसे वो दिन कटा मेरा, ऐसा लग रहा था कि जल्दी से मेरी शिफ्ट खत्म हो। रूम पर जाऊं और दिमाग को ठण्डा करूं। उस रात मैं सो न सका। सोच रहा था मैं ही चेक कर लेता। किसी पर भरोसा क्या करना?

दूसरे दिन जब ऑफिस पहुंचा तो कल की बात की चर्चाऐं हर तरफ थी। सब मुझे देख रहे थे। और कह रहे थे कि इसमें तुम्हारी गलती से ज्यादा राहुल की है। मैंने भी सोचा अब क्या जो हो गया उसके पीछे लगना।

अभी भी मैं लोगों से ज्यादा बोलता नहीं था। पता नहीं इसे डर कहे या हिचकिचाहट समझ नहीं आ रहा है। दिन बीतने के साथ दोस्त तो बनने ही थे। अंकित शर्मा से दोस्ती हुई फिर सबके सामने खुलकर मेरा रुप आया। सिगरेट और शराब दोस्ती तो जल्दी करा देती है।

सिगरेट की वजह से अब सारे स्मूकर्स हमारे दोस्त बन गए थे। महिलाओं के ग्रुप में चर्चा हो रही थी। आदित्य अब बहुत बदल सा गया है। आया था तो डरा सहमा सा और अब देखो तो। कुछ दिनों के बाद मेरे कालेज से एक और लड़के ने ऑफिस ज्वाइन किया। मुलाकात हुई तो वो अरूण शुक्ला था। मेरा जूनियर था।

कालेज हालांकि मैंने उसे कम देखा था। पर ऑफिस में देख कर खुश था। वो मुझे भैया कह कर पुकारता था। अब कालेज के जूनियर- सीनियर का फासला खत्म हो चुका था।

दोनों एक ऑफिस में और दोनों का रूम भी एक तरफ था। हम दोनों की शिफ्ट भी एक ही समय थी। अब क्या था दोनों साथ आ जा रहे थे। ऑफिस के अंदर भी और बाहर भी। कभी-कभी उसके रूम पर भी जाता था। उसके रूम पार्टनर भी सारे मेरे जूनियर ही थे।

अरूण शुक्ला नशा करने में अव्वल । सिगरेट पीकर आया हो कोई कह दे तो बस तुरंत चल देता था। काम जाए राम भरोसे। पहले सिगरेट फिर काम। चाहे कितनी भी पड़े डांट कोई फर्क नहीं पड़ता था। बाहर जाकर अपनी भड़ास गालियों से निकाल लेता था। अंकित शर्मा उसकी बातों को सुनकर हंसते, और अपना प्यारा पुराना डॉयलाग बोलते थे। अरे यार तू क्लेश कराएगा कभी। बात भी सच थी। हर ऊंट को पहाड़ के नीचे कभी न कभी तो आना ही पड़ता है। और वो दिन अरूण शुक्ला के लिए काफी खराब दिन था।

एक ऐसा जिम्मेदारी का काम शुक्ला को दिया गया। जिसे वो बाखूबी लापरवाही से निभाता आता था। और शर्मा जी की वाहवाही लूटता। अबे इतनी जल्दी कर दिया तूने ये काम। वाह मेरे शेर। शर्मा जी की इक खास आदत जैसा कि मैंने पहले भाग में बताया था। साकारात्मक सोच को लेकर, वो किसी भिखारी को कह सकते थे कि इस बार का चुनाव लड़ो और प्रधानमंत्री बन जाओगे। और भिखारी भीख मांग कर पेट पालने के बजाए चुनाव लड़ने की तैयारी में लग जाता हो। शुक्ला के इस काम की तारीफ़ सारे लोग करते थे। करे भी क्यों न ? अपने साथ दूसरों काम भी हल्का कर देता था। कभी-कभी दांव उल्टा भी पड़ जाता है।

शुक्ला के ग्रह में शनि की छाया उस दिन नज़र आ गई। जो काम जिम्मेदारी से दिया गया था। उसे बखूबी लापरवाही से निभा दिया। झट से काम खत्म और फुर्र। ऑफिस के बाहर। सिगरेट के धुएं का छल्ला बन रहा था। तभी बॉस दीपक ने उस काम में नज़र डाल दी। और कुछ महत्वपूर्ण हिस्से के बारे में पूछा। जवाब मिला शुक्ला ने किया है।

सबकी निगाहें शुक्ला को खोजने लगी। जैसे पुकारा जा रहा हो, मुजरिम शुक्ला हाज़िर हो। लेकिन इस लगी अदालत में शुक्ला तो थे नहीं। वो महराज तो बाहर सिगरेट से धुंआ-धुआं खेल रहे थे।

