रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

हास्य-व्यंग्य : दफ़्तर का नियम

image

 

- हनुमान मुक्त

काफी दूर से चलकर पहुंचा था। पूछता हुआ, संबंधित सरकारी दफ़्तर में घुस गया। एक बैंच पर रामभरोसे बैठा-बैठा ऊंघ रहा था। सारा दफ़्तर करीब-करीब खाली पड़ा था। करीब-करीब शब्द इसलिए काम में लेना पड़ रहा है। चूंकि ऑफिस में कार्मिक के अलावा, कुत्ते, बिल्ली, चूहे भी विचरण कर रहे थे। उनकी मौजूदगी को नजरअंदाज करना भी ठीक नहीं। लंच टाइम चल रहा था। रामभरोसे को ऊंघते देख मुझे भी आलस्य आने लगा। मैं उसके बगल में बैठा ही था कि रामभरोसे ने मेरा हाथ पकड़ लिया। बोला- ठहरो, ठहरो। यह क्या कर रहे हो।

मैंने कहा- थकान आ रही है। मैं भी थोड़ी सी झपकी लेना चाहता हूं।

उसने कहा- तुम यहां झपकी नहीं ले सकते। यहां वही झपकी ले सकता है जिसे यहां से तनख्वाह मिलती है।

क्या मतलब? मेरा माथा ठनका

 

हां। यही सरकारी दफ़्तर का नियम है। जिसे जहां से तनख्वाह मिलती है। वह वहीं सो सकता है और वह भी तब, जब ऑफिस चल रहा हो।

यदि मैं रात को आकर यहां सोना भी चाहूं तो नहीं नहीं सकता। क्योंकि मुझे रात की तनख्वाह नहीं मिलती। यहां वही आकर सो सकता है जिसे रात की तनख्वाह मिलती हो। रात के चौकीदार को ही तुम यहां रात में सोते हुए देख सकते हो।

मैंने कहा, यह तो गलत है। तनख्वाह कोई सोने की थोड़े ही मिलती है। जो वह सो सकता है। तनख्वाह चौकीदार को रात में जागने की, चौकीदारी की मिलती है और तुम कह रहे हो कि सिर्फ वही सो सकता है।

 

रामभरोसे मेरी ओर घूरता हुआ बोला, यह तुम मुझे क्यों समझा रहे हो। मेरे लिए यही सरकारी आदेश है।

तुम हमारे साहब से बात करो। वे रेस्ट हाउस में रेस्ट कर रहे हैं।

उसके कहने के साथ ही मेरे जेहन में एक छोटे से सरकारी ऑफिस से लेकर संसद तक बैठे वेतन भोगियों तक का खाका खिंच गया। तभी दफ़्तर में एक व्यक्ति आया और एक सीट पर आकर बैठ गया। शायद लंच टाइम खत्म हो गया था।

तभी रामभरोसे ने एक छोटी सी नोट बुक निकाली और उसमें कुछ इन्द्राज करने लगा।

मैंने कहा- यह क्यों लिख रहे हो?

 

उसने कहा- हिसाब रखना पड़ता है। अखबार में छपने वाले समाचारों के पहले पैराग्राफ के चारों ककारों (कौन, कब, कहां, क्यों) का प्रयोग हमें भी करना पड़ता है।

कौन व्यक्ति कब आया? उससे मिलने कौन-कौन कहां-कहां से और क्यों आए?

सरकार और पार्टियों में बने गुटों की तरह यहां भी दो गुट बने हुए हैं। कौन गुट कितनी देर बाहर रहा। कब सीट पर बैठा और कब उठकर चला गया। इस सबका हिसाब रखना पड़ता है।

लेकिन तुम अभी तो ऊंघ रहे थे। फिर तुम्हें कैसे पता चला कि कौन, कब आ रहा है और कब नहीं? मैंने कहा।

 

वह बोला- यही तो...। हमारी खासियत है। हम सोते हुए से दिखते हैं लेकिन सही मायने में सोते नहीं है। उसी तरह जैसे हम काम करते हुए से दिखते हैं लेकिन हम काम करते नहीं। लोग समझते हैं कि हम कुछ कर रहे हैं और वे गलती कर बैठते हैं। मुझसे पहले मेरी सीट पर श्यामभरोसे था। उसे किसी ने चाय में नींद की गोली खिला दी और वह उस दिन की रिपोर्टिंग करना भूल गया। शाम को साहब ने उसकी सीट बदल दी। अब उसको रात में सोने का काम है।

मैं राम भरोसे से बात कर रहा था और ऑफिस में कुछ लोग धीरे-धीरे इधर-उधर से आकर छोटे साहब के कमरे में घुसते जा रहे थे। वहां गर्मागर्म बहस चल रही थी।

एक कार्मिक बड़ी ही भावुकता से कह रहा था। साहब यह साधारण बात नहीं है कि एक मंत्री के गाल पर कोई तमाचा मार दे।

मंत्री। यह वह पद है जिसे कोई भी व्यक्ति पाकर मुटिया जाता है। उसके गाल मुटिया जाते हैं। अच्छे-अच्छे लोग उन्हें छूने का, चिपकने का आनन्द लेना चाहते हैं लेकिन उन्हें यह अवसर सहज ही प्राप्त नहीं होता।

 

ऐसे मुटियाये गालों पर थप्पड़ मारना कोई साधारण बात नहीं है, यह मंत्री का ही नहीं सारे सरकारी वेतन पर गुजारा करने वालों का अपमान है।

आखिर उन्हें थप्पड़ खाने की तनख्वाह मिलती है क्या? जिस खाने की तनख्वाह मिल रही है उसे वे बड़ी शालीनता के साथ खाते आ रहे हैं। फिर ऐसी गुस्ताखी क्यों?

तभी दूसरा कार्मिक बोला- बिल्कुल सही। यह सब हमारा अपमान है। लोकतांत्रिक देश में लोकतंत्र का अपमान है। हम सब यह अपमान नहीं सहेंगे। इस प्रकार यह कहते हुए वे एक साथ बाहर आ गए। धीरे-धीरे उन्होंने अपने बैग और गाड़ियां संभाली और अपने-अपने घरों की ओर मंत्रीजी के अपमान का बदला लेने के लिए रवाना हो गए।

 

Hanuman Mukt

93, Kanti Nagar

Behind head post office

Gangapur City(Raj.)

Pin-322201

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget