शनिवार, 6 जून 2015

खोने लगे हैं मूल्य और संस्कार

image

डॉ. दीपक आचार्य

जब तक मूल्यों का दबदबा था तब तक सभी प्रकार की अच्छाइयों का मूल्य था। जब से मूल्यहीनता का दौर आरंभ हुआ है सभी प्रकार के मूल्यों में गिरावट आयी है। मूल्यों में जब एक बार गिरावट आ जाती है तब यकायक इसका पारा ऊपर नहीं चढ़ पाता। यह कोई सेंसेक्स या रुपए के मूल्यों के उतार-चढ़ाव जैसा नहीं है। इसके लिए सदियां लग जाती है। और फिर यह जरूरी भी नहीं कि मूल्यों की पुनस्र्थापना

एक बार मूल्यों में गिरावट आ गई तो फिर आ ही गई। इसका खामियाजा हम सभी को भुगतना पड़ता है। यही नहीं तो आने वाली जाने कितनी पीढ़ियों तक को मूल्यहीनता की वजह से संघर्ष करना पड़ता है। मूल्यहीनता का मूल कारण यही है कि हमने सुविधाओं, साधनों और मुद्राओं को अधिक तवज्जो देनी शुरू कर दी है और संस्कारों तथा मानवीय मर्यादाओं को हाशिये पर ला खड़ा कर दिया है।

रुपया-पैसा हर किसी के जीवन निर्वाह के लिए जरूरी है लेकिन जब यह सारे संबंधों, आत्मीयता, माधुर्यपूर्ण व्यवहार, सिद्धान्तों और आदर्शों से ऊपर और एकमेव आराध्य हो जाए तब ही मूल्यहीनता का जन्म होता है। आजकल सभी स्थानों पर इसी वजह से समस्याएं देखी जा रही हैं।

अब हम सभी लोग हर किसी का मूल्य आँकने लग गए हैं। जो हमारे लिए लाभ का होता है उसके लिए जान न्यौछावर कर देते हैं, उसके लिए सब कुछ कर गुजरने को तैयार रहते हैं भले ही वह कितना ही गया गुजरा ही क्यों न हो। कुछ लोग किसी काम के नहीं होते लेकिन ऎसे लोग भी कुछ लोगों के खास इसलिए हो जाते हैं क्योंकि इनका वैचारिक धरातल एक जैसा होता है और यही कारण है कि नुगरे लोग नुगरों के ही काम आते हैं।

सेवाओं में जब तक कत्र्तव्य के प्रति वफादारी और समाज के लिए जीने की भावनाओं का समावेश होता है तभी तक मूल्यों का वजूद बना रहता है। यह मूल्य हमारे अपने लिए भी स्वीकार्य हैं और समाज के लिए भी। मुद्रा के प्रति हमारा अत्यधिक झुकाव ही वह सबसे बड़ा कारण हो गया है कि आजकल इंसान के दिल और दिमाग से लेकर सब का संतुलन बिगड़ गया है। इस असंतुलन का परिणाम समाज, अपने क्षेत्र और देश पर भी दृष्टिगोचर होने लगा है।

रोजमर्रा की जिन्दगी से लेकर सामुदायिक कर्म तक में जिस लगन और उत्साह से हमें मानवोचित मर्यादाओं और संवेदनाओं का संतुलन बनाए रखने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए, उसमेंं हम अब पूरी तरह फिसड्डी साबित होते जा रहे हैं।

जहाँ हमारा लक्ष्य सेवा और परोपकार तथा मानव मात्र और समुदाय के प्रति समर्पित भाव से जीना होना चाहिए उसकी बजाय हम सभी लोग अपने ही अपने लिए जीने के आदी होते जा रहे हैं। हमें न कुटुम्बी दिखते हैं न समाज दिखाई देता है, और न ही अपनी मातृभूमि, जिसके लिए पूरा जोर लगा कर साल भर में कई-कई बार मजमा जमा कर ‘भारत माता की जय’ बोलते रहे हैं।  जीना उसी को कहते हैं जिसमें हम औरों के लिए जीते हैं। जो अपने लिए जीते हैं उनका जीवन तो भार ही कहा जा सकता है।

पूरी दुनिया अब नवीन मापदण्डों पर जीने की आदी होती जा रही है जहाँ हर इकाई अपने आपको संप्रभु और सर्वशक्तिमान बनकर देखना और दिखाना चाहती है और व्यवहार भी ऎसा ही करती है जैसे कि वह ईश्वर ही हो। अपने ही अपने बारे में सोचने और घर भरने की जिस मानसिकता को हम पाल चुके हैं उससे तो यही लगता है कि हम वापस जंगलों के रास्ते चल पड़े हैं जहाँ वह सब कुछ चलता है जो हर संघर्ष का आदि स्रोत विद्यमान होता है जहाँ एकाधिकार और अधिनायकवादी मनोवृत्ति के सिवा अच्छा और सच्चा कुछ नहीं होता।

आजकल कोई भी इंसान निष्काम सेवा और परोपकार की भावना से काम करता दिख जाता है तो उसके बारे में कई सारी विचित्र टिप्पणियां सामने आ जाती हैं। तरह-तरह की बातें होने लगती हैं और लगता है कि जैसे बिना कुछ लिए या श्रेय प्राप्ति की कामना के बगैर कुछ भी करना अब इंसानियत के दायरों से बाहर निकल चुका है।

और तो और समुदाय के लिए कोई थोड़ा सा अच्छा काम करने लग जाता है तो दूसरे लोग उसके पीछे पड़ जाते हैं और कई प्रकार की बाधाएं खड़ी करते हुए उसे नीचे गिराने तथा उ सका नीचा दिखाने के षड़यंत्र शुरू कर दिया करते हैं।

फिर आजकल तो सब तरफ काफी कुछ लोग ऎसे ही मिलते जा रहे हैं जिनका मूल्यों से कोई लेना-देना नहीं है। इन्हें किसी भी मूल्य पर खरीदा और बेचा जा सकता है। किसी भी युक्ति को अपना कर मुँह बंद-खोल किया जा सकता है, कुछ भी बुलवाया और करवाया जा सकता है।  अब आदमी जरखरीद गुलामों से लेकर रोबोट तक की सारी भूमिकाएं करने को तैयार है, शर्त यही है कि किसी भी तरह की मुद्रा का करंट मिलता रहे।  संसार भर में मुद्राराक्षसों का कमाल हर तरफ दिखने और बोलने लगा है।

इन लोगों को सिर्फ अपनी मूल्यवत्ता में बढ़ोतरी करते हुए शिखर पा जाने से मतलब है, बाकी दुनिया जाए भाड़ में। जब से इंसान के सामाजिक और देशज सरोकारों में कमी आने लगी है तभी से  मूल्यहीनता का दौर परवान पर है और यही कारण है कि निष्काम भाव से की जाने वाली समर्पित सेवाओें तक को लोग न दिमाग से स्वीकारते हैं, न दिल से इसका कोई अहसास करते हैं।

---000---

-  डॉ. दीपक आचार्य

9413306077

dr.deepakaacharya@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------