शुक्ला को ऐसे खोजा जा रहा था, जैसे जेल तोड़कर भागा हो। शर्मा के साथ धुंए को नाक से छोड़ रहे शुक्ला काम से निश्चिंत थे। तभी संदेशा शुक्ला के पास पहुंचा कि साहब याद कर रहे हैं।

अब तो सिगरेट भी कह रही थी, मुझे माफ कर दो। सारा खत्म हो चुकी हूं। फेंक दो। शुक्ला ने जैसे कहा इक आखिरी कश। जोर से खींचा और सिगरेट नीचे फेंका, अपने चप्पल से रगड़ते हुए चल दिए। बेचारी सिगरेट जब तक दम था, तब तक मुंह से लगी थी। जैसे ही समाप्त हुई पैरों से बुरी तरह रौंद गई।

शुक्ला के ग्रह में शनि का वास हो गया था उस दिन। दीपक सर ने शुक्ला से पूछा आप ने जो काम किया है उसमें एक महत्वपूर्ण चीज छोड़ दी है। शुक्ला को विश्वास था अपने झूठ पर। झूठ तो झूठ होता है। सफाई दी इसके अलावा कुछ नहीं था।

दीपक सर को भरोसा नहीं हुआ और दोबारा से चेक कर लिया। शुक्ला अपने झूठ की वजह से पसीने से तर-बदर हो रहे थे। कभी इधर देखते कभी उधर डर बना था।

काम लापरवाही से किया था और झूठ विश्वास के साथ। ए सी की ठण्डक गर्मी का एहसास शुक्ला को दिला रही थी। मन में शुक्ला कह रहे थे कि हे भगवान वो न मिले। आज भगवान भी शुक्ला से रूठे हुए हो जैसे। दीपक सर बड़े ध्यान से उस हिस्से को ढूढ़ने की कोशिश में लगे थे।

लड़कियों की शिफ्ट खत्म हो रही थी। सब अपना बैग तैयार कर रही थी घर जाने के लिए। बाकी सब अपना काम कर रहे थे। शांत वातावरण ऐसा की मक्खी के पंख की उड़ने की आवाज भी सुनाई पड़ जाए।

शुक्ला जी तो बतौनी थे, बाते छौंक रहे थे दूसरे से। लड़कियों ने बैग उठा लिया था। तभी शान्ति वातावरण में एक जोरदार आवाज़ आई। वो आवाज़ दीपक सर की थी।

आंखों में गुस्सा और आवाज को सुनते लड़कियों ने भी अपना प्लान बदल दिया। बैग फिर से टेबल पर रख दिया।

दीपक सर- अरूण ये क्या है, मिल तो गया, तुमने तो कहा था कि नहीं है। काम सही से नहीं किया है। ऐसे काम मत किया करो। चलो यहां से उठो और घर जाओ ऑफिस आने की जरूरत नहीं है।

इतनी लापरवाही बर्दाश्त नहीं है। ऑफिस है कोई लाला की दुकान नहीं है।

अब भला साहब को कौन बताए कि परचून की दुकान में काम करना कितना मुश्किल होता है।

अरूण- माफ कर दो सर, अब ऐसी गलती दोबारा नहीं होगी। आंखों में नमी लिए बस अपनी गलती स्वीकार कर रहा था।

दीपक सर- अजीब हाल है। ये इनका तकिया कलाम डॉयलाग था। काम कुछ भी हो पर हाल हमेशा अजीब होता था। कैसे लोग यहां काम करने के लिए आते हैं।

शुक्ला के चेहरे की हवाइयां उड़ चुकी थी। ऑफिस के लोग एक टक देख रहे थे। कुछ लोगों को दिली सुकून मिला इस डांट से और कुछ फिर इस डांट का गम भुलाने के लिए निकल पड़े। वही पुरानी जगह जहां धुंए के छल्ले बनते हैं।

शुक्ला ने अपनी भड़ास वहां निकाल दी। शुरू में काम करने में काफी अच्छा था। लेकिन धीरे-धीरे उसमें परिवर्तन आ गया था।

सोचा कि इतनी डांट खाने के बाद हर कोई सुधर जाता है। शुक्ला की प्रवृत्ति में ऐसा नहीं था। एक दिन बस और फिर से वही लापरवाही चालू थी।

दोपहर में लंच टाइम ऑफिस वीराना नज़र आता था। एक साथ सभी खाने पर चले जाते थे। काम कौन करेगा। काम जाए भाड़ में। इसकी शिकायत दीपक सर से की गई। सब लोग चले जाते हैं और काम रूक जाता है।

दूसरे दिन फरमान जारी कर दिया गया। एक साथ सभी नहीं जाएंगे खाने। एक या दो लोग जाएंगे। फरमान तो जारी कर दिया गया। अब अमल करने की बारी थी। कुछ ने तो इसे पत्थर का लकीर मान लिया। और उसी राह पर चल दिए। लेकिन कहते हैं न कानून बनने से पहले तोड़ का प्लान बनता है।

ऐसा ही था कुछ। एक दो लंच करने बाहर जाए, तभी और भी लोग इधर-उधर देखें बॉस तो नहीं दिखाई पड़ रहा है। अगर नहीं दिखा तो वहां से चंपत हो जाते। फिर क्या साथ बैठकर खाते हैं बातें छौंकते। मेरा मन हमेशा विचलित रहता था। ऑफिस जाते ही कहीं डांट न पड़ जाए। फिर सब एक साथ खाने चले गए थे। खाने से ज्यादा ध्यान ऑफिस के लिए लगा रहता था। बॉस से शिकायत किसी ने कर दी होगी। पहुंचते ही सुनना पडेगा।

शुक्ला को कोई फर्क नहीं पड़ता था। शर्मा जी भी बातों के धनी तो थे। और दीपक के अच्छे मित्र भी। अपनी बातों में लोगों को लपेटते रहते थे। खाना खाने के बाद ऑफिस में इंट्री ऐसे होती थी जैसे चोर हो सारे। चुपके से कोई देख तो नहीं रहा है। कुछ महीने बीते थे कि तय हुआ अब ऑफिस में नाइट शिफ्ट शुरू होगी। रात में काम करने वालों को अलग किया गया। जिसमें मेरा नम्बर नहीं था। शुक्ला का नाम तो था। अब क्या था। रातों में काम होना शुरू हुआ। कहते है, नया धोबी गधहा पर चढ़ता है।

कुछ ऐसा था इस ऑफिस में। जब रात में काम शुरू हुआ तो कुछ दिन तो ऐसा लग रहा था कि सारी मेहनत रात में इस ऑफिस में होती है। लेकिन ये जोश कुछ ही दिन चल पाया। अचानक बदलाव आ गया।

रातों की शिफ्ट सबसे मजेदार होने लगी थी। आराम से चैन की नींद लोग सो जाते थे। ज्यादा लोग न होने की वजह से आराम ही था। कोई देख-रेख करने वाला भी नहीं रहता था। सब खुद के मालिक थे।

अब शुरू हुआ था ऑफिस में असली खेल। काम नहीं पहले रात को फिल्म कम्प्यूटर पर देखी जाती थी। जिसकी जो मर्जी हो वो मूवी देखे।

जिनके पास महिला मित्र थी, उनको तो सोने पर सुहागा मिल गया था। मोबाइल का खर्च एकदम से कम हो गया था।

ऑफिस का फोन रात में बात का अच्छा जरिया बन गया था। पहले बात करनी है फिर काम जब दूसरी तरफ से कहा जाए कि अब सोना है फोन रखो।

सुबह के 4 बजे जो सो रहा है उसे उठाया जाए, फिल्में देखना बंद हो क्यों कि अब तो शिफ्ट भी खत्म होने वाली रहती थी। और काम भी तेजी से करना होता था। 4 कर्मचारी मिलकर 2 घण्टे काम करते थे। सुबह के 7 बजे गायब हो जाते थे। फिर दिन के उजाले में काम शुरू होता था।

ऐसा कुछ महीनों तक लगातार चलता रहा। फोन, फिल्म, सोना रात वालों की आदत बन गई थी। कुछ रातों के लिए कर्मठ कर्मचारी भी चुने गए थे। बॉस कभी –कभी तुलना भी करते थे। पर किसे फर्क पड़ता है। कर्मठ होने के बाद लोग उन्हें सुनाते थे। भाई आज कल बॉस के ख़ास बन रहे हो।

वो बेचारों के पास कोई जवाब नहीं रहता था।

हर कोई अपनी बात रखता था। ज्ञान के सुर सबके निकलने लगते थे। हालात ऐसे बनते जा रहे थे कि रातों में काम तो होता था लेकिन पहले जैसा कुछ ख़ास नहीं। होते करते सबसे पहले गाज रात में काम को लेकर गिरी।

जिसे बहुत ही प्लान के साथ चलाया गया था। वो शिफ्ट अब बंद होने जा रही है। कुछ लोगों के मन में खुशी थी, तो कुछ लोग काफी दुखी महसूस कर रहे थे। जैसे मानों उनसे किसी ने उनका कोई महत्वपूर्ण समान छीन लिया हो।

