बुधवार, 24 जून 2015

वर्तन परिवर्तन : मनुष्य का कर्तव्य

image

वर्तन परिवर्तन - हर्षद दवे

१३. मनुष्य का कर्तव्य

जेल से भागे हुए एक कैदी के पीछे पुलिस लगी हुइ थी. कैदी जंगल में छिप गया परन्तु उसे लगा आसमान से गिरे तो खजूर में अटके! एक शेर बिलकुल उसके सामने आ गया! कुछ परेशान सा लग रहा था वह. बाहर पुलिस और सामने साक्षात् यमराज! पर यह क्या? शेर ने उस पर हमला नहीं किया. कैदी ने ध्यान से देखा तो नजर आया कि शेर के पंजे में एक कांटा चुभा हुआ था. उसे शेर पे तरस आ गया, उस ने कांटा निकाल दिया. शेर आराम से जंगल में चला गया.

किन्तु बाद में सैनिकोने ने उस कैदी को पकड़ लिया. राजा ने उसे सब के सामने मृत्यु दंड दिया. एक दिन सभी नगरजनों के सामने उसे शेर के पिंजड़े में डाल दिया गया. परन्तु शेर ने उस को नहीं मारा. क्यों? शेर अपने पंजे से कांटा निकालनेवाले मनुष्य को कैसे मार सकता था! यदि आप ऐसा सोचते हैं तो आप का सोचना बिलकुल सही है. बचपन में इसी कथा के माध्यम से समझाया जाता था कि अच्छे काम का नतीजा हमेशा अच्छा ही होता है.

जीवन में यह बहुत बड़ी बात है. एक आदमी है जो उपकार को भूल जाता है. ऐसी कइं घटनाएं हैं जो कुत्ते की वफादारी को या प्राणीयों के प्रेम को दर्शातीं हैं. ऐसी फ़िल्में भी हमने देखीं हैं जैसे कि 'हाथी मेरे साथी'. परन्तु एक मनुष्य दूसरे मनुष्य के प्रति इतना स्नेह-प्रेम नहीं दर्शाता! शायद मनुष्य सोच पाता है, क्या यही तो कारण नहीं इस का ? वह हरएक बात को तर्क या लाभ-हानि की दृष्टि से ही देखता है. शायद मनुष्य ही ऐसा प्राणी है जो अपना कोई नुक्सान न होने पर भी दूसरे की उन्नति होती देखकर प्रसन्न नहीं होता!

जब एक मनुष्य दूसरे मनुष्य के बारे में सोचता नहीं है या उसकी अवज्ञा करता है तब वह अपना मनुष्यधर्म चूक जाता है. मनुष्य के कर्तव्य का पालन करना प्रत्येक मानवी का धर्म है. अतः इसे पढ़ने के बाद यदि आप समर्थ हैं तो कम से कम किसी को हफ्ते में एक बार अवश्य सहायता करें. तब देखना, आप को भीतर से अजब सा सुकून मिलेगा.

=====================================================

hdjkdave@gmail.com

वर्तन परिवर्तन श्रृंखला के अंतर्गत लिखित हर्षद दवे के कुछ अन्य आलेख यहाँ पढ़ें

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------