हो भी क्यों न अब आज़ादी छिन गई थी। फिल्म की फोन की और सोने की तो खैर रूम मे मिल जाएगा। शर्मा जी ने नाव को डूबता देखा तो पहले तय कर लिया निकल लो यहां से अब यहां रूकना खतरे से खाली नहीं है।

शर्मा जी और दीपक की दोस्ती में थोड़ी दूरी हुई। ये वो दूरी नहीं थी जिसे कहासुनी से जोड़ते हैं। ये दूरी अलग –अलग ऑफिस होने से थी। शर्मा जी ने ऑफिस छोड़ दिया था।

अब क्या था, जैसे हमारा सब कुछ छीन गया हो। शर्मा जी के जाने के बाद हम सारे स्मूकर्स बेचैन से रहने लगे थे। हर बात पर सलाह जो लेते थे। और उनके ज्ञान के आगे तो नतमस्तक हो जाते थे।

कभी-कभी कह देता बाबा बन जाओ काफी फायदा होगा। ऐसे ज्ञान लोगों को देते रहो और पैसा कमाते रहो। क्यों कि आज कल बाबा बन कर आस्था के नाम पर पैसा आसानी से कमाया जाता है।

लोग पैसा दे भी देते है। जिनकी जेब से एक रुपया न निकलता हो आस्था के नाम पर दे दना दन निकलता है।

बाबा से याद आया। इस ऑफिस के सबसे बड़े सरदार आरिफ़ जी जिनके ऑफिस में जितने लोग उतने नाम रख दे थे।

कोई दादू कहता तो कोई बाबा कहता, कोई डॉ. साहब कहता कोई बुढऊ कहता। ऐसा लगता है इस ऑफिस में नाम करण करने का सौभाग्य हर किसी को प्राप्त है। जिसे देखो बिना किसी पण्डित से बिचारे नाम रख देता। और उसे प्रचलित करने में लग जाता।

एक बात तो साफ थी। कोई यहां किसी की सुनना नहीं चाहता था। हर कोई अपने आप को राजा समझता था। राजा की जब बात आई तो राकेश राजा के बारे में कुछ बता दे आप को। अनुभवी और ज्ञानी तो थे, साथ ही दिमाग का इस्तेमाल भी अच्छे से करना जानते थे।

कभी जब लेट आने को लेकर या काम को लेकर कुछ सवाल खड़े हो तो बॉस के सामने तो चुप हो जाए, जैसे ही बॉस उनके पास से अलग हटे तो देखो, हजार बातों को छौंकना शुरू कर देते थे। साला हमसे ज्यादा बोलेंगे तो ये कर देंगे वो कर देंगे। बस हम लोगों को सुनाते और कहते हमसे तो किसी की बहस करने की औकात नहीं है।

हम सभी को तो पता ही रहता की अब आज डांट पड़ी है इसलिए ऐसा बोल रहे हैं। हंसकर टाल देते हम सब उनकी बातों को। पता रहता था कि जो ये बोल रहे हैं सब फर्जी है। ये ऐसा कुछ नहीं करेंगे।

रात्रि की शिफ्ट बंद होने से पहले ही कुछ लोग ऑफिस छोड़कर चले गए थे। और कुछ को फोन गया कि ऑफिस आने की जरूरत नहीं है। कम्पनी को काफी नुकसान हो रहा है। अब ज्यादा लोग नहीं बचे थे।

कम्प्यूटर भी खराब हो गए थे। जिसे बनवाने के लिए कहा जा रहा था पर कोई नहीं सुन रहा था।

एक दिन तो हद ही हो गई थी। विनीत नाम के एक कर्मचारी ऑफिस आया और कुछ देर रूका रहा। कम्प्यूटर न खाली होने की वजह से वह कुछ ही घण्टों में वापस चला गया। बड़ा निडर था। मन नहीं है काम करने का कहकर चला गया।

आरिफ ने उसके बारे में जब पूछा । फिर उसको फोन किया। उसने कह साफ तौर पर कह दिया सिस्टम नहीं था तो ऑफिस में रूककर क्या करता घर चला आया हूं। उसके जवाब को सुनकर सब हैरान थे।

आरिफ ने भी कहा क्या लड़का है। सिस्टम नहीं खाली तो घर चला गया। उसकी इस बात से उसके ऊपर गाज गिर गई। जब ऑफिस में छटनी का दौर शुरू हुआ तो विनीत को भी बाहर कर दिया गया। इक बात तो मैं बताना ही भूल गया। अखिलेश नाम का कर्मचारी उस वक्त छुट्टी लेकर घर चला गया था।

जब वह वापस आया तो उससे भी इस्तीफे की मांग कर ली गई। अखिलेश काफी गुस्से में था।

अखिलेश- आरिफ सर एच आर वाले तो कह रहे थे कि उन्होंने इस्तीफे के बारे में आप को बता दिया था। आप ने हमें क्यों नहीं बताया। हम और दिन घर पर बिता लेते।

सवाल तो काफी अच्छा था। बात भी सही कह रहा था। सब कर्मचारी भी दंग रह गए थे। आरिफ के ऐसे व्यवहार को लेकर सोच में पड़ गए। तभी आरिफ ने अपनी सफाई पेश करते हुए कहा,

आरिफ- ये कोई अच्छी ख़बर थोड़ी थी जो आप को सूचना दिया जाए। आप जाकर एच आर से बात कर लो। बेचारा अखिलेश अपना हिसाब करवाया और आखिरी सैलेरी का चेक लेकर विदा हो गया।

जैसे तैसे कुछ लोगों में ऑफिस चल रहा था। कर्मचारियों का गेम खेलना बंद नहीं हुआ था। अब तो फोन भी करने में कोई परेशानी नहीं थी। पीसीओ बन गया था ऑफिस का फोन। लेकिन हम इसे पीसीओ नहीं कह सकते। उसमें तो फोन करने के बाद पैसे अदा करने पड़ते हैं। जिससे ज्यादा देर तक बात करने में लोगों को अकरास होता है। लेकिन ऑफिस का ये फोन तो इससे भी आगे था। न पैसा देना, न समय की कोई पाबंदी। जितनी देर मन हो फोन पर लगे रहो।

आते-जाते दूसरी कम्पनी के लोग देख कर आश्चर्य में पड़े रहते हैं। आखिर इनके पास कोई काम नहीं होता है। कोई फोन पर लगा रहता है तो कोई गेम खेलता है। सामने बैठे दूसरे विभाग के लोग बातें सुनकर मजे लेते थे। जब सुजीत, या मैं कहता कि मछली बनाओ। जो सारा चॉकलेट खा लेगी।

लोग सोचते थे कि ये मछली की क्या रट लगे रहते हैं। आखिरकार एक बंदे ने आकर पूंछ लिया ये मछली क्या है और कैसे बनाते हो। जब उसे गेम में दिखाया गया तो वह भौचक्का रह गया। यार तुम लोग कितने सही हो गेम खेलने को मिलता है। हमारे विभाग में सिर्फ काम ही काम है। दिन भर लगे रहे काम करते रहो, फिर भी डांट मिलती है।

अब मेरी पूरी कम्पनी में 8 से 9 लोग बचे थे। और काम नाम मात्र का था। या फिर हम करना भी नहीं चाहते थे। इन बचे लोगों में हर दिन किसी न किसी बात पर एक दूसरे से बहस हो जाती थी। कभी काम लेकर तो कभी समय पर आने को लेकर।

जब अब समय पर आने का जिक्र आ ही गया है, तो एक बाद हम कैसे भूल सकते हैं। जो कि अधिकारियों तक मशहूर थी। बात ही अधिकारी वर्ग की थी। हमारे कम्पनी की देख-रेख के लिए बचे आरिफ जी जो कभी-कभी ऑफिस ने लगे थे। महीने मे 5-6 दिन तो बहुत कह रहा हूं। जब कभी अधिकारी वर्ग के लोग पूछते की आरिफ जी आए हैं। तो पता चलता नहीं तो सवाल होता कितने दिनों से नहीं आए होंगे। सब लोग हंस देते और चुप हो जाते थे। फिर ऑफिस से जब उनके पास फोन जाता तो उस दिन घर से चल देते थे। चलो आज ऑफिस का हाल देख ले कैसा चल रहा है। कैसा चलेगा ऐसा ऑफिस न कोई बॉस और न ही मैनेजमेंट ध्यान दे रहा था। आरिफ जी हमेशा कहते थे कि जैसे चल रहा है चलने दो। ऊपर मैनेजमेंट में कोई बात करने को तैयार नहीं है।

मै भी सोचता या तो ये डरते हैं बात करने में, या अपनी नौकरी बचा रहे हैं। जो सच था वो अपनी नौकरी बचाने में लगे थे। ऑफिस बस नाम का बचा था। काम को तो कोई पूंछती नहीं था।

हम लोगों ने प्लान करके एक दिन आरिफ को घेर लिया। अरे भाई घेरा कोई मारने-पीटने को थोड़ी, बात करने को। जो काम हो रहा है अब हम वो भी नहीं करेंगे पहले ऊपर मैनेजमेंट मे बात करो कि ऑफिस को चलाना है तो सैलेरी बढ़ाए। और फिर से लांच कर दे जो कि पिछले दो सालों से सुनाई दे रहा था , कि ऑफिस रिलांच किया जाएगा। पर अभी तक ये हुआ नहीं था। आरिफ जी भी काफी चालाक थे, कह दिया अगले महीने के लिए ऊपर से आदेश आया है। शायद हो जाए। आप लोग काम शुरू कर दे नहीं तो हो सकता है कि पहले जैसी प्रक्रिया न दोहरा दे मैंनेजमेंट। बनी गठित टीम को अपने पांसे से तोड़ दिया और काम शुरू हो गया था।

काम ज्यादा न होने से ऑफिस में नींद भी आने लगती थी। ऑफिस में चैन से सोने का मज़ा तो हमारे बॉस आरिफ जी ने ही उठाया है। इक तो कम आते थे। ऊपर से जिस दिन आते सो जरूर जाते थे। उनकी सोने की क्या खूब अदा थी। पैर पर पैर रख कर अपने हाथ से गाल के टेककर चैन की नींद। ऐसा लगता था जैसे दो-तीन रातों से जगे होंगे। घर की नींद को ऑफिस में पूरा करना कोई आरिफ जी से सीखता। अगर हम उनकी तरफ नहीं देख रहे है तो कोई न कोई इशारे से बता देता देखो कैसे आराम फरमा रहे हैं।

और जब जग जाते तो कहते क्या हो रहा है। कुछ नया। हम सब के चेहरे पर मुस्कान आ जाती। जो दीन-दुनिया से दूर था कह रहा है कुछ नया।

ऑफिस जाने का मन भी कम होता था। मजबूरी थी की रूम पर कोई मनोरंजन सुविधा नहीं थी। तो मैं अपने वीक आफ के दिन भी प्रस्थान कर लेता था। जाकर गेम खेलता और आदत के अनुसार कोई कविता या कहानी लिखता था।

4 बजने के बाद घर कब जाना है सब एक दूसरे से यही पूछते थे। कोई 5 बजे कहता तो कोई 7 बजे फिर होते करते बीच का रास्ता निकलकर आता था। 6 बजे बंद कर दो कोई कभी भी आया हो इससे कोई मतलब नहीं। बस निकलने का समय फिक्स था। हमारे फील्ड के कर्मचारी सुभाष का इंतजार हम सबको रहता था। जब तक वो नहीं आता हम फोन पर और गेम खेलकर टाइम पास करते थे। ऑफिस पहुंचकर सुभाष भी गेम खेलने में मशहूर हो जाता था।

फिर तीन आवाजें एक साथ लेवल पार किया, लाइफ दो, अरे पगले मछली बन रही थी। मैं तो जब थक जाता तो सुजीत को देता कि मेरा लेवल पार करो। नहीं तो मैं नहीं खेलूंगा। सुजीत फिर मेरा लेवल पार करने में लग जाता था।

अब क्या था एक लाइन में 4 कम्प्यूटर में गेम एक साथ चल रहा होता, और आने जाने वालों की निगाहें हम पर होती। शायद वो हम जैसी किस्मत पाना चाह रहे होंगे। पर उन्हें क्या पता कि हम बदनसीब हैं इसलिए हमारे साथ ऐसा हो रहा है।

दादू ओह यानि आरिफ जी के सामने भी अब लाज शर्म खत्म हो चुकी थी। अब हम उनके सामने खेलना शुरू कर दिए थे। वो बैठकर एक अंपायर की तरह देखते थे। लेकिन निर्णय कोई नहीं देते थे। सिर्फ गेम का आनंद लेते थे।

एक दिन सुभाष से उन्होंने पूछा ये क्या चला रहे हो। ऊपर से कुछ मकड़ियां गिर रही है इसमें। ये कैसा गेम है। तो सुभाष ने कहा ये हम मकड़ी पका रहे हैं। चलो ठीक है पकाओ, पकाओ कहते बाहर चले गए।

उम्मीद लगाए बैठे हम लोगों की आस अब थक भी रही थी। हम सबको पता चल रहा था कि अब कुछ नहीं होने वाला है। होते करते दादू ने दो नई नियुक्ति करा दी। तब थोड़ी हिम्मत जक गई की अब काम फिर से शुरू होगा।

आखिर गेम की एक सीमा होती है। हम हद से ज्यादा आगे निकल गए थे। खेलने का मन भी नहीं होता था। काम न होने की वजह से कैसे भी समय काटना था। दो नियुक्ति में एक तो तुरंत ही हमारे रंग में रंग गया।

गेम खेलना सीख गया। फिल्मों का काफी शौकीन था। गेम बंद तो फिल्में शुरू। फिल्मों की बात आ गई तो ऐसा कोई फिल्म नहीं होती थी जो रिलीज होने के बाद हमारे ऑफिस में न मिले। यू कहे तो हम एक नया विजनेस कर सकते थे।

दूसरी कम्पनी के लोग हमसे फिल्में मांगने आते थे। हर शुक्रवार यही कहते कि आज ये नई फिल्म आ रही है भाई डाउनलोड कर देना। कोई अपनी पुरानी फिल्मों की फरमाइश भी होती थी। हम सब तो माहिर थे इस बात में फिल्म तो सबको बांटना है। आखिर दान का काम जो ठहरा था। दान जितना भी करो कम होता है।

ऑफिस के अंदर सुबह 10 बजे से चहल-पहल शुरू हो जाती थी और शाम के 6 बजते ही खत्म हो जाती।

दादू भी अजीब थे। अब तो वो और कम आने लगे थे। बस कोई ख़ास बुलावे पर आकर दर्शन देकर चले जाते थे।

उनका आना और जाना कुछ पता नहीं चलता था। एक बात तो साफ थी उनके आते ही कुछ लोगों से काम की लगन ज्यादा बढ़ जाती थी। सिर्फ दिखाने के लिए की वो कितने कर्मठ हैं। और जाते ही बैग कंधे पर टंग जाता था। सारी कर्मठगीरी फिर धरी रह जाती थी।

हर दिन ऐसे ही कटता गया। एक एक दिन करके सालों बीत गए थे। और हालात ऐसे ही थे। सब हम पर हंसते थे। हम भी कुछ नहीं थे। अपनी घर की बुराई दूसरों से करने में नहीं चूकते थे। अरे भाई घर की बुराई से हमारा मतलब ऑफिस है। अब तो वो हमारे घर जैसा हो गया। कभी भी आओ और जाओ। कुछ भी करो, कितना भी आपस में लड़ो, कुछ देर बाद फिर एक साथ नज़र आते थे।

सुजीत जो बॉस का खास बन गया था। उसे देखकर दिल में गुस्सा आने लगा था। हमें भी आता था कभी-कभी और कुछ लोग तो मुंह में राम बगल में छुरी वाला भी काम करते थे। हमें जो कुछ कहना था फट से उसके सामने कह देते थे। मैंने पहले बताया था कि नामकरण का शौक तो पूरे ऑफिस में सबको था। मै भी पीछे नहीं था इस बात में। सुजीत का नाम मुनीम मैंने रखा और वो मार्केट में आग की तरह फैल गया। अब लोग उसे मुनीम कहने लगे थे। जिसे देखो इस नाम से उसे परिभाषित करता था। कुछ लोगों से तो इस बात को लेकर वो लड़ बैठा था। तभी ऑफिस में इक शहनाई बजने जा रही थी। वो शहनाई तृष्णा नाम की लड़की की थी।

आखिर काफी दिनों बाद एक खुशी का मौसम आ रहा था। सबको एक बार फिर से मिलने का मौका मिल रहा था। तृष्णा की शापिंग भी जोरों पर चल रही थी। हर दिन ऑफिस में आकर सिस्टम पर देखना की क्या खरीददारी करे। सबसे पूछना की ये साड़ी कैसी लग रही है। हम सब भी काफी उत्साहित थे। शादी में जाना है।

अब तो ऑफिस में किसी की शादी हो रही थी। और हम फिर जुट गए थे अपने काम पर। वो काम कुछ और नहीं गिफ्ट के लिए पैसा इकठ्ठा करना था। दादू को बात पता चलते ही कड़ी कड़ी दो नोट 500 रूपए की बाहर आई। आखिर वो दिन आ गया था जिसका हम बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। शादी की दिन । तृष्णा करीब 20 दिन की छुट्टियों पर चली गई थी। अब पूरे दफ्तर में हम 6 लोग बच गए थे. दादू को हम गिनते नहीं थे। आखिरकार वो हमारे बॉस थे।

शादी का गिफ्ट लेकर हम गए और खूब मजे किए। चलो अब थोड़ा आराम मिला था भले ही एक ही दिन के लिए था। दिमाग में चल रही हलचल से सुकून नाम का एक शब्द आ गया था। फिर से दूसरे दिन से वही पुराना काम चालू हो गया।

ऑफिस जाना बहसबाजी करना और गेम खेलना, फोन को पीसीओ बना देना। दो –तीन महीनों की छुट्टियों के बाद तृष्णा का आगमन ऑफिस में होता है। वह अपने साथ मिठाइयां लाती है। शादी की खुशी में पूरे ऑफिस के साथ दूसरे ऑफिस के लोगों में बांटती है। खुशियों की मिठाइयां खाकर अभी जुबान का ठीक से स्वाद नहीं बदला था। हम बचे 6 लोगों में फिर से दो छुट्टियों पर चले गए। ऐसा लगता था कि एक आए और दूसरा जाए की प्रक्रिया चल रही हो।

ऑफिस के इस सूखे में जो हम सब बारिश की आस लगाए बैठे थे। कि कब मालिक का रहम करम हमारे ऊपर आएगा। इसे दोबारा से पहले जैसा बना कर नई शुरूआत कब होगी। ये सोच रहे थे।

एक दिन हम सब ऑफिस में बैठकर जो काम था कर रहे थे। दोपहर के बाद खाना खाकर दोबारा से काम चालू किया गया था कि तभी दादू आए। और क्या चल रहा है कहकर बैठ गए। थोड़ी देर के बाद वहां से चलते बने। हमें तो कुछ पता भी नहीं चला। हम तो सूखे में बारिश की आस लगाए बैठे थे। पर उस दिन तो तूफान आ गया था। शाम को कुछ लोगों की शिफ्ट खत्म हो गई थी वो चले गए थे। हम 4 लोग बचें हुए थे। तभी एचआर का फोन आता है।

ऊपर आकर मिलो कुछ बात करनी है। मीटिंग है। हमें तो अंदेशा पहले से हो गया था। कुछ तो गड़बड़ है। यही बात मैं अपने साथी कर्मचारियों से कह रहा था। ऊपर जैसे ही पहुंचा तो बस एक ही बात की रट लगाई जा रही थी। सभी लोग अब इस्तीफा दे दो। अगर अपनी सैलेरी चाहते हो तो। ये आप का चेक बन कर रखा है। इसके साथ एक महीने का वेतन और मिलेगा आप लोगों को जो कि अगले महीने दिया जाएगा। हम सब के आंख मे आंसू थे। आखिर हम दोबारा से रिलांच का ख्वाब देख रहे थे। और हम सब को बाहर कर दिया गया। कसूर उनका भी नहीं कह सकते हमने ही इतनी सारी गलती की थी। जो कि एक ऑफिस की मर्यादा से कही आगे थी।

बस हमारे लिए सबसे दुख की बात थी कि दो-तीन साल से वेतन नहीं बढ़ा था। इसलिए हम लोग भी काम करने में ज्यादा मन नहीं लगा रहे थे।

इस्तीफे से पहले दादू से बात की। उन्होंने कहा कि उनसे कहा गया था कि सबको बोल दे उन्होंने मना कर दिया। अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि तुम लोग बात कर लो।

फील्ड़ के कर्मचारी सुभाष का छुट्टियां पर जाना हमारे लिए हमेशा वहां से हमेशा की छुट्टी का रास्ता खोल दिया।

सुभाष के छुट्टी पर जाने के बाद दादू ने जो मेल किया था सुभाष की जगह कुछ दिनों के लिए किसी और को फील्ड पर भेज दो। लेकिन क्या पता था कि दादू के इस मेल का गलत परिणाम होगा और हम सबको वहां से घर भेज दिया जाएगा। अब क्या था हम बेरोजगार हो चुके थे। हमारे पास अब न ऑफिस बचा था न ही वो दोस्त जो नए ऑफिस में बने थे। जो हंसते थे कि क्या काम होता है तुम्हारे ऑफिस में।

हम सब एक दूसरे से बिछड़ गए थे। अब सिर्फ यादें रह गई थी। वो चाय की दुकान पर बैठकर चाय पीना वो सिगरेट के छल्ले बनाना। वो ऑफिस में आपस में झगड़ा करना। समय न पास हो तो गेम खेलना। गेम तो जैसे अब रह ही न गया हो। अब कोई जोश नहीं था लेवल पार करने का। हम अपने जिंदगी के लेवल में फिर से उलझ गए थे। दूसरी जगह जॉब की तलाश में दर-बदर भटकने लगे थे। रूम पर बैठे-बैठे खाली समय में बस यही सोचते कुछ भी था पर एक ऑफिस ऐसा भी था जिसमें हम मनचाहा काम करते थे।

clip_image002[7]

रवि विनोद श्रीवास्तव

Email-ravi21dec1987@gmail.com

लेखक, कवि, कहानीकार, व्यंगकार

शिक्षा: माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय से परास्नातक किया है

सम्पर्क सूत्र- ravi21dec1987@